Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जानें कौन था माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी, 17 साल की उम्र में रखा था जुर्म की दुनिया में पहला कदम

प्रेम प्रकाश सिंह उर्फ मुन्ना बजरंगी उत्तर प्रदेश में एक कुख्यात माफिया डॉन के नाम से जाना जाता था। मुन्ना बजरंगी का जन्म उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले के पूरेदयाल गांव में 1967 में हुआ था।

जानें कौन था माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी, 17 साल की उम्र में रखा था जुर्म की दुनिया में पहला कदम
X

उत्तर प्रदेश की बागपत जेल में अंडरवर्ल्ड डॉन प्रेम प्रकाश सिंह उर्फ मुन्ना बजरंगी की गोली मारकर हत्या कर दी गई। जिसके बाद यूपी सरकार पर सवाल उठने लगे हैं।

मुन्ना बजरंगी को झांसी जेल से बागपत की जेल में शिफ्ट किया गया था। जहां उसकी सोमवार को कोर्ट में पेशी होनी थी। लेकिन उससे पहले ही जेल के अंदर उसकी गोली मारकर हत्या कर दी।

कौन था मुन्ना बजरंगी

प्रेम प्रकाश सिंह उर्फ मुन्ना बजरंगी उत्तर प्रदेश में एक कुख्यात माफिया डॉन के नाम से जाना जाता था। मुन्ना बजरंगी का जन्म उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले के पूरेदयाल गांव में 1967 में हुआ था।

ये भी पढ़ें - सीएम योगी ने दिए मुन्ना बजरंगी की हत्या के जांच के आदेश, जेलर को किया सस्पेंड, घटना स्थल पर पहुंचा जांच दल

पिता का सपना था कि बेटा बड़ा होकर बड़ा आदमी बने लेकिन उसने 5वीं पास करने के बाद ही पढ़ाई को अलविदा कह दिया। और फिल्म 17 साल की उम्र में ही जुर्म की दुनिया में दस्तक दे दी।

17 साल की उम्र में रखा जुर्म की दुनिया में कदम

मुन्ना बजरंगी को बचपन से ही हथियारों का शौक था। वह फिल्मों की तरह एक बड़ा गैंगेस्टर बनना चाहता था। पहली बार 17 साल की उम्र में उनसे जुर्म किया और नाबालिग मामले में केस दर्ज हुआ। मारपीट और अवैध असलहा रखने के मामले में केस दर्ज हुआ। उसके बाद उसने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

कहते हैं कि जौनपुर के दबंग गजराज सिंह साथ मिला तो 1984 में मुन्ना ने एक व्यापारी की हत्या कर दी। इसके बाद फिर वो गैंगस्टर की लिस्ट में शामिल हो गया और उसके बाद वो बाहुबली मुख्तार अंसारी के गैंग में शामिल हो गया था। वहां भी उसने अपनी देहशत को बनाए रखा।

लेकिन वक्त बदला और डॉन फिर जेल या राजनीति में शामिल होने लगे। मुख्तार अंसारी ने अपराध की दुनिया से राजनीति में कदम रखा और 1996 में समाजवादी पार्टी के टिकट पर मऊ से विधायक चुने गए। तो उसकी ताकत और भी ज्यादा बढ़ गई। इसके बाद वो नेताओं को भी धमकी देने लगा।

ये भी पढ़ें - बागपत जेल में हुई माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की गोली मारकर हत्या, रंगदारी के आरोप में आज कोर्ट में होनी थी पेशी

बीजेपी नेता की हत्या और बीएसपी नेता को धमकी का आरोप

बीजेपी विधायक कृष्णानंद राय की 2005 में हत्या कर दी गई। जिसका आरोप मुन्ना बजरंगी पर लगा और उसके बाद शिकंजा कसता गया और एक दिन बीएसपी नेता को भी धमकी देने के आरोप में उसके खिलाफ मामला दर्ज हुआ।

मुंबई से दिल्ली पुलिस ने किया था गिरफ्तार

मुन्ना बजरंगी के खिलाफ सिर्फ यूपी ही नहीं दिल्ली समेत कई राज्यों में मामले दर्ज थे। जिसके बाद उसके खिलाफ तलाशी अभियान शुरू हुआ और साल 2009 में दिल्ली पुलिस ने मुन्ना को मुंबई से गिरफ्तार किया। जिसके बाद से वो जेल में ही रहा और कोर्ट में अपनी पेशी के लिए जाता रहा।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story