logo
Breaking

ओडिशा बाढ़ में अब तक 45 की मौत, उत्‍तराखंड में भूस्‍खलन से कई मार्ग जाम

सरकार ने दावा किया है कि बाढ़ की स्थिति में सुधार हो रहा है और राज्य में सभी प्रमुख नदियों का जलस्तर घट रहा है।

ओडिशा बाढ़ में अब तक 45 की मौत, उत्‍तराखंड में भूस्‍खलन से कई मार्ग जाम
भुवनेश्वर. बाढ़ से ओडिशा में अब तक 45 लोगों की मौत हो चुकी है और इससे 23 जिलों के लाखों लोग प्रभावित है। राज्य में बाढ़ से 23 जिलों में 5312 गांवों के 33 लाख 90 हजार लोग प्रभावित हैं। बाढ़ के कारण राज्य में तीन लाख 22 हजार हेक्टेयर खड़ी फसलों पर असर पड़ा है। विशेष राहत आयुक्त कार्यालय के सूत्रों ने यहां बताया कि बाराग्रह जिले में बाढ़ से सबसे ज्यादा 10 लोगों की मौत हुई है और इसके बाद मयूरभंज में 8, भद्रक और सम्बलपुर में पांच-पांच लोगों की मौत हुई है।
आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि 460 गांवों के चार लाख 87 हजार लोग प्रभावित क्षेत्रों में फंसे हुए हैं। अधिकारियों ने राहत एवं बचाव अभियान के लिए 603 नावों को तैनात किया है और बाढ़ प्रभावित लोगों को भोजन उपलब्ध कराने के लिए 168 राहत केंद्र खोले हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार, राज्य के विभिन्न भागों में बाढ़ से अब तक 29 हजार 842 मकान क्षतिग्रस्त हुए हैं।
अधिकारियों ने हालांकि दावा किया है कि बाढ़ की स्थिति में सुधार हो रहा है और राज्य में सभी प्रमुख नदियों का जलस्तर घट रहा है। कटक जिले के बांकी उपमंडल की 30 पंचायतों में बाढ़ की स्थिति गंभीर बनी हुई है जबकि पुरी जिले का कनास क्षेत्र बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित है। कोरापुट से प्राप्त एक रिपोर्ट के अनुसार, दसामंतपुर ब्लाक की दो महिलाएं मुरान नदी के बाढ़ के पानी में बह गई। ये महिलाएं नदी को पार करते समय डूबी। इन महिलाओं के शव अभी बरामद नहीं किए जा सके हैं।
नीचे की स्लाइड्स में जानिए, उत्‍तराखंड में भूस्‍खलन से हुआ बुरा हाल -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-
Share it
Top