Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अखिलेश ने दी इफ्तार पार्टी, पापा-चाचा के साथ आजम भी रहे गायब

सपा अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष अहमद हसन ने रोजदारों का स्वागत किया।

अखिलेश ने दी इफ्तार पार्टी, पापा-चाचा के साथ आजम भी रहे गायब
X

पारिवारिक कलह के महासंग्राम में समाजवादी पार्टी से सत्ता क्या फिसली, अब परिवार के सदस्यों के बीच भी वह पुराना तालमेल नहीं दिख रहा है। सोमवार को मुलायम सिंह यादव, आजम खां और शिवपाल यादव की गैरहाजिरी में सपा की रोजा इफ्तार पार्टी से इस बात की बानगी सच होती दिखी।

हालांकि बड़ी संख्या में मुस्लिम धर्म गुरु व समर्थक इफ्तार में हिस्सा लेने पहुंचे थे। सपा अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष अहमद हसन ने रोजदारों का स्वागत किया।

चुनावी साल में समाजवादी परिवार में छिड़ा संग्राम इतना बढ गया कि मुलायम सिंह ने सिर्फ तीन जनसभाएं की। बाप बेटे में कभी तालमेल नहीं दिखा, दोनों के सुर हमेशा भिन्न ही रहे।

चुनाव परिणाम आने के बाद शिवपाल ने नया दल बनाने का एलान किया। तारीख घोषित की मगर मुलायम के दखल पर उसमें बदलाव कर दिया। इस दौर में अखिलेश यादव ने स्वीकारा कि 'चुनावी हार का एक कारण परिवार की कलह की अतिरिक्त चर्चा रही।

ऐसे में सपा 19 जून को रोजा इफ्तार एलान किया तो निगाहें मुलायम पर थीं।ऐसा लगा कि अब सब ठीक हो जायेगा, रूठे पिता अब मान जायेंगे . सोमवार सुबह मुलायम दिल्ली में थे, वहां ढेरों नेताओं से मिले।

शाम साढ़े छह बजे वह लखनऊ पहुंचे। इफ्तार का समय सात बजकर कुछ मिनट पर था, ऐसे में उम्मीद थी शायद वह इफ्तार पार्टी में आ जाएं मगर वह सीधे विक्रमादित्य मार्ग स्थित आवास चले गए, जबकि पिछले साल बहुत बीमार होने के बाद भी इफ्तार पार्टी में गए थे।

आजम रामपुर में बने रहे। शिवपाल इफ्तार पार्टी से चंद कदम दूर घर पर रहे, जिससे साफ है कि समाजवादी परिवार में सियासी मतभेद ही नहीं, दिलों में दूरियां बढ़ रही हैं। ऐसे में अगर शिवपाल यादव का समाजवादी लोकतांत्रिक मोर्चा अस्तित्व में आ जाए तो हैरत नहीं होगी।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story