Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दलित साधु को पहली बार मिली ''महामंडलेश्वर'' की उपाधि

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद द्वारा सोमवार को पहली बार एक दलित संत को धर्माचार्य की बड़ी उपाधि देने का ऐलान किया है।

दलित साधु को पहली बार मिली महामंडलेश्वर की उपाधि
X

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद द्वारा सोमवार को पहली बार एक दलित संत को धर्माचार्य की बड़ी उपाधि देने का ऐलान किया है। इसकी बात की पुष्टि अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी ने कर दी है।

उत्तर प्रदेश में इलाहाबाद के मौज गिरि आश्रम में जूना अखाड़े के साधु-सन्तों की मौजूदगी में दलित संत कन्हैया कुमार कश्यप दीक्षा और संस्कार के बाद कन्हैया प्रभुनंद गिरी बन गए हैं।

यह भी पढ़ें- शिवराज सरकार ने पॉर्न साइट्स पर उठाया बड़ा कदम, सोशल मीडिया पर लोगों ने किए ऐसे ट्वीट

बता दें कि हिन्दू समाज में जाति के नाम पर भेदभाव की जो बाते सामने आती थी अब इससे साफ हो जाता है कि भेदभाव की बातें बीते दिनों की बात हो जाएगी। सनातन संस्कृति के इतिहास में किसी दलित को महामंडलेश्वर उपाधि देने का जूना अखाड़े का यह पहला फैसला है।

खाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी ने कहा कि सामाजिक समरसता की दिशा में बड़ा आध्यात्मिक कदम है। इसके बाद उन्होंने कहा कि प्रायग में होने वाले कुंभ से पहले देश में सामाजिक गैर बराबरी और जातीय भेदभाव दूर करने में इस फैसले से मदद मिलेगी।

कन्हैया कुमार कश्यप ने जूना अखाड़े के महंत पंचानन गिरि महाराज से ली थी दीक्षा

आपको बता दें कि कन्हैया कुमार कश्यप ने 2016 में उज्जैन स्थित सिंहस्थ कुंभ में पटियाला काली मंदिर में पहली बार जूना अखाड़े के महंत पंचानन गिरि महाराज से दीक्षा ली थी।

खबरों से मिली जानकारी के मुताबिक उसी समय पंचानन गिरि महाराज ने उनका नामकरण कन्हैया प्रभुनंद गिरि के रूप में किया था। कन्हैया कुमार कश्यप आजमगढ़ के ग्राम बरौनी के दिवाकर पट्टी के निवासी हैं।

स्नान के बाद सन्यास वेश धारण कराया गया

अखाड़ा परिषद के पदाधिकारियों और जूना अखाड़ा के संतों की मौजूदगी में कन्हैया कुमार कश्यप का विधि-विधान से मंत्रोच्चार किया गया। मंत्रोच्चार से पहले कन्हैया कुमार कश्यप का केश मुंडन किया गया और स्नान के बाद सन्यास वेश धारण कराया गया था।

इस प्रक्रिया के बाद दलित साधु का अभिषेक करके अखाड़ा के पंच परमेश्वर सहित कई महंतों ने सिंहासन पर बैठाया। साधु कन्हैया कुमार को धर्महित में कार्य करने का संकल्प दिलाया गया है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story