Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

उत्तराखंड : सरकार की स्वास्थ्य सेवाओं का असर, प्रदेश में शिशु मृत्यु दर में सुधार

उत्तराखंड सरकार के लिए एक राहतभरी खबर है। स्वास्थ्य विभाग की योजनाओं और सजगता के कारण प्रदेश में शिशु मृत्यु दर का औसत घटा है। पिछले 10 साल में उत्तराखंड का शिशु मृत्यु दर देश के औसत दर से नीचे आया है। केंद्र सरकार के सैंपल रिसर्च सिस्टम (एसआरएस) की सर्वे रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है।

उत्तराखंड : सरकार की स्वास्थ्य सेवाओं का असर, प्रदेश में शिशु मृत्यु दर में सुधार

उत्तराखंड सरकार के लिए एक राहतभरी खबर है। स्वास्थ्य विभाग की योजनाओं और सजगता के कारण प्रदेश में शिशु मृत्यु दर का औसत घटा है। पिछले 10 साल में उत्तराखंड का शिशु मृत्यु दर देश के औसत दर से नीचे आया है। केंद्र सरकार के सैंपल रिसर्च सिस्टम (एसआरएस) की सर्वे रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है।

प्रदेश में जब आज से 11 साल पहले 2008 में शिशु मृत्यु दर पर सर्वे किया गया था तो प्रति 1000 पर 38 बच्चो की मौत हो जाती थी पर अब प्रदेश में मृत्यु दर का औसत 32 आ गया है। ग्रामीण क्षेत्र में 33 व शहरी क्षेत्रों में शिशु मृत्यु दर का आंकड़ा प्रति हजार बच्चों पर 30 का है।

स्वास्थ्य विभाग के सचिव नितेश कुमार झा ने कहा कि शिशु मृत्यु दर कम होना उत्तराखंड के लिए एक बड़ी उपलब्धि है। सरकार के द्वारा बेहतर स्वास्थ्य सुविधाए मुहैया कराई जा रही है साथ ही सभी चिकित्सको ने अपना सौ प्रतिशत दिया इसलिए ऐसा हो सका। इसे आगे और बेहतर किया जाएगा।

स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. रविंद्र थपलियाल ने कहा कि प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाएं लगातार सुधर रही है। जिसकी वजह से ये सकारात्मक नतीजे आए हैं। सरकार की ओर से संस्थागत प्रसव कराने के लिए गर्भवती महिलाओं को कई तरह की सुविधाए दी जा रही हैं। शिशु मृत्यु दर के मामले में भारत का केरल राज्य सबसे आगे है।



Next Story
Top