Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राज्यसभा चुनाव के नतीजों के बाद सीएम योगी का बढ़ा कद, ''बुआ-बबुआ'' के गठबंधन पर मंडराया संकट

राज्यसभा चुनाव में 25 सीटों पर शुक्रवार सुबह 9 बजे से लेकर शाम 4 बजे तक वोटिंग हुई। वोटिंग के बाद देर रात आए नतीजों ने उत्तर प्रदेश के 10 सीटों में से 9 सीटों पर भाजपा ने जीत दर्ज की वहीं सपा ने 1 सीट पर जीत दर्ज की।

राज्यसभा चुनाव के नतीजों के बाद सीएम योगी का बढ़ा कद, बुआ-बबुआ के गठबंधन पर मंडराया संकट
X

राज्यसभा चुनाव में 25 सीटों पर शुक्रवार सुबह 9 बजे से लेकर शाम 4 बजे तक वोटिंग हुई। वोटिंग के बाद देर रात आए नतीजों ने उत्तर प्रदेश के 10 सीटों में से 9 सीटों पर भाजपा ने जीत दर्ज की वहीं सपा ने 1 सीट पर जीत दर्ज की।

यूपी से भाजपा के 8 उम्मीदवार अरुण जेटली, अशोक बाजपेयी, विजय पाल सिंह तोमर, सकलदीप राजभर, कांता करदम, अनिल जैन, हरनाथ सिंह यादव और जीवीएल नरसिम्‍हा राव ने जीत दर्ज की। वहीं समाजवादी पार्टी की तरफ से जया बच्चन ने जीत दर्ज की।

बीजेपी के पक्ष में नितिन अग्रवाल, अनिल सिंह सहित कुछ और क्रॉस वोटिंग हुई। आठ सीटों पर बीजेपी एवं 9वीं सीट पर सपा की जया बच्चन की जीत पक्की थी, वहीं 10वीं सीट भाजपा के लिए बोनस है।

10वीं सीट पर बसपा के भीमराव अंबेदकर और भाजपा के अनिल अग्रवाल के बीच कांटे की टक्कर देखने को मिली। रात के साढ़े 10 बजे परिणाम में भारतीय जनता पार्टी के अनिल अग्रवाल को विजयी घोषित किया गया।

जीत के बाद सपा-बसपा पर बरसे योगी

जीत के बाद हुए प्रेस कांफ्रेंस में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने सपा-बसपा पर जमकर तंज कसते हुए कहा, 'समाजवादी पार्टी दूसरों से ले तो सकती है लेकिन दे नहीं सकती है। लोगों ने वर्षों से समाजवादी पार्टी का ये अवसरवादी चेहरा देखा है।'

योगी ने इस जीत का श्रेय उत्तर प्रदेश के चुनाव प्रभारी रेलमंत्री पीयूष गोयल और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के सर बांधा। साथ ही योगी ने भाजपा की सहयोगी पार्टियों का भी शुक्रिया अदा किया।

जीत के बाद भाजपा के सभी 9 विजयी सांसदों को फूल माला से स्वागत किया गया उसके बाद पार्टी के विधायकों का मुंह मीठा कराया गया।

भाजपा ने पानी की तरह बहाए पैसे

वहीं हार के बाद बसपा के सतीश सिंह ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा ने धांधली करके 10वीं सीट जीती है। पार्टी ने राज्य सरकार के पावर का इस्तेमाल करते हुए न्यायालय के आदेश के बाद भी दो विधायकों को जेल से निकलने नहीं दिया, जिसकी वजह से वो अपना वोट नहीं डाल पाए।

भाजपा को पता था कि यहां जीत का अंतर बहुत कम का होने वाला है इसलिए सीट जीतने के लिए भाजपा ने पानी की तरह पैसे बहाए।

योगी के लिए क्या है जीत के मायने

इस जीत पर गौर करें तो ये गोरखपूर और फूलपुर में हुए उपचुनाव में योगी के नेतृत्व में मिली हार के बाद जो सवाल उठ रहे थे उसपर विराम लग गया है।

जानकारों की माने तो इस जीत के बाद योगी का कद पार्टी में और बड़ा हो गया है। वहीं सपा-बसपा के बीच 2019 के लोकसभा चुनाव में बनने वाले संभावित गठबंधन के अटकलों पर विराम लग सकता है। वहीं 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा और सशक्त हो गई है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story