Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

वृंदावन में डेढ़ हजार विधवाओं ने प्रधानमंत्री को हाथ से बनाकर भेजी राखियां

विधवाओं ने पीएम मोदी के लिए अपने हाथों से बनाकर 1500 राखियां भेजी हैं।

वृंदावन में डेढ़ हजार विधवाओं ने प्रधानमंत्री को हाथ से बनाकर भेजी राखियां
X

वृन्दावन एवं वाराणसी के आश्रमों में विधवा एवं परित्यक्त जीवन बिता रहीं महिलाओं ने रक्षाबंधन के पावन पर्व पर एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए अपने हाथों से बनाकर 1500 राखियां भेजी हैं।

इसके लिए वृन्दावन के तकरीबन पांच सदी पुराने ठा. गोपीनाथ मंदिर में एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन कर गाते-बजाते इन राखियों को मिठाई की टोकरियों के साथ पैक किया गया। यह राखियां बनाने में वृन्दावन के ‘मीरा सहभागिनी' आश्रम में निवास करने वाली विधवाओं ने खासा योगदान किया।
इस कार्यक्रम का आयोजन वर्ष 2012 से वृन्दावन, वाराणसी एवं उत्तराखंड की 1000 विधवाओं की देखभाल कर रहे गैर सरकारी संगठन ‘सुलभ इंटरनेशनल' ने किया। सुलभ इंटरनेशनल के संस्थापक डा. बिन्देश्वर पाठक को अपना भाई मानने वाली इन विधवा महिलाओं ने राखी बांधकर सदियों से चली आ रही कुप्रथा को तोड़कर खुशी-खुशी रक्षाबंधन का त्योहार मनाया।
संस्था के मीडिया सलाहकार मदन झा ने बताया, ‘सोमवार को भाई-बहन के अमिट प्रेम व त्याग के त्योहार के अवसर पर वयोवृद्ध मनु घोष के नेतृत्व में से पांच विधवा महिलाएं दिल्ली में प्रधानमंत्री आवास पर पहुंचकर नरेंद्र मोदी को राखी बांधेंगी तथा मिठाई भेंट करेंगी।'
प्रधानमंत्री को राखी बांधने के लिए उत्साहित 94 वर्षीय मनु घोष ने प्रधानमंत्री का फोटो लगी राखी दिखाते हुए कहा, ‘मैंने भी स्वयं अपने हाथों से उनके लिए राखी बनाई है और मैं उनको यह राखी बांधने के बेहद बेताब हूं। वे समाज के हम जैसे निर्बल वर्गों की बेहतरी के लिए काम कर रहे हैं।'
संस्था की उपाध्यक्ष विनीता वर्मा ने बताया, ‘सुलभ वर्ष 2012 से ही सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशानुसार इन महिलाओं की देखभाल विभिन्न प्रकार से कर रहा है।' उन्होंने बताया, ‘प्रधानमंत्री कार्यालय से हरी झंडी मिल गई है। इसलिए इन महिलाओं एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं का दल रविवार को दिल्ली रवाना हो गया है।'

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story