logo
Breaking

फिर सलवा जुडूम की तैयारी, नक्सलियों के खिलाफ हो सकती है आदिवासियों की फौज खड़ी

नक्सल समस्या पर विचार करने के लिए बनाई गई सब-कमिटी ने आदिवासियों की बटालियन बनाने का सुझाव दिया है।

फिर सलवा जुडूम की तैयारी, नक्सलियों के खिलाफ हो सकती है आदिवासियों की फौज खड़ी

हैदराबाद. छत्तीसगढ़ में चलाया गया असफल सलवा जुडूम अभियान फिर से शुरू हो सकता है। आंध्र प्रदेश सरकार को नक्सलियों से धमकी मिली है जिसके बाद राज्य सरकार आदिवासियों की फौज खड़ी करना चाहती है।

ये भी पढ़ेः छत्तीसगढ़ में पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़, पांच ने किया आत्मसर्मपण

नक्सल समस्या पर विचार करने के लिए बनाई गई सब-कमिटी ने आदिवासियों की बटालियन बनाने का सुझाव दिया है। इस कमेटी के हेड राज्य के वित्त मंत्री यंमाला रामकृष्णेंदु हैं। कमिटी ने सुझाव दिया है कि ईस्ट गोदावरी, विशाखापत्तनम, विड़िगनगरम और र्शूकाकुलम के आदिसवासी युवाओं की बटालियन बनाकर आंध्र-ओडिशा और छत्तीसगढ़ सीमा पर नक्सलियों का सामना किया जाए।

ये भी पढ़ेः माओवादियों ने बदली हमले की रणनीति, अब मोबाइल वार पर जोर

सरकार का पक्षः- सरकार को लगता है उसके इस फैसले से हताश और गुस्साए (जिनमें से बहुतों को पोलावरम प्रॉजेक्ट की वजह से अपना घर छोड़ना पड़ा है) आदिवासी युवाओं को माओवादियों के पक्ष में जाने से रोका जा सकेगा। वहीं सुरक्षा विशेषज्ञों का कहना कि यह फैसला सरकार पर उल्टा पड़ेगा।

ये भी पढ़ेः चार नक्सलियों ने किया सर्मपण, मालमेटाके क्षेत्र से 9 गिरफ्तार

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, छत्तीसगढ़ में असफल रहा और यैकड़ो आदिवासी लापता-

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Share it
Top