Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गोमती गोली कांड: सीएम योगी ने कहा- मामला एनकाउंटर का नहीं है, जरुरत पड़ी तो होगी CBI जांच

उत्तर प्रदेश के गोमतीनगर में पुलिस द्वारा विवेक तिवारी नाम के एक युवक की गोली मार कर हत्या कर दी गई। पुलिस के द्वारा किए गए इस एनकाउंटर से पूरे देश के लोगों में आक्रोश है। गोली मारने वाले आरोपी कांस्टेबल प्रशांत चौधरी का कहना है कि उसने सेल्फ डिफेंस में गोली चलाई है।

गोमती गोली कांड: सीएम योगी ने कहा- मामला एनकाउंटर का नहीं है, जरुरत पड़ी तो होगी CBI जांच
X
उत्तर प्रदेश के गोमतीनगर में पुलिस द्वारा विवेक तिवारी नाम के एक युवक की गोली मार कर हत्या कर दी गई। पुलिस के द्वारा किए गए इस एनकाउंटर से पूरे देश के लोगों में आक्रोश है।
गोली मारने वाले आरोपी कांस्टेबल प्रशांत चौधरी का कहना है कि उसने सेल्फ डिफेंस में गोली चलाई है। एडीजी आनंद कुमार ने बताया कि दो पुलिस वालों संदीप कुमार और प्रशांत चौधरी के खिलाफ हत्या (302) का मुकदमा दर्ज किया गया है।

यह भी पढ़ें- गोमती गोली कांडः आरोपी कांस्टेबल ने दी सफाई, डिप्टी सीएम ने जांच के दिए आदेश

इस मामले में उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ का कहना है कि यह मामला एनकाउंटर का नहीं है। मामले के जांच के आदेश दे दिए गए हैं। अगर आवश्यक्ता पड़ी तो मामला जांच के लिए सीबीआई को भी सौंपा जाएगा।
इस मामले में विवेक की पत्नी कल्पना तिवारी ने कहा कि गोली मारकर हत्या करने के बाद लखनऊ पुलिस पति को चरित्रहीन साबित करने में लगी है। कल्पना ने सवाल उठाया कि गाड़ी न रोकने पर गोली चलाने का अधिकार पुलिस को किसने दिया। उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से पुलिस जांच के बजाय सीबीआई जांच की मांग की है। शैक्षिक योग्यता के अनुसार पुलिस विभाग में नौकरी की मांग व बच्चों और बूढ़ी मां के देखभाल के लिए एक करोड़ रुपये मुआवजे की मांग की है।
उत्तर प्रदेश को सुशासन प्रदेश कहकर आत्ममुग्ध रहने वाली योगी सरकार पर इस हत्या के बाद सवालिया निशान खड़े हो गए हैं। लोगों का कहना है कि योगी सरकार ने अपने पुलिस को कुछ ज्यादा ही छूट दे दी है, वहीं कुछ लोगों का कहना है कि योगी से उनकी पुलिस संभल नहीं रही है जिससे वह बेलगाम हो गई है।

यह भी पढ़ें- गोमती गोली कांड: बयान से पलटा गोली चलाने वाला कांस्टेबल, सीएम योगी के लिए दिया ये बयान

जबसे योगी सरकार बनी है अपराध खत्म करने के लिए एनकाउंटर की घटनाएं बढ़ गई हैं। लेकिन इसके साथ ही ग्लैमर के लिए पुलिस के द्वारा किए गए फर्जी एनकाउंटरों की संख्या में भी इजाफा हुआ है।
फरवरी में नोएडा का मामला आया था कि कैसे एक एएसआई ने अपने प्रमोशन के लिए एक जिम संचालक का फर्जी एनकाउंटर किया था। गोमतीनगर में विवेक तिवारी की गोली मारकर हत्या करने के बाद इसे फर्जी एनकाउंटर माना जा रहा है। इस पूरे एनकाउंटर में कुछ ऐसे सवाल हैं जिनका जवाब नहीं मिला है।
  • कांस्टेबल ने सेल्फ डिफेंस में गोली चलाई लेकिन उसे किस बात का खतरा था?
  • कांस्टेबल का पर जब तीन बार गाड़ी चढ़ाने का प्रयास हुआ तो उसने कंट्रोल रूम को सूचना देकर बैकप क्यों नहीं मांगा? सीधे मार क्यों दिया?
  • कांस्टेबल ने जिस हिसाब से गोली चलाई है उससे यह साफ है कि उसका निशाना बहुत अच्छा है तो उसने गाड़ी के टायर पर गोली क्यों नहीं मारी?
  • जब विवेक तिवारी के पास कोई हथियार नहीं था तो निहत्थे आदमी पर गोली चलाने का क्या मतलब है? उसका पीछा भी तो किया जा सकता था।

यह भी पढ़ें- योगी के मंत्री का बेतुका बयान, बोले- पुलिस से कोई गलती नहीं हुई, अपराधी मारे जा रहे हैं

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story