Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

नाबालिग को अवैध हिरासत में रखा, अब रोजाना देना होगा इतना हर्जाना

नाबालिग को अवैध तरीके से महिला थाने में कई दिन तक हिरासत में रखने और फिर मनमाने तरीके से महिला संरक्षण गृह भेजने के एक मामले में हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने कड़ा रुख अपनाया है।

नाबालिग को अवैध हिरासत में रखा, अब रोजाना देना होगा इतना हर्जाना

लखनऊ: जबरन देह व्यापार में धकेली गई नाबालिग को अवैध तरीके से महिला थाने में कई दिन तक हिरासत में रखने और फिर मनमाने तरीके से महिला संरक्षण गृह भेजने के एक मामले में हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने कड़ा रुख अपनाया है। अदालत ने आदेश दिया है कि पीड़िता को 30 जून से 17 अगस्त तक अवैध हिरासत में रखने पर उसे 3 हजार रुपये का रोजाना हर्जाना देना होगा।

हाईकोर्ट ने प्रमुख सचिव गृह को आदेश दिए हैं कि ये 15 में राशि पीड़िता को मिल जानी चाहिए। जज शहीबुल हसनैन व जज नरेंद्र कुमार जौहरी की खंडपीठ ने यह आदेश पीड़िता की मां की ओर से दायर बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका पर दिया है।

याचिका में कहा गया कि पीड़िता को उसके पिता ने दो साल पहले जिया नाम की एक महिला को सौंप दिया था। वो महिला उसे मुंबई ले गई। जहां उनसे जबरन देहव्यापर के धंधे में धकेल दिया गया। बाद में महिला ने लड़की को किसी और को सौंप दिया। किसी तरह लड़की उनके चंगुल से भागकर महाराष्ट्र के सिहोरा भवन में जाकर शरण ली जिसने उसे लखनऊ भेजने में मदद की।

पीड़िता बीते जून में लखनऊ लौटी और 14 जून को लखनऊ के महिला थाने में एक मामला दर्ज करवाया। उसके बाद पुलिस ने महिला को संरक्षण गृह भेज दिया और उस महिला का कलमबंद बयान भी दर्ज किया। कोर्ट ने पुलिस को फटकार लगाते हुए कहा कि हैरत है उच्च अधिकारियों से शिकायत पर भी नहीं सुनवाई हुई। वहीं पुलिस पर मिली भगत का आरोप लगाया गया है तो कोर्ट में पीड़िता ने अपनी पूरी सच्चाई बताई।

Next Story
Share it
Top