Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

युवराज ले लेते संन्यास अगर कोहली ने ना रोका होता तो

युवराज का कहना है कि जब टीम का भरोसा हो तो आत्मविश्वास आ ही जाता है।

युवराज ले लेते संन्यास अगर कोहली ने ना रोका होता तो
नई दिल्ली. भारतीय क्रिकेटर युवराज सिंह उस वक्त क्रिकेट की दुनिया से दूर जाना चाहते थे जब उन्हें अपने कैंसर की बीमारी का पता चला था। लेकिन कप्तान विराट कोहली के भरोसे ने युवी को ये कदम उठाने से रोक लिया।
दरअसल, कैंसर से लड़कर युवराज इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे वनडे में सबसे शानदार 150 रन की पारी खेली। इस जबरदस्त प्रदर्शन के लिए युवराज ने सारा श्रेय विराट कोहली को दिया। युवी ने कहा कि ‘जब आपको टीम और कप्तान का भरोसा हासिल हो तो आत्मविश्वास आ ही जाता है।
युवी का कहना है कि वह क्रिकेट से विदा लेना चाहते थे लेकिन विराट ने रोका और समझाया। विराट ने इतना भरोसा दिलाया तो मुझे उसके भरोसे पर खरा उतरना ही था। विराट ने मुझपर भरोसा किया यह मेरे लिए बेहद अहम बात है। युवी का कहना है कि अगर ड्रेसिंग रूम के सभी लोगों को मुझपर भरोसा नहीं होता तो शायद मैं इस मुकाम पर नहीं होता।
युवराज का कहना है कि जब वह कैंसर से उभरे और दोबारा खेल में वापसी की तो पहले के कुछ दिन तकलीफ में गुजरा था। लेकिन काफी मेहनत और हिम्मत ने मेरा जज्बा बढ़ा दिया। इस सत्र में रणजी ट्रॉफी में शानदार प्रदर्शन के दम पर युवराज की वापसी हुई है। ऐसा नहीं है कि युवी ने इस बार ही शतक मारा है इससे पहले भी युवराज ने आखिरी शतक 2011 विश्व कप में चेन्नई में लगाया था। युवराज ने बताया कि शतक बनाए हुए उन्हें काफी लंबा वक्त हो गया था।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top