logo
Breaking

लखनऊः साढ़े चार लाख में दी चूहों को मारने की ''सुपारी

रेलवे स्टेशन पर चूहे सरकारी दस्तावेज और यात्रियों के बैग को नुकसान पहुंचा रहे हैं।

लखनऊः साढ़े चार लाख में दी चूहों को मारने की
लखनऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में ऐसी नौबत आ गई है चूहों की सुपारी दी जा रही है। चारबाग रेलवे स्टेशन चूहों को खत्म करने के लिए करीब 35,000 रुपए प्रति माह खर्च करेगा। बड़ी तदादा में चूहे प्लेटफार्म पर निवास कर रहे हैं।
जिसके चलते प्राइवेट कंपनी को चूहों के मारने के लिए 4.76 लाख का कॉन्ट्रेक्ट दिया है। ये चूहें सरकारी दस्तावेज और यात्रियों के बैग और अन्य जरूरत की चीजों को नुकसान पहुंचा रहे हैं। प्लेटफार्म पर चूहों की तादाद बढ़ने से काफी सामान खराब हो रहा है। रेलवे के कर्मचारी जरूरतमंद सरकारी दस्तवेज को इक्ट्ठा करने में परेशान हो गए हैं। प्लेटफार्म के अंदर चूहें अपना घर बना चुके हैं।
टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक, पिछले तीन सालों में इस सामाधान के लिए दूसरी बार कॉन्ट्रेक्ट किया गया है। पहली बार 2013 में किया था, जो नाकाम रहा। रेलवे के अधिकारी ने बताया कि प्लेटफार्मों और कार्यालय भवनों में चूहे के खतरे से पिछले एक साल से विक्रेताओं को करीब 10 लाख रुपए का भारी नुकसान हुआ है।
प्लेटफॉर्म पर खाने का सामान बेचने वाले राजू ने कहा कि मैंने देखा कई लोग चूहे से हुए नुकसान की शिकायत स्टेशन मास्टर से कर रहे हैं। चूहों ने उनके खाने के पैकेट को कुतर दिया था।
वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक अजीत कुमार सिन्हा ने बताया है कि रेट किलिंग कॉन्ट्रेक्ट एक प्राइवेट कंपनी को दिया गया है। चूहों के शव की चारबाग रेलवे स्टेशन के मुख्य स्वास्थ्य निरीक्षक द्वारा जांच की जाएगी। काम अगस्त के आखिरी सप्ताह से शुरू हो जाएगा। ये एक साल के कॉन्ट्रेक्ट है। इस टीम की सीनियर नीना सक्सेना का कहना है कि कंपनी इस काम के लिए तैयार है। चूहे की सामग्री विश्व स्वास्थ्य संगठन के नियमों के अनुसार होगी।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को
फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Share it
Top