Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कैराना उपचुनाव - भाजपा सांसद पर भड़काऊ बयान देने के आरोप में केस दर्ज

उत्तर प्रदेश के कैराना में होने वाले लोकसभा उपचुनाव में चुनाव आयोग ने भाजपा सांसद कांता कर्दम पर भड़काऊ भाषण देने के आरोप में केस दर्ज किया गया है। भाजपा सांसद पर आरोप है कि उन्होंने सहारनपुर जिले के नुकुद शहर में एक चुनावी सभा के दौरान धर्म विशेष की भावनाएं भड़काने बाला बयान दिया।

कैराना उपचुनाव - भाजपा सांसद पर भड़काऊ बयान देने के आरोप में केस दर्ज
X

उत्तर प्रदेश के कैराना में होने वाले लोकसभा उपचुनाव में चुनाव आयोग ने भाजपा सांसद कांता कर्दम पर भड़काऊ भाषण देने के आरोप में केस दर्ज किया गया है। भाजपा सांसद पर आरोप है कि उन्होंने सहारनपुर जिले के नुकुद शहर में एक चुनाव प्रचार के दौरान धर्म विशेष की भावनाएं भड़काने बाला बयान दिया।

पुलिस के अनुसार सांसद कांता ने जिले के नुकुद शहर में एक चुनाव प्रचार के दौरान धर्म विशेष के लोगों की भावनाएं आहत करने वाला बयान दिया। चुनाव आयोग ने तुरंत इस पर कदम उठाते हुए सांसद पर मामला दर्ज करने का निर्देश दिया।

आपको बता दे कि कैराना लोकसभा में उपचुनाव 28 मई को है। एक तरफ भाजपा है तो दूसरी ओर विपक्षी दल एक होकर चुनाव लड़ रहे हैं। कैराना की यह सीट सांसद हुकुम सिंह की मृत्यु के बाद खाली हो गई थी। अब यह लोकसभा उपचुनाव भाजपा के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बन चुका है तो वहीं दूसरी ओर विपक्षी एकता की ताकत का भी सवाल बन चुका है।

कैराना लोकसभा एक संवेदनशील क्षेत्र है जो पूर्व में भी कई बार विवादों में आ चुका है। सहारनपुर दंगा हो या कैराना में पलायन का मुद्दा हो इन सभी ने राष्ट्रीय राजनीति पर अपना प्रभाव डाला था। जिसका फायदा भाजपा ने जमकर उठाया था। ये जाट,मुस्लिम,दलित बहुल क्षेत्र है। कश्यप समुदाय भी काफी मात्रा में यहां है।

पूर्व में यह क्षेत्र हिंदुत्व की प्रयोगशाला के रूप में भी रहा है पर इस बार भाजपा को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। भाजपा का दलित वोट इस बार उससे दूर हो सकता है क्योंकि हाल ही में हुई कुछ घटनाओं ने भाजपा के दलित वो़ट बैक में बहुत असर डाला है। चाहे वह एसी-एसटी एक्ट में फेरबदल हो या फिर दलित आन्दोलन में हुई हिंसा, यह सब भाजपा के खिलाफ जा सकता है।

इस उपचुनाव में जाट समुदाय का रोल भी भी काफी अहम है क्योंकि विपक्षी दलों ने रालोद के प्रत्याक्षी को अपना समर्थन दिया है। रोलोद की जाट समुदाय पर अच्छी पकड़ समझी जाती है। जिसको सभी विपक्षी दल समर्थन कर रहे है।

पर ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्या जाट सहारनपुर दंगों के बाद भी मुसलमान समुदाय के उम्मीदवार को वोद देंगे? या फिर वह मोदी के साथ ही जाएगा? यह सबसे बड़ा सवाल बना हुआ है।

कैराना बाईपोल, कांता कदम पर केस दर्ज, कांता कदम, योगी आदित्यनाथ, बीजेपी, आरएलडी, कांग्रेस, सहारनपुर, यूपी समाचार, लोकसभा गठबंधन 201 9, पीएम मोदी, जयंत चौधरी, बसपा, सपा

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story