Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पत्नी हेजल संग युवी मनाएंगे जन्मदिन, सिक्सर किंग के कॅरियर पर एक नजर

भारत के स्टार बल्लेबाज खिलाड़ी युवराज सिंह पत्नी हेजल के संग जन्मदिन मनाएंगे।

पत्नी हेजल संग युवी मनाएंगे जन्मदिन, सिक्सर किंग के कॅरियर पर एक नजर
नई दिल्ली. युवराज सिंह अपनी पत्नी हेजल कीच के साथ जीवन की एक नई शुरुआत कर चुके हैं। आज इसके साथ ही दोनों पहली बार पति-पत्नी के रूप में एक दूसरे के साथ जन्मदिन मनाएंगे। भारतीय क्रिकेट टीम के ताबड़ तोड़ बल्लेबाज युवराज सिंह क्रिकेट जगत में एक ऐसा नाम है जो कि किसी तारीफ का मोहताज नहीं है। जी हाँ... युवराज एक ऐसी सख्सियत है जो अपनी बल्लेबाजी और मस्तमोला छवि से दर्शको के दिलो पर राज करते है।
क्रिकेट मैदान पर अपना लोहा मनवाने वाले खिलाड़ी युवराज सिंह का जन्म 12 दिसंबर 1981 को चंड़ीगढ़ में हुआ था। आज युवी 35 साल के हो गए हैं। साल 1981 में जन्मे युवराज सिंह से सिर्फ 19 साल की उम्र में साल 2000 में पहला वनडे मैच खेला था। पिछले 15 सालों से युवराज भारतीय क्रिकेट की धुरी रहे हैं। युवराज क्रिकेट, बॉल और फिल्डिंग तीनों में टीम के सबसे भरोसेमंद खिलाड़ियों में गिने जाते रहे हैं।
बता दें कि साल 2007 के टी20 वर्ल्डकप में एंड्रयू फ्लिंटॉफ से उनका किसी बात को लेकर झगड़ा हो गया. और इसका खामियाज इंग्लैंड के एक अन्य बॉलर स्टुअर्ड ब्रॉड को भुगतना पड़ा. और युवराज ने ब्रॉड की गेंद पर 6 गेंदों पर 6 छक्के लगा कर एक नया रिकॉर्ड बना दिया. हालाँकि इससे पहले क्रिकेट में 3 बार 6 गेंदों पर 6 छक्के लगाए जा चुके है।
युवराज सिंह लगातार अच्छा प्रदर्शन करते जा रहे थे। प्रथम श्रेणी मैचों में अच्छे प्रदर्शन के वजह से युवराज सिंह का अंडर-19 वर्ल्ड कप में चयन हुआ। मोहम्मद कैफ की कप्तानी में भारतीय टीम श्रीलंका पहुंची। 16 जनवरी 2000 को न्यूज़ीलैंड के खिलाफ मैच में युवराज सिंह ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए हुए भारत की तरफ से सबसे ज्यादा 68 रन बनाए और न्‍यूजीलैंड के चार विकेट लेने भी कामयाब हुए थे। युवराज सिंह के इस प्रदर्शन की वजह से भारत इस मैच में 28 रन से जीता था और युवराज सिंह 'मैन ऑफ द मैच' का ख़िताब जीते थे। भारत इस टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन करते हुए चैंपियन बना था और युवराज सिंह मैन ऑफ द सीरीज बने थे।
2011 वर्ल्ड कप के बाद पता चला कि युवराज सिंह को कैंसर है। ट्रीटमेंट के लिए युवराज सिंह को अमेरिका जाना पड़ा। युवराज सिंह ने अपनी किताब में लिखा है कि जब उनका इलाज़ चल रहा था तब उन्हें कभी यह नहीं लगा था कि वह दोबारा क्रिकेट खेल पाएंगे। वह सिर्फ अपनी जान बचाना चाहते थे. उनके आदर्श सचिन तेंदुलकर और अनिल कुंबले जैसे खिलाड़ी युवराज से मिलने के लिए अस्पताल गए थे। करीब ढाई महीने तक युवराज सिंह का इलाज़ चला। युवराज ठीक होकर भारत लौटे।
कॅरियर पर एक नजर....
युवराज को क्रिकेट नहीं बल्कि टेनिस और रोलर स्केटिंग खेलना बेहद पसंद था।
युवराज ने बचपन में मेंहदी सजना दी और पुत्त सरदारा में एक्टिंग कर चुके हैं।
एक विश्व कप में 300 रन और 15 विकेट लेने वाले युवराज एकमात्र ऑलराउंडर हैं।
युवराज को अर्जुन अवॉर्ड और पद्मश्री से नवाजा जा चुका है।

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top