Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

OMG: पपीते का छिलका खाने से 12 गायों की मौत, 60 से ज्यादा बीमार

उत्तर प्रदेश के आगरा में कार्बाइड से पके पपीते के छिलके खाने से राधाकृष्ण गोशाला में दो दिन के भीतर एक दर्जन गायों की मौत हो गई। जबकि 60 ये ज्यादा गायें बीमार हो गई। कार्बाइड से मरने का खुलासा पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद हुआ।

OMG: पपीते का छिलका खाने से 12 गायों की मौत, 60 से ज्यादा बीमार
X

कार्बाइड से पके पपीते के छिलके खाने से आगरा के राधाकृष्ण गोशाला में दो दिन के भीतर एक दर्जन गायों की मौत हो गई। जबकि 60 ये ज्यादा गायें बीमार हो गई। कार्बाइड से मरने का खुलासा पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद हुआ।

गौरतलब है कि कार्बाइट के जरिए फलों को पकाना प्रतिबंधित है पर इसका प्रयोग जोरदार ढंग से हो रहा है। लोगों को बीमार करते हुए कार्बाइट ने फाउंड्री नगर के गौशाला की 12 गायों को काल के गाल में भेज दिया। पशु पालन विभाग ने सक्रियता दिखाते हुए इलाज के जरिए 60 गायों को बचा लिया है।

मामले की जांच की जा रही है पशु चिकित्सकों ने जांच में पाया कि गायों को जो पपीते का छिलका खाने को दिया गया था उसमें कार्बाइट का जहर था जिसके कारण इतनी बड़ी घटना हुई।

कई संगठनों के हंगामा और प्रदर्शन के कारण मौके पर सीडीओ और पशु चिकित्सक मौके पर पहुंचे। जिला अभिहीत अधिकारी डा. श्वेता सैनी ने कहा कि 'कार्बाइड से फल पकाना प्रतिबंधित है। अगर कहीं भी कोई इसका उपयोग कर रहा है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। हमने पूर्व में भी कई कार्रवाई की हैं'

कैल्शियम कार्बाइड के प्रयोग पर है रोक

फलों को पकाने में कार्बाइड का इस्तेमाल खाद्य संरक्षा व मानक अधिनियम-2011 की धारा 2.3.5 के तहत वर्जित है। इसका भंडारण, बिक्री, वितरण या आयात करने वालों के लिए सजा का प्रावधान है।

एफएसएसएआई के मुताबिक कैल्शियम कार्बाइड जल के संपर्क में आने पर जहरीली गैस निकलती है, जो नाड़ी तंत्र को प्रभावित करती है। इससे सिरदर्द, चक्कर आना, दिमागी सूजन, मिर्गी, नींद आने, मानसिक उलझन आदि समस्याएं भी होती हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story