Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बनारस हिंदू विश्वविद्यालयः हिंसा के बाद छात्रों से खाली कराए गए पांच छात्रावास

सर सुंदरलाल अस्पताल में छात्रों और रेजीडेंट डॉक्टरों के बीच झड़प के बाद काशी हिंदू विश्वविद्यालय के पांच छात्रावासों को बुधवार को खाली करा लिया गया। साथ ही परिसर के अंदर तथा आसपास सुरक्षा कड़ी कर दी गई है, जहां पुलिस ड्रोन कैमरों से स्थिति पर नजर बनाए हुए है। बिड़ला, लाल बहादुर शास्त्री, धनवंतरी, रुईया मेडिकल और रुइया एनेक्सी छात्रावासों को खाली करने के आदेश दिए गए हैं।

बनारस हिंदू विश्वविद्यालयः हिंसा के बाद छात्रों से खाली कराए गए पांच छात्रावास
X

सर सुंदरलाल अस्पताल में छात्रों और रेजीडेंट डॉक्टरों के बीच झड़प के बाद काशी हिंदू विश्वविद्यालय के पांच छात्रावासों को बुधवार को खाली करा लिया गया। साथ ही परिसर के अंदर तथा आसपास सुरक्षा कड़ी कर दी गई है, जहां पुलिस ड्रोन कैमरों से स्थिति पर नजर बनाए हुए है। बिड़ला, लाल बहादुर शास्त्री, धनवंतरी, रुईया मेडिकल और रुइया एनेक्सी छात्रावासों को खाली करने के आदेश दिए गए हैं।

बिड़ला और लाल बहादुर शास्त्री के छात्रों ने मंगलवार को धरने पर बैठ छात्रावास खाली करने के लिए दिए गए आदेशों को निरस्त करने की मांग की थी।
जिला मजिस्ट्रेट सुरेंद्र सिंह के छात्रों से मिलने और परिसर में हिंसा भड़काने वालों के खिलाफ कडी़ कार्रवाई करने का आश्वासन देने के बाद रात करीब दो बजे उन्होंने (छात्रों ने) धरना खत्म कर दिया। छात्रों ने बुधवार शाम पांच बजे छात्रावास के कमरे खाली कर दिए थे।
बीएचयू के जनसंपर्क अधिकारी राजेश सिंह ने कहा, ‘‘पांच छात्रावासों को खाली कराया गया है और सोमवार रात हुई हिंसा के बाद से स्थिति शांतिपूर्ण बनी हुई है।'
इस बीच, सूत्रों ने बताया कि रेजीडेंट डॉक्टर उनकी और छात्रावास में रहने वाले छात्रों के साथ हुई झड़प के विरोध में हड़ताल पर चले गए हैं। इसके फलस्वरूप सर सुंदरलाल अस्पताल (एसएसएच) में चिकित्सीय सेवा आंशिक रूप से प्रभावित हुई है।
एसएसएच चिकित्सा अधीक्षक विजय नाथ मिश्रा ने बताया कि हालांकि अधिकतर स्थानीय डॉक्टर अनिश्चितकानील हड़ताल चले पर गए हैं लेकिन कुछ कनिष्ठ तथा वरिष्ठ रेजीडेंट डॉक्टरों ने अपने विभागों में सेवाएं जारी रखने का फैसला किया है। काशी हिंदू विश्वविद्यालय ने मंगलवार को सभी कक्षाएं निलंबित कर छात्रों से 24 घंटे के भीतर छात्रावास खाली करने को कहा था, जिसके बाद बुधवार को ये छात्रावास खाली किए गए।

बीएचयू रजिस्ट्रार नीरज त्रिपाठी ने सोमवार रात हुई हिंसा, आगजनी और तोड़फोड़ की घटना के मद्देनजर 28 सितंबर तक विश्वविद्यालय बंद रखने का आदेश दिया है।
बनारस डिवीजनल कमिश्नर दीपक अग्रवाल, आईजी (रेंज) विजय सिंह मीना, एसएसपी आनंद कुलकर्णी, डीएम सुरेंद्र सिंह ने बीएचयू के कुलपति राकेश भटनागर के साथ बैठक की जिसके बाद परिसर को 28 सितंबर तक बंद रखने का निर्णय लिया गया।
सर सुंदरलाल अस्पताल में छात्रों और रेजीडेंट डॉक्टरों के बीच झड़प के बाद काशी हिंदू विश्वविद्यालय के पांच छात्रावासों को बुधवार को खाली करा लिया गया। साथ ही परिसर के अंदर तथा आसपास सुरक्षा कड़ी कर दी गई है, जहां पुलिस ड्रोन कैमरों से स्थिति पर नजर बनाए हुए है। बिड़ला, लाल बहादुर शास्त्री, धनवंतरी, रुईया मेडिकल और रुइया एनेक्सी छात्रावासों को खाली करने के आदेश दिए गए हैं।
बिड़ला और लाल बहादुर शास्त्री के छात्रों ने मंगलवार को धरने पर बैठ छात्रावास खाली करने के लिए दिए गए आदेशों को निरस्त करने की मांग की थी।
जिला मजिस्ट्रेट सुरेंद्र सिंह के छात्रों से मिलने और परिसर में हिंसा भड़काने वालों के खिलाफ कडी़ कार्रवाई करने का आश्वासन देने के बाद रात करीब दो बजे उन्होंने (छात्रों ने) धरना खत्म कर दिया। छात्रों ने बुधवार शाम पांच बजे छात्रावास के कमरे खाली कर दिए थे।
बीएचयू के जनसंपर्क अधिकारी राजेश सिंह ने कहा, ‘‘पांच छात्रावासों को खाली कराया गया है और सोमवार रात हुई हिंसा के बाद से स्थिति शांतिपूर्ण बनी हुई है।'
इस बीच, सूत्रों ने बताया कि रेजीडेंट डॉक्टर उनकी और छात्रावास में रहने वाले छात्रों के साथ हुई झड़प के विरोध में हड़ताल पर चले गए हैं। इसके फलस्वरूप सर सुंदरलाल अस्पताल (एसएसएच) में चिकित्सीय सेवा आंशिक रूप से प्रभावित हुई है।
एसएसएच चिकित्सा अधीक्षक विजय नाथ मिश्रा ने बताया कि हालांकि अधिकतर स्थानीय डॉक्टर अनिश्चितकानील हड़ताल चले पर गए हैं लेकिन कुछ कनिष्ठ तथा वरिष्ठ रेजीडेंट डॉक्टरों ने अपने विभागों में सेवाएं जारी रखने का फैसला किया है। काशी हिंदू विश्वविद्यालय ने मंगलवार को सभी कक्षाएं निलंबित कर छात्रों से 24 घंटे के भीतर छात्रावास खाली करने को कहा था, जिसके बाद बुधवार को ये छात्रावास खाली किए गए।
बीएचयू रजिस्ट्रार नीरज त्रिपाठी ने सोमवार रात हुई हिंसा, आगजनी और तोड़फोड़ की घटना के मद्देनजर 28 सितंबर तक विश्वविद्यालय बंद रखने का आदेश दिया है।
बनारस डिवीजनल कमिश्नर दीपक अग्रवाल, आईजी (रेंज) विजय सिंह मीना, एसएसपी आनंद कुलकर्णी, डीएम सुरेंद्र सिंह ने बीएचयू के कुलपति राकेश भटनागर के साथ बैठक की जिसके बाद परिसर को 28 सितंबर तक बंद रखने का निर्णय लिया गया।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story