Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

यूपी के इस गांव को डर से खाली कर रहे हैं अल्पसंख्यक

सरकार ने उन सभी पुलिस वालों को निलंबित कर दिया है जो घटना के वक्त तमाशबीन बने हुए थे।

यूपी के इस गांव को डर से खाली कर रहे हैं अल्पसंख्यक
X

उत्तर प्रदेश के सम्भल स्थित नन्दरौली गांव में एक वर्ग के युवक द्वारा दूसरे समुदाय की विवाहिता को अपने साथ ले जाने के बाद उत्पन्न तनाव के बीच अल्पसंख्यक समुदाय के अनेक परिवार अपना घर छोडकर चले गये हैं।

नन्दरौली गांव में अलग-अलग समुदायों से ताल्लुक रखने वाले युवक और एक विवाहिता के बीच आशनाई और महिला को अपने साथ ले जाने के मामले ने साम्प्रदायिक रुप ले लिया था।

गत 10 मई को पुलिस की मौजूदगी में वर्ग विशेष के लोगों के घरों में तोड़फोड़ के बाद गांव में डर और आशंका का माहौल देखकर अल्पसंख्यक समुदाय के 10-15 परिवार पलायन कर गये हैं।

पुलिस अधीक्षक रवि सिंह छवि भी मानते हैं कि लोग डर की वजह से अपना घर छोडकर रिश्तेदारों के घर चले गये हैं, लेकिन वह इसे पलायन की श्रेणी में नहीं रखते।

उन्होंने कहा ‘‘लोगों ने पलायन नहीं किया है। वो अगल-बगल की रिश्तेदारी में चले गए है। माहौल थोडा सही हो जाएगा तो आ जाएंगे। लोग डर के मारे चले गए हैं, लेकिन पलायन नहीं हुआ है। पलायन का मतलब दूसरा होता है। कोई अपना सब-कुछ बेचकर चला जाए, उसे पलायन कहा जाता है।'

इस बीच, नन्दरौली गांव निवासी सगीर अहमद ने बताया कि गांव में एक वर्ग विशेष के लोगों द्वारा पिछली 10 मई को जिस तरह की तोड़फोड़ की गयी, उसकी दहशत के चलते अल्पसंख्यक वर्ग के 10-15 परिवार अपने घर में ताला लगाकर और घर का सामान ले कर चले गए हैं।

उन्होंने कहा कि जिस तरह पुलिस के सामने घरों में तोड़फोड़ किये जाने के साथ-साथ सामान में आग लगायी गयी, उससे हम खुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं, इसके चलते हम घर का सामान समेट कर किसी और ठिकाने पर जा रहे हैं।

नन्दरौली के ही रहने वाले शानू मियां ने भी कुछ ऐसी ही दास्तां बयान की है। उनका कहना है कि वह भी अन्य लोगों की तरह अपना सामान बांधकर परिवार के साथ अपनी रिश्तेदारी में जा रहे हैं। माहौल ठीक होने पर देखा जाएगा।

इस बीच, प्रशासन ने नन्दरौली गांव में गत 10 मई की रात को एक वर्ग के लोगों के घरों में तोड़फोड़ के दौरान तमाशबीन बने चार पुलिसकर्मियों को निलम्बित कर दिया है।

अपर पुलिस अधीक्षक पंकज पांडेय ने बताया कि नन्दरौली मामले मे 10 मई की रात को पुलिस की मौजूदगी में एक वर्ग के घरों में तोड़फोड़ तथा आगजनी के दौरान गांव में तैनात हेड कांस्टेबल मलखान सिंह तथा अशोक कुमार, कांस्टेबल सहदेव सिंह और अमर पाल सिंह को निलम्बित कर दिया गया है।

उन्होंने बताया कि उपद्रव के दौरान ड्यूटी पर तैनात 23वीं वाहिनी पीएसी के जवानों पर कार्रवाई के लिए सम्बन्धित कमांडेंट को पत्र लिखा गया है। इस मामले मे एक पक्ष के सात लोगों तथा विवाहिता को अपने साथ ले जाने के आरोपी युवक को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story