Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नसीमुद्दीन सिद्दीकी का मायावती पर हमला, कहा- कुंठित होकर सपा को दिया समर्थन

सिद्दीकी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी से हमारे पूर्वजों का संबंध रहा है। कांग्रेस में दोबारा वापस आने की वजह यह है कि देश प्रदेश में अल्पसंख्यकों में असुरक्षा की भावना है।

नसीमुद्दीन सिद्दीकी का मायावती पर हमला, कहा- कुंठित होकर सपा को दिया समर्थन
X

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के कद्दावर नेता रहे नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने आज कहा कि बसपा प्रमुख मायावती ने कुंठित होकर सपा को समर्थन दिया है। उन्होंने कहा कि बसपा ने ‘‘एक हाथ दे, एक हाथ ले- राज्यसभा दे दो और विधानपरिषद ले लो' के आधार पर सपा को समर्थन दिया है।

गत 22 फरवरी को कांग्रेस पार्टी में शामिल हुए सिद्दीकी ने कहा, "कांग्रेस पार्टी से हमारे पूर्वजों का संबंध रहा है। कांग्रेस में दोबारा वापस आने की वजह यह है कि देश प्रदेश में अल्पसंख्यकों में असुरक्षा की भावना है। देश प्रदेश में जब तक कांग्रेस की सरकारें रही हैं, गंगा जमुनी तहजीब रही। लेकिन जैसे-जैसे हम क्षेत्रीय पार्टियों की ओर बढ़ते गए, हमारा समाज, हमारा देश कमजोर होता गया।"

इसे भी पढ़ें- बसपा की तरफ से भीमराव अम्बेडकर होंगे राज्यसभा के प्रत्याशी, लेकिन कैसे होगा चुनाव, जाने पूरा गणित

उन्होंने यहां संवाददाताओं से कहा, "मैंने काफी सोच विचार किया और अपने परिवार के लोगों से बात की तो इस नतीजे पर पहुंचा कि इस देश को क्षेत्रीय पार्टी नहीं, बल्कि कांग्रेस पार्टी ही संभाल सकती है। हमारे वरिष्ठ नेताओं की टीम गोरखपुर और फूलपुर में अपने उम्मीदवार का हाथ मजबूत करने के लिए लगी है।"

इस बीच, पूर्व केंद्रीय मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल ने केंद्र की मोदी और प्रदेश की योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, "हमें यह बताने की जरूरत नहीं है कि केंद्र और प्रदेश सरकार ने जनता से कौन कौन से वादे किए थे और कितने वादे पूरे किए हैं।" उन्होंने कहा, "अगर वादों की पार्टी देखनी है तो बनारस, कानपुर जाकर वहां की दुर्दशा देख लीजिए या फिर इलाहाबाद में दुर्दशा देख लीजिए। मैंने इन तीन शहरों का नाम इसलिए लिया क्योंकि भाजपा के बड़े नेता इन्हीं तीन शहरों में अधिक घूमा करते हैं।"

जायसवाल ने कहा, "जिस तरह से जनता का भाजपा से मोहभंग हो रहा है, उससे पता चलता है कि आने वाले समय में भाजपा कहां पहुंचने वाली है। यही वजह है कि हमारे भाई नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने भाजपा को सबक सिखाने के लिए कांग्रेस का साथ देने का निर्णय किया।" कांग्रेस के ये नेता फूलपुर संसदीय सीट के लिए आगामी 11 मार्च को होने जा रहे उपचुनाव में पार्टी के प्रत्याशी मनीष मिश्रा के पक्ष में प्रचार करने के लिए शहर में हैं।

क्रेडिट- भाषा

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story