Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

खतरे में सपा-बसपा का गठबंधन, उपचुनाव अकेले लड़ेगी बसपा, कहा, नहीं मिले यादवों के वोट

उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा गठबंधन को लेकर लोकसभा चुनाव से पहले सियासी पंडितो द्वारा कही बातें आखिर सही साबित होती दिख रही है। चुनाव में गठबंधन से उम्मीद के मुताबिक फायदा न होने पर बसपा ने प्रदेश में होने वाले उपचुनाव में अकेले लड़ने का फैसला किया है।

खतरे में सपा-बसपा का गठबंधन, उपचुनाव अकेले लड़ेगी बसपा, कहा, नहीं मिले यादवों के वोट
X

उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा गठबंधन (SP-BSP Alliance) को लेकर लोकसभा चुनाव से पहले सियासी पंडितो द्वारा कही बातें आखिर सही साबित होती दिख रही है। चुनाव में गठबंधन से उम्मीद के मुताबिक फायदा न होने पर बसपा ने प्रदेश में होने वाले उपचुनाव में अकेले लड़ने का फैसला किया है।

दिल्ली के सेंट्रल ऑफिस में सोमवार को हुई मीटिंग के बाद बसपा प्रमुख मायावती (Mayawati) नाखुश नजर आई। उन्होंने कहा कि गठबंधन से पार्टी को कोई लाभ नहीं हुआ। जिन वोटों के लिए पार्टी एक हुई थी वह पार्टी के खाते में आया ही नहीं। खासकर यादव वोट पार्टी के हिस्से में नहीं आए।

बैठक के बाद बसपा के प्रदेश अध्यक्ष आरएस कुशवाहा ने पार्टी की हार का ठीकरा ईवीएम पर फोड़ा, उन्होंने कहा कि ईवीएम घोटाले की वजह से अनुकूल परिणाम नहीं आ सके। कुशवाहा ने कहा कि पार्टी पहले भी ईवीएम के खिलाफ आवाज उठाती रही है और आगे भी उठाती रहेगी।

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) में प्रदेश के 11 विधायक चुनाव लड़कर सांसद बन गए जिसके बाद वहां सीटें खाली हो गई। अगले 6 महीने में वहां उपचुनाव होने हैं। पार्टी ने बैठक में साफ कह दिया कि वह चुनाव सपा के साथ गठबंधन करके नहीं लड़ेगे।

बता दें कि लोकसभा चुनाव में पार्टी ने 38 सीटों पर चुनाव लड़ा जिसमें 10 सीटें जीतने पर सफल रहे। बसपा प्रमुख को उम्मीद थी कि कम से कम 20 सीटे जीतेंगी पर ऐसा नहीं हो सका वहीं गठबंधन के दूसरे साथी समाजवादी पार्टी के हिस्से केवल 5 सीटें आई है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story