Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सीएम हेल्पलाइन में महिला कर्मचारियों के साथ बदसलूकी, 20 लड़कियों को बनाया बंधक

महिला दिवस के दूसरे ही दिन शुक्रवार को सीएम हेल्पलाइन के कॉल सेंटर में महिलाओं को प्रताड़ित करने का मामला सामने आया है।

सीएम हेल्पलाइन में महिला कर्मचारियों के साथ बदसलूकी, 20 लड़कियों को बनाया बंधक
X

महिला दिवस के दूसरे ही दिन शुक्रवार को सीएम हेल्पलाइन के कॉल सेंटर में महिलाओं को प्रताड़ित करने का मामला सामने आया है। इस दौरान टॉर्चर के कारण लड़कियां बेहोश हो गईं। इसके बाद उन्हें लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया। घटना की सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने भी महिलाओं को जेल में डालने की धमकी दी।

क्या है मामला

गोमतीनगर के विभूतिखंड में साइबर हाईट में सीएम हेल्पलाइन का ऑफिस है। जिसका काम बीपीओ स्योरविन नामक कंपनी देख रही है। यहां लड़कियों समेत कई टेलीकॉलर काम कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें- आतंकवाद पर अमेरिका का सख्त कदम, मुल्ला फजलुल्लाह समेत तीन आतंकियों पर रखा 70 करोड़ का इनाम

जानकारी के मुताबिक, महिला कर्मचारियों का कहना है कि तीन-चार महीने से उन्हें वेतन नहीं मिला है। इसके लिए कर्मचारियों ने कई बार मांग भी उठाई लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।

बेहोश हुईं लड़कियां

हद तो तब हो गई जब शुक्रवार की सुबह हेल्पलाइन की टेलीकॉलर 20 लड़कियों को एक कमरे में बंद कर दिया गया। पीड़ित लड़कियों ने आरोप लगाया कि उनके ट्रेनर और सुपरवाइजर अनुराग और आशुतोष ने उनसे सादे कागज पर साइन कराने की कोशिश की।

जब लड़कियों ने साइन करने से मना किया तो उन्हें धमका कर उनके साथ बदतमीजी की गई। साथ ही लड़कियों का दुपट्टा भी खींचा गया। इस पूरे घटनाक्रम का वीडियो भी अनुराग और आशुतोष ने बनाया। लड़कियों के साथ हुए इसी टॉर्चर से वह बेहोश हो गईं और दोनों ट्रेनर भाग निकले।

कर्मचारियों ने आरोप लगाया कि उन्होंने दो दिन पहले विभूतिखंड इंस्पेक्टर सत्येंद्र कुमार राय से मामले की शिकायत की थी लेकिन उलटा उन्हें धमकाया गया कि जेल में बंद कर देंगे तो तुम्हारा भविष्य बर्बाद हो जाएगा। वहीं टेलीकॉलरों ने मीडिया के सामने ही पुलिस को गालियां भी दीं।

कर्मचारियों ने किया हंगामा

हंगामे की सूचना पाकर एसपी नार्थ अनुराग वत्स मौके पर पहुंचे और लोगों को समझाने की कोशिश की। लेकिन कर्मचारी कंपनी के अफसरों और पुलिस पर कार्रवाई की मांग पर अड़े रहे।

उधर, सीएम हेल्पलाइन के कार्यालय के बाहर अन्य कर्मचारियों ने भी हंगामा करना शुरू कर दिया। इसके बाद बीपीओ ने लिखित शिकायत की है कि ये टेलीकॉलर्स काम नहीं करने दे रहे हैं। उनका कहना है कि कल सैलरी के लिए लड़कों ने धरना दिया था, जिसका बदला आज लड़कियों ने ऐसे लिया।

यह भी पढ़ें- वडाली ब्रदर्स ने पहली बार इस वजह से मंदिर में गाया था गाना, ऐसे बने सूफी गायक

अफसरों ने दिया आश्वासन

एसीएम अमित कुमार ने टेलीकॉलर्स को आश्वासन दिया है कि उन्होंने मैनेजमेंट से बात की है। जिन लोगों को भी सैलरी संबंधित समस्याएं हैं, उन्हें जल्द ही वेतन दिया जाएगा।

वहीं एसीएम ने यह भी कहा कि लड़कियों के उत्पीड़न बारे में भी मैनेजमेंट से बात की गई लेकिन उन्होंने आरोपों को निराधार बताया है। लेकिन अगर फिर भी लड़कियों से तहरीर मांगी गई है तो इस आधार पर मामले की जांच की जाएगी।

पुलिस को यहां जांच के दौरान एक बैग मिला है, जिसमें पेट्रोल से भरी एक बोतल मिली। बैग किसका था ये तो पुलिस को पता नहीं लग पाया है। हालांकि, करीब तीन घंटे की जद्दोजहत के बाद मामला शांत हुआ।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story