Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

इन्वेस्टर्स समिट: पीएम ने यूपी को दी ''डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर'' की सौगात, ढाई लाख लोगों को मिलेगा रोजगार

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को उत्तर प्रदेश में डिफेंस इंडस्ट्रियल कारिडोर (रक्षा साजो-सामान बनाने वाले उद्योगों की पट्टी) विकसित करने का ऐलान करते हुए कहा कि इसमें 20 हजार करोड़ रूपए के निवेश की संभावना है

इन्वेस्टर्स समिट: पीएम ने यूपी को दी डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर की सौगात, ढाई लाख लोगों को मिलेगा रोजगार
X

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को उत्तर प्रदेश में डिफेंस इंडस्ट्रियल कारिडोर (रक्षा साजो-सामान बनाने वाले उद्योगों की पट्टी) विकसित करने का ऐलान करते हुए कहा कि इसमें 20 हजार करोड़ रूपए के निवेश की संभावना है और यह ढाई लाख लोगों के लिए रोजगार के नए अवसरों का निर्माण करेगा।

प्रधानमंत्री ने यहां राज्य सरकार द्वारा आयोजित वैश्विक निवेशक सम्मेलन ‘यूपी इन्वेस्टर्स समिट‘ का उद्घाटन करने के बाद एक महत्वपूर्ण घोषणा करते हुए कहा कि इस वर्ष बजट में प्रस्ताव रखा गया था कि देश में दो रक्षा औद्योगिक कारिडार का निर्माण होगा।

इनमें से एक उत्तर प्रदेश में प्रस्तावित है। उन्होंने कहा, बुंदेलखंड के विकास को विशेष तौर पर ध्यान में रखते हुए तय किया गया है कि उत्तर प्रदेश में डिफेंस इंडस्ट्रियल कारिडार का विकास आगरा, अलीगढ, लखनऊ, कानपुर, झांसी और चित्रकूट तक होगा।

इस कारिडार में 20 हजार करोड रूपए के निवेश की संभावना है और ये ढाई लाख लोगों के लिए रोजगार के नए अवसर का निर्माण करेगा।

यह भी पढ़ेंः UP Investors Summit 2018: पीएम मोदी के भाषण की 10 बड़ी बातें

एक्सप्रेसवे से बुंदेलखंड क्षेत्रों में तेजा होगा औद्योगिकीकरण

मोदी ने कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेसवे और बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे से पूर्वांचल एवं बुंदेलखंड क्षेत्रों का औद्योगिकीकरण तेजी से होगा।

उत्तर प्रदेश सरकार की ‘वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट' योजना ‘गेम चेंजर' बताते हुए उन्होंने कहा कि इस योजना को केन्द्र की स्किल इंडिया, स्टैंड अप, स्टार्ट अप और प्रधानमंत्री रोजगार प्रोत्साहन योजना से मदद मिलेगी।

‘वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट' योजना और मुद्रा योजना का तालमेल करके प्रदेश में एमएमसएमई सेक्टर के कायाकल्प का रास्ता बहुत आसान हो जाएगा।

प्रतिस्पर्धा क्षमता जितनी अधिक होगी निवेश उतना अधिक होगा

प्रधानमंत्री ने कहा कि महाराष्ट्र ने अपनी अर्थव्यवस्था को ट्रिलियन डालर (1,000 अरब डालर या करीब 65,000 अरब रुपए) की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य रखा है। उत्तर प्रदेश उसके साथ यह प्रतिस्पर्धा शुरू करे कि कौन सा राज्य पहले ट्रिलियन डालर इकानामी के लक्ष्य को प्राप्त कर सकता है।

यह प्रतिस्पर्धा क्षमता जितनी ज्यादा होगी, उतनी ही राज्य में निवेश बढे़गा और राज्य का विकास होगा, एवं रोजगार के नए अवसर बनेंगे।

यह भी पढ़ेंः उत्तर प्रदेश इन्वेस्टर्स समिट 2018: यूपी में 25 हजार करोड़ निवेश करेंगे कुमारमंगलम बिड़ला, 40 हजार लोगों को मिलेगा रोजगार

11 शहरों में विकसित किए जा रहे हवाई अड्डे

पीएम मोदी ने कहा कि राज्य में लखनऊ, वाराणसी और गोरखपुर में तीन अंतरराष्ट्रीय हवाई अडडे पहले से हैं। अब कुशीनगर और जेवर में दो नए अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट बनाने का काम शुरू किया जा रहा है।

उड़ान योजना के तहत आगरा, कानपुर, इलाहाबाद, बरेली, झांसी, चित्रकूट, मुरादाबाद, अलीगढ़ और आजमगढ़ जैसे 11 शहरों में हवाई अड्डों को विकसित किया जा रहा है। जल्द ही इन शहरों में भी हवाई उड़ान की सुविधा उपलब्ध होगी। ‘मेरा सपना है कि हवाई चप्प्ल पहनने वाला हवाई जहाज में सफर करने वाला बनना चाहिए।'

समिट से खुलेंगे निवेश की संभावनाओं के नए द्वार

प्रधानमंत्री ने उम्मीद जतायी कि इन्वेस्टर्स समिट उत्तर प्रदेश में नए निवेश की संभावनाओं के नए द्वार खोलने में सफल होगी।

केन्द्र सरकार के मंत्रियों, प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राज्य सरकार के मंत्रियों, विदेश से आए राजनेताओं और उद्योगपतियों, भारत के बड़े उद्योग घरानों के प्रमुखों की मौजूदगी में मोदी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में वैल्यूज (मूल्य) हैं, वरच्यूज (गुण) हैं लेकिन अब बदले समय में वैल्यू एडीशन (मूल्यवर्द्धन) की भी ज्यादा आवश्यकता है।

सिर्फ कार्य संस्कृति में ही नहीं, सिर्फ कारोबारी संस्कृति में नहीं बल्कि हर क्षेत्र में इसकी जरूरत है।

यह भी पढ़ेंः 'यूपी इन्वेस्टर्स समिट' में हिस्सा लेने जा रहे भाजपा विधायक की सड़क दुर्घटना में मौत

यूपी बन सकता है ग्रोथ इंजन

लखनऊ में आयोजित इन्वेस्टर्स समिट में व्यापक स्तर पर उद्योगपतियों और निवेशकों के जुटने को ‘बड़ा परिवर्तन' करार देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने राज्य को हताशा से निकालकर उम्मीद की किरण जगायी है, और अब यह राज्य देश का ‘ग्रोथ इंजन‘ बन सकता है।

उन्होंने कहा, पहले की स्थितियां क्या थीं, किन वजहों से थीं ये उत्तर प्रदेश के लोगों से बेहतर कोई नहीं जानता है। भय और असुरक्षा के माहौल में जब सामान्य नागरिक का जीवन जीना मुश्किल हो जाता है तो फिर उद्योगों के लिए सोच ही कैसे सकते हैं।

विकास की बात करना, नौजवानों को नए अवसर की बात करना, मध्यम वर्ग की आकांक्षाओं की बात करना मैं नहीं मानता कि ऐसा माहौल कभी संभव था।'मोदी ने कहा, ‘नकारात्मकता के माहौल से राज्य को सकारात्मकता की तरफ लाना, हताशा और निराशा से उसे अलग कर उम्मीद की किरण जगाने का काम योगी सरकार ने किया है।

न्यू उत्तर प्रदेश के निर्माण के लिए अब बुनियाद तैयार

उत्तर प्रदेश में अब वो बुनियाद तैयार हो चुकी है, जिस पर ‘न्यू उत्तर प्रदेश' की भव्य और दिव्य इमारत का निर्माण होगा। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में ताजमहल और सारनाथ है तो अयोध्या मथुरा काशी भी है।

यहां राम की लीला तो कृष्ण का रास भी है। यहां गंगा, यमुना है तो सरयू जी का आशीर्वाद भी है। यहां आईआईटी कानपुर, आईआईएम लखनऊ है तो बीएचयू जैसी महान संस्था भी है। यह उत्तर प्रदेश की वो ताकत है जिसके दम पर वह पूर्वी भारत का ही नहीं बल्कि पूरे देश का ‘ग्रोथ इंजन' बन सकता है।

अब उद्योगपतियों के लिए यूपी में रेड कारपेट

प्रधानमंत्री ने कहा कि औद्योगिक निवेश को रोजगार सृजन से जोडकर नीतियां बनायी जाती हैं और फैसले लिए जा रहे हैं। अलग-अलग क्षेत्रों के हिसाब से अलग-अलग नीतियां बनाकर काम किया जा रहा है। उत्तर प्रदेश में अब उद्योगपतियों के लिए ‘रेट टेपिज्म‘ (लाल फीताशाही) नहीं बल्कि ‘रेड कारपेट' होगा।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story