Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

कटक शहर में ट्रेन से कटे शव उठाने को मजबूर नाबालिग, प्रति शव मिलते थे चार सौ रूपए

कटक शहर में रेलवे स्टेशन से हाल ही में दो ऐसे नाबालिगों को छुड़ाया गया

कटक शहर में ट्रेन से कटे शव उठाने को मजबूर नाबालिग, प्रति शव मिलते थे चार सौ रूपए
भूवनेश्वर. ओडिशा के कटक शहर में रेलवे स्टेशन से हाल ही में दो ऐसे नाबालिगों को छुड़ाया गया है जिनसे ट्रेन से कटी शवों को ढोने का काम लिया जा रहा था। इनमें से एक अमर (बदला हुआ नाम) ने बताया कि पिछले एक साल में उन्होंने पटरियों पर पड़ी कम से कम 200 शव उठाए हैं। वे कहते हैं, इनमें से कई शव दो, तीन दिन और कभी कभी एक हफ्ता या उससे भी ज्यादा पुरानी होती थीं। ज्यादातर पुराने शव सड़े-गले होते थे। लेकिन हमें शव उठाने के लिए दस्ताने भी नहीं दिए जाते थे।इसलिए हम हाथों में पॉलीथिन लपेटकर यह काम करते थे। इतना ही नहीं, कटक और आसपास के इलाकों से कूड़े के बोरों में शवों के टुकड़े भरकर कटक स्टेशन पहुंचाने के बाद उन्हें एससीबी मेडिकल कॉलेज जाना पड़ता था जहां बच्चों के हाथों शवों की चीरफाड़ भी कराई जाती थी। पोस्टमॉर्टम के बाद शवों को इलेक्ट्रिक शवदाह गृह पहुंचाने के बाद ही उनका काम समाप्त होता था।
प्रति शव मिलते थे 400 रुपए
अमर ने बताया कि इन सभी कामों के लिए उन्हें प्रति शव 400 रुपए ही मिलते थे। लेकिन बताया जाता है कि रेलवे की ओर से हर शव के लिए 3,000 रुपए दिए जाने का प्रावधान है। जाहिर है कि बाकी रकम रेलवे पुलिस के अधिकारियों और इस काम के लिए नियुक्त संस्था के कार्यकर्ताओं की जेब में जाती रही होगी। अमर के साथी 15 साल के सुरेश (बदला हुआ नाम) के साथ बातचीत के दौरान एक और चौंका देने वाली बात सामने आई।
उनका कहना था कि रेलवे पुलिस के गश्ती कर्मचारी उन्हें चेतावनी देते थे कि ‘बड़े बाबू’ के पूछने पर वह अपनी उम्र 19 बताए। वे हमें धमकी देते थे कि अगर हमने सही उम्र बताई तो वे हमें बुरी तरह पीटेंगे और प्लेटफॉर्म पर सोने नहीं देंगे। यह कोरी धमकी नहीं थी। हमें वे सचमुच मारते थे, कभी कभी तो उल्टा लटकाकर अमर के बदन पर मार के निशान अब भी हैं। चार महीने पहले कामकरने से इनकार करने पर उसे इतनी बुरी तरह से पीटा गया था कि उसका दाहिना हाथ टूट गया।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, मामले के बारें में -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-
Next Story
Share it
Top