Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

विराट कोहली तो हमारे पाकिस्तान में भी हीरो हैं: अकरम

भारत के पेस बॉलर दमदार नहीं

विराट कोहली तो हमारे पाकिस्तान में भी हीरो हैं: अकरम

रायपुर. पाकिस्तान टीम के पूर्व कप्तान वसीम अकरम का कहना है कि आपका विराट कोहली आपके देश भारत का ही हीरो नहीं है बल्कि हमारे पाकिस्तान में भी उनके चाहने वाले भारत से कम नहीं हैं। र्शी अकरम शुक्रवार को राजधानी रायपुर में ईओ की दक्षिण एशियाई कांफ्रेंस में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि वे भी विराट कोहली को विश्व का सबसे बेहतरीन खिलाड़ी मानते हैं। अकरम ने कहा कि उनके चाहने वाले जितने आपके देश भारत में हैं, हमारे देश में भी विराट के दीवानों की कमी नहीं है।

भारत के साथ खेलना हमेशा कठिन

अकरम ने कहा कि भारत के साथ खेलना हमेशा कठिन रहा है। हर मैच में दबाव रहता है। उन्होंने दबाव का खुलासा करते हुए कहा कि यह दवाब ऐसा होता है कि हमारे देश का एक टैक्सी ड्राइवर हो या ठेले वाला या फिर कोई दुकान चलाने वाला, इसी के साथ हमारे परिवार के लोग, सभी कहते हैं कि मैच जीतकर ही आना। अब हर मैच तो जीता नहीं जा सकता।

सचिन को मैंने बच्चा समझा था

अकरम ने पुराने दिनों का याद करते हुए कहा कि आज जिन सचिन तेंदुलकर ने विश्व रिकार्डों का पहाड़ खड़ा कर दिया है, उनको उन्होंने तब बच्चा समझा था जब वे पाक में टेस्ट खेलने आए थे। तब मैंने उनको पहली बॉल बाउंसर की थी। एक बॉल से वह घायल भी हुआ था, पर पट्टी लगाकार वह खेलने आ गया, मैंने तभी कहा था कि यह एक दिन बड़ा खिलाड़ी बनेगा।

बच्चों को संभालना मुश्किल

अकरम ने अपने निजी जीवन के बारे में बताया कि कैसे उनकी पत्नी के निधन के बाद उनको परेशानियों का सामना करना पड़ा। उन्होंने कहा कि मैं तो कुछ भी नहीं जानता था, न बच्चों के कपड़े लेना, न उनकी स्कूल की पुस्तकों और कापी के बारे में। लेकिन समय से साथ सब सीखना पड़ा। इसके बाद मैंने दूसरी शादी की तो मेरी विदेशी पत्नी ने मेरे बच्चों को संभालने में मदद की।

अच्छा करने की सोच रखें सफल होंगे

वसीम अकरम ने सफलता का राज बताते हुए कहा कि हमेशा अच्छा करने की सोचेंगे तो अच्छा होगा। उन्होंने कहा कि मैंने अपने जीवन में काफी मेहनत की है। मैं अगले जन्म में भी क्रिकेटर बनना चाहूंगा।

भारत के पेस बॉलर दमदार नहीं

अकरम कहते हैं कि भारत के पास पेस बॉलर आते हैं, पर वे एक साल में ही अपनी गति खो देते हैं। उन्होंने कहा कि मो. सामी से लेकर कई भारतीय बॉलरों को उन्होंने गुर सीखाएं हैं। वे कहते हैं कि उनके पास जो भी आया है, उसको सीखाया है।

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top