Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

योगी के मंत्री का अधिकारियों पर हमला- ''नीची जाती का हूं इसलिए अधिकारी नहीं देते महत्व''

राजभर ने योगी सरकार पर जातिवाद का आरोप लगाते हुए कहा कि नीची जाति का होने के कारण उन्हें अधिकारी भी महत्व नहीं दे रहे हैं।

योगी के मंत्री का अधिकारियों पर हमला- नीची जाती का हूं इसलिए अधिकारी नहीं देते महत्व
X

यूपी के कैबिनेट मंत्री और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्‍यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने एक बार फिर अपनी ही सरकार और प्रशासनिक अधिकारियों के खिलाफ हमला बोला है।

राजभर ने योगी सरकार पर जातिवाद का आरोप लगाते हुए कहा कि नीची जाति का होने के कारण उन्हें अधिकारी भी महत्व नहीं दे रहे हैं।

अपने प्रोटोकॉल में किसी अधिकारी के नहीं होने पर भड़के राजभर ने आपत्तिजनक बयान देते हुए कहा कि अगर वह ऊंची जाति के होते तो प्रशासनिक अधिकारी उनके भी आगे-पीछे दुम हिलाते।

इसे भी पढ़ें- 'राहुल गांधी में नेतृत्व क्षमता नहीं है, वो बस कांग्रेस ने नेता हैं'

दरअसल, बहराइच दौरे पर पहुंचे कैबिनेट मंत्री के प्रोटोकॉल में गुरुवार को कोई भी अधिकारी नहीं दिखा। इससे राजभर बेहद नाराज दिखे। अपनी ही सरकार के खिलाफ बागी तेवर अपनाए राजभर ने अधिकारियों के नहीं पहुंचने पर एक बार फिर योगी सरकार पर हमला बोला।

राजभर ने कहा, योगी सरकार में जातिवाद हावी है। सभी बड़े नेताओं के रिश्तेदार प्रदेश में ऊंचे पदों पर तैनात हैं। मैं ऊंची जाति का होता तो मेरे भी आगे-पीछे प्रशासनिक अधिकारी दुम हिलाते। लेकिन मैं नीची जाति का हूं इसलिए मुझे गार्ड ऑफ ऑनर तक नहीं मिला।

जाति देखकर टिकट देने का आरोप

बता दें कि एक दिन पहले बुधवार को ही राजभर ने भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए पार्टी में जातिवाद और परिवारवाद हावी होने का आरोप लगाया था। राजभर ने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा था कि भाजपा भी जाति देखकर टिकट देती है और मंत्री बनाती है।

साथ ही राजभर ने भाजपा के बड़े नेताओं के रिश्‍तेदारों को माध्‍यमिक शिक्षा चयन बोर्ड में शामिल किए जाने का आरोप भी लगाया था।

इसे भी पढ़ें- PWD Scam: गिरफ्तारी के बाद केजरीवाल का भांजा बेहोश, कोर्ट ने न्यायिक हिरासत में भेजा

योगी सरकार पर साधते रहे हैं निशाना

इससे पहले भी राजभर योगी सरकार पर निशाना साधते रहे हैं। योगी पर आरोप लगाते हुए कैबिनेट मंत्री ने कहा था, पांच-छह बड़े अधिकारी सीएम को जो समझा रहे हैं, वह उसी को मान रहे हैं। पर, जब कोई जनप्रतिनिधि जनता का दर्द बताता है तो वह सुन नहीं रहे हैं।

वहीं शराबबंदी के मुद्दे पर राजभर ने कहा था, मैं सदन में अब तक 16 बार शराबबंदी को लेकर आवाज उठा चुका हूं मगर योगी सरकार नहीं सुनती। सूबे में शराबबंदी की मांग को अनसुना करने के कारण मुख्यमंत्री से वैचारिक लड़ाई का ऐलान करता हूं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story