Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अलीगढ़ मर्डर केसः पुलिस ने किया SIT का गठन, मां ने PM मोदी और CM योगी से आरोपियों के लिए मांगी मौत की सजा

बुधवार को जब देश ईद-उल-फितर का जश्न मना रहा था तभी उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ से इंसानियत को शर्मसार करने वाली खबर सामने आई। यहां पुलिस ने एक ढाई वर्षीय मासूम ट्विंकल शर्मा का छत विछत शव बरामद किया। पुलिस ने अलीगढ़ में ढाई साल की मासूम ट्विंकल शर्मा की हत्या की जांच के लिए एक स्पेशल इंवेस्टीगेशन टीम (SIT) का गठन किया है।

अलीगढ़ मर्डर केसः पुलिस ने किया SIT का गठन, मां ने PM मोदी और CM योगी से आरोपियों के लिए मांगी मौत की सजा

बुधवार को जब देश ईद-उल-फितर का जश्न मना रहा था तभी उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ से इंसानियत को शर्मसार करने वाली खबर सामने आई। यहां पुलिस ने एक ढाई वर्षीय मासूम ट्विंकल शर्मा का छत विछत शव बरामद किया। पुलिस ने अलीगढ़ में ढाई साल की मासूम ट्विंकल शर्मा की हत्या की जांच के लिए एक स्पेशल इंवेस्टीगेशन टीम (SIT) का गठन किया है।


इससे पहले अलीगढ़ के एसएसपी ने कहा कि बच्ची के परिजनों ने 31 मई को पुलिस थाने में अपहरण का मामला दर्ज करवाए थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गला दबाकर हत्या, बलात्कार के कोई संकेत नहीं है, व्यक्तिगत दुश्मनी का मामला सामने आया है। इस मामले में 2 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। मामले की जांच चल रही है।

स्थानीय लोगों का कहना है कि किसी ने बच्ची की हत्या कर जमीन के अंदर गाड़ दिया था जिसके बाद कुत्तों ने शव को जमीन से निकालकर छत-विछत कर दिया। इधऱ ग्रामीणों ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा है कि यह सब पुलिस की लापरवाही से हुआ है। परिजनों ने बच्ची के खोने का मामला दर्ज कराया था लेकिन पुलिस ने कोई एक्शन नहीं लिया। जिसके बाद बच्ची को मार दिया गया।

ट्विंकल की मां शिल्पा शर्मा ने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा कि मैं मोदी सरकार और योगी सरकार से अनुरोध करती हूं कि आरोपियों को कड़ी सजा दी जाए। हम उनके लिए मौत की सजा चाहते हैं। अन्यथा अगर वह 7 साल के बाद बाहर आता है, तो वह और भी अधिक गले पड़ जाएगा।

उन्होंने कहा कि आरोपियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होने से उन्हें प्रोत्साहन मिलेगा। असलम (सह-आरोपी) ने अपनी ही 4 साल की बेटी के साथ बलात्कार किया था, उसकी पत्नी ने उस दिन अपनी बेटी को अपने माता-पिता के घर छोड़ दिया था।

एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) आनंद कुमार ने बताया कि पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) के तहत एसआईटी का गठन किया गया है। एसआईटी में फास्ट ट्रैक आधार पर जांच के लिए फोरेंसिक साइंस टीम, स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप और विशेषज्ञों की भी एक टीम बनाई गई हैं। इस मामले पोक्सो एक्ट भी रहेगा।


Share it
Top