Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

उत्तर प्रदेश : प्रियंका गांधी का धरना खत्म, पीड़ित परिवार से की मुलाकात, कहा न्याय की लड़ाई जारी रहेगी

शुक्रवार देर रात कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा कि मैं गरीब आदिवासियों की व्यथा जानने आई हूं। उत्तर प्रदेश का प्रशासन मुझे नौ घंटे से गिरफ्तार करके किले में रखा हुआ है। प्रशासन कह रहा कि मुझे 50,000 की जमानत देनी है, नही तो मुझे 14 दिन की जेल की सजा दी जाएगी।

उत्तर प्रदेश : प्रियंका गांधी का धरना खत्म, पीड़ित परिवार से की मुलाकात, कहा न्याय की लड़ाई जारी रहेगी

सोनभद्र कांड के पीड़ितो से मिलने के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी का धरना खत्म हो गया। धरना खत्म करते हुए प्रियंका गांधी ने कहा कि उनका मकसद पूरा हुआ वह न्याय की लड़ाई लड़ती रहेंगी। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि पीड़ित परिवारों पर पुलिस द्वारा लगाए गए मुकदमें वापस होनी चाहिए।

योगी सरकार पर आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा की मिलीभगत से ही ये दुखद घटना हुई है। उन्होंने कहा न्याय की लड़ाई में मैं हमेशा पीड़ित परिवारों के साथ खड़ी हूं जब जरूरत पड़ेगी मैं तत्काल वापस आऊंगी।

उत्तर प्रदेश प्रशासन द्वारा प्रियंका को सोनभद्र में पीड़ितों से मिलने से रोके जाने ने बाद शनिवार को मृतक के परिजन स्वयं प्रियंका गांधी से मिलने मिर्जापुर के चुनार गेस्ट हाउस पहुंचे। कांग्रेस महासचिव ने सबसे मुलाकात ही और हर संभव मदद का आश्वासन दिया है।


वहीं सोनभद्र में प्रियंका गांधी से मृतक के पीड़ित परिवार से मुलाकात की है। इससे पहले वाराणसी एयरपोर्ट पर कांग्रेसी नेताओं को पुलिस ने रोक दिया है।

वहीं कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल आज शनिवार को सोनभद्र मामले पर राज्यपाल राम नाइक से मिलने पहुंचा। यहां उन्होंने राज्यपाल को एक पत्र सौंपा है। जिसमें 10 लोगों की जान जाने का दावा किया गया है।


कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरेजेवाला ने सोनभद्र मामले को लेकर भाजपा को कटघरे में खड़ा किया। उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार ने उत्तर प्रदेश को अपराध प्रदेश बना दिया। भाजपा अपराधियों से मिलकर गरीब आदिवासियों की जमीन का कब्जा करवाना चाहती है। सुरजेवाला ने आगे कहा कि प्रियंका को दो दिन से हिरासत में रखा गया। उन्हें पीड़ित परिवारों से मिलने नहीं दिया गया।

सोनभद्र जिले के घोरावल कोतवाली क्षेत्र के ग्राम उभ्भा में हुए नरसंहार के बाद मृतक के परिजनों से मिलने जा रही प्रियंका को शुक्रवार को उत्तर प्रदेश प्रशासन ने रोक दिया था। इसके बाद वह मिर्जापुर में ही धरने पर बैठ गई। उन्हें रोकने के लिए 3 एएसपी व 5 सीओ समेत 12 थानेदार लगे थे।



प्रियंका ने साफ कह दिया है कि वह अब बिना मिले नहीं जाएंगी। इसलिए उन्होंने मिर्जापुर में कांग्रेस के गेस्ट हाउस में रात काटी। बताया गया कि वहां रात को साजिशन पानी और बिजली काटी गई। पर प्रियंका पर इसका कोई असर नहीं पड़ा।

शुक्रवार देर रात उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि मैं गरीब आदिवासियों की व्यथा जानने आई हूं। उत्तर प्रदेश का प्रशासन मुझे नौ घंटे से गिरफ्तार करके किले में रखा हुआ है। प्रशासन कह रहा कि मुझे 50,000 की जमानत देनी है, नही तो मुझे 14 दिन की जेल की सजा दी जाएगी।

प्रियंका ने आगे कहा कि मैने न कोई कानून तोड़ा है और न ही कोई अपराध किया है। प्रशासन चाहे तो मैं अकेली उनके साथ पीड़ित परिवारों से मिलने गांव जाना चाहती हूं। इसके बावजूद उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने तमाशा खड़ा कर दिया। प्रियंका ने साफ कह दिया कि मैं पीड़ितों से मिलने जाउंगी सरकार को जो उचित लगे वो करे।

बता दें कि 17 जुलाई को उभ्भा गांव में 90 बीघा जमीन पर कब्जे के लिए ग्राम प्रधान समेत करीब 200 लोगों ने विरोध कर रहे ग्रामीणों पर हमला कर दिया। जिसके बाद 10 लोगों की मौत हो गई। पुलिस ने आरोपी प्रधान समेत कई और लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही अभी कई और आरोपियों की तलाश में दबिश दी जा रही है।

मिर्जापुर में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और पार्टी कार्यकर्ता चुनार गेस्ट हाउस में धरने पर बैठे है। इस दौरान प्रियंका ने कहा कि 24 घंटे हो चुके हैं। मैं सोनभद्र के गोलीबारी मामले के पीड़ितों से मिलने की मुझे अनुमति नहीं मिलती है तब तक मैं नहीं जाऊंगी।

Share it
Top