logo
Breaking

गोवा के हर गांव में है एड्स मरीज, महाराष्ट्र में मिला इबोला का संदिग्ध

शेट्टी ने कहा कि घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि इबोला का संक्रमण तभी होता है जब कोई संक्रमित व्यक्ति के करीबी संपर्क में आए।

गोवा के हर गांव में है एड्स मरीज, महाराष्ट्र में मिला इबोला का संदिग्ध

पणजी/मुंंबई. राज्य के स्वास्थ्य मंत्री लक्ष्मीकांत परसेकर ने आज कहा कि गोवा में एक भी ऐसा गांव नहीं है जो एचआईवी प्रभावित नहीं है। परसेकर ने यहां विधानसभा में कहा, 15,000 लोग एचआईवी से पीड़ित हैं जिसका मतलब यह है कि राज्य में एक फीसदी लोग इससे पीड़ित हैं। राज्य में एक भी ऐसा गांव नहीं है जहां कोई भी व्यक्ति एचआईवी से पीड़ित नही है। गोवा में एचआईवी मामले पर वे भाजपा विधायक नीलेश कबराल द्वारा पेश एक सवाल का जवाब दे रहे थे।

मंत्री ने कहा कि हालांकि, राज्य में एचआईवी से पीड़ित लोगों की संख्या में कमी आई है। वर्ष 2009 के बाद से रागियों की संख्या में लगभग आधे की कमी आयी है। उन्होंने सदन को बताया, वर्ष 2003 से 2008 तक राज्य में हर वर्ष 1,000 मामले दर्ज हो रहे थे लेकिन 2009 के बाद से यह संख्या वार्षिक रूप से लगभग 550 हो गयी।

महाराष्ट्र में इबोला का संदिग्ध मिला- हाल में नाइजीरिया के लागोस शहर से यहां लौटे महाराष्ट्र के पालघर के वसई इलाके के रहने वाले एक व्यक्ति में इबोला के लक्षण पाए जाने के बाद उसका एक सरकारी अस्पताल के अलग वार्ड में इलाज किया जा रहा है। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री सुरेश शेट्टी ने कहा कि ललित कुमार को लागोस से लौटने के बाद उल्टियां हो रही थी।

नीचे की स्लाइड्स में जानिए, क्‍या कहता है स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय-
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-
Share it
Top