Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

''देश की आशा को पूरा करने वाला होगा बजट''- मोदी

इस अभिभाषण के साथ ही मोदी सरकार की पूरी टीम एक बार फिर से 2019 के लोकसभा चुनावों के लिए जनता की अदालत में उतर जाएगी। इस अभिभाषण में तीन मोर्चों पर मोदी सरकार का पूरा जोर रहने वाला है।

देश की आशा को पूरा करने वाला होगा बजट- मोदी
X

राष्ट्रपति कोविंद के अभिभाषण के साथ आज 11 बजे बजट सत्र के पहले भाग की शुरूआत होगी। आपको बता दें कि इस सत्र का पहला चरण 29 जनवरी से 9 फरवरी तक चलेगा, इस दौरान सरकार पहले दिन ही आर्थिक सर्वेक्षण पेश करेगी और 1 फरवरी को इस साल का केन्द्रीय बजट पेश किया जाएगा। वहीं 9 फरवरी के मध्यावधि अवकाश के बाद 5 मार्च को बजट सत्र का दूसरा भाग प्रारंभ होगा जो 6 अप्रैल तक चलेगा।

सुबह करीब 11 बजे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद संयुक्त सत्र को सेंट्रल हॉल में संबोधित करेंगे। राष्ट्रपति के अभिभाषण के साथ सरकार आर्थिक सर्वेक्षण भी पेश करेगी। बता दें कि केंद्र की मोदी सरकार की यह चौथा पूर्ण बजट है वहीं जीएसटी लागू होने के बाद यह पहला बजट है। मोदी सरकार के लिए 2019 लोकसभा चुनाव से पहले यह आखिरी पूर्ण बजट है, इस लिहाज़ से बजट काफी महत्वपूर्ण है।

बजट सत्र शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री मोदी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि इस बार का बजट देश के आशाओं के अनुरूप होगा। मैं तमाम राजनैतिक दल से अनुरोध करता हूं कि इस सत्र में तीन तलाक बिल को पास कराने में सरकार का सहयोग करें।

यह भी पढ़ें- कासगंज हिंसा: पटरी पर लौटी जिंदगी, हिंसा फैलाने वाले पर लगेगा रासुका

इन मोर्चों पर होगा मोदी सरकार का पूरा जोर

इस अभिभाषण के साथ ही मोदी सरकार की पूरी टीम एक बार फिर से 2019 के लोकसभा चुनावों के लिए जनता की अदालत में उतर जाएगी। इस अभिभाषण में तीन मोर्चों पर मोदी सरकार का पूरा जोर रहने वाला है। सबसे पहला एवं अहम मोर्चा सरकार के कामकाज को लेकर जनता के बीच में जो भ्रम है, उसे दूर करना।

वहीं दूसरा ये कि अब तक सरकार ने जीएसटी व नोटबंदी समेत जो बड़े और क्रांतिककारी कदम उठाए हैं उसके फायदे जनता को बताना और तीसरा प्रधानमंत्री मोद के न्यू इंडिया की अवधारणा वाला भारत, जहां सबके लिए बराबरी का मौका होगा। दूसरी ओर आंतरिक और सामरिक सुरक्षा के साथ-साथ विदेश नीति के मोर्चे पर भी मोदी सरकार की उपलब्धियों को गिनाया जाएगा।

राष्ट्रपति कोविंद का पहला अभिभाषण

राष्ट्रपति बनने का बाद बतौर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का यह पहला अभिभाषण होगा। आपको बता दें कि राष्ट्रपति का अभिभाषण दरअसल केंद्र सरकार का दस्तावेज होता है जिसमें केंद्र सरकार की पिछले साल की उपलब्धियों के साथ-साथ आगामी वित्तीय वर्ष के लिए सरकार के विज़न, योजनाओं और एजेंडे का खाका होता है।

1 फरवरी को पेश होगा आम बजट

1 फरवरी को वित्त मंत्री अरूण जेटली आम बजट पेश करेंगे। इस बार के बजट को तैयार करने में वित्त मंत्री के साथ कई और लोग लगे हुए हैं। हंसमुख अधिया जो कि वित्त सचिव हैं उनका मुख्य योगदान होगा इस बजट को तैयार करने में। वह 1981 के गुजरात कैडर के आईएएस अधिकारी हैं, माना जा रहा है कि अधिया सबसे अनुभवी अधिकारी हैं जो इस साल बजट की टीम की अगुवाई कर रहे हैं।

लोकलुभावन नहीं होगा बजट

पिछले दिनों दिए गए टीवी इंटरव्यू में प्रधानमंत्री मोदी ने ऐसे संकेत दिए थे कि इस बार का बजट लोकलुभावन नहीं होगा। इंटरव्यू के दौरान मोदी ने कहा था कि आगामी बजट कोई लोकलुभावन बजट नहीं होने वाला है, सरकार सुधारों के एजेंडे पर ही चलेगी, जिसके चलते भारतीय अर्थव्यवस्था पांच प्रमुख कमजोर अर्थव्यवस्था की जमात से निकलकर दुनिया का आकर्षक गंतव्य बन गया है।

यह भी पढ़ें- उपचुनाव: राजस्थान की दो और पश्चिम बंगाल की एक लोकसभा सीट के लिए वोटिंग जारी

तीन तलाक विधेयक पास कराने पर रहेगा जोर

इस बार के बजट सत्र में सरकार का मुख्य जोर तीन तलाक विधेयक को पास कराना होगा। रविवार को हुई सर्वदलीय बैठक में संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने कहा कि सरकार बजट सत्र के दौरान एक बार में संसद में तीन तलाक विधेयक को पारित कराने का प्रयास करेगी।

आपको बता दें तीन तलाक से जुड़ा विधेयक पिछले शीतकालिन सत्र में राज्यसभा में कांग्रेस समेत विपक्षी पार्टियों के हंगामें के कारण पारित नहीं हो सका था। वहीं लोकसभा में ये विधेयक बिना किसी बदलाव के ही पास हो गया था। तीन तलाक विधेयक पर चर्चा मुख्य रूप से इस बजट सत्र के दूसरे भाग में होगा जो 5 मार्च से 9 अप्रैल तक चलेगी।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story