Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

IND vs SA: दक्षिण अफ्रीका दौरे को लेकर पूर्व तेज गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद का बड़ा बयान

अगले महीने दक्षिण अफ्रीका दौरे को लेकर भारत के पूर्व तेज गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद ने बड़ा बयान दिया है।

IND vs SA: दक्षिण अफ्रीका दौरे को लेकर पूर्व तेज गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद का बड़ा बयान

भारत के पूर्व तेज गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद का मानना है कि ईशांत शर्मा को आगामी दक्षिण अफ्रीका दौरे पर भारतीय आक्रमण की अगुवाई करनी होगी क्योंकि अभी तक उसने अपनी पूरी प्रतिभा की बानगी पेश नहीं की है ।

भारत ने पांच जनवरी से केपटाउन में शुरू हो रही तीन टेस्ट मैचों की श्रृंखला के लिए ईशांत, उमेश यादव, भुवनेश्वर कुमार, मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमरा के रूप में पांच तेज गेंदबाजों को चुना है ।

इन सभी में ईशांत सबसे अनुभवी है लेकिन अंतिम एकादश में उनका स्थान पक्का नहीं है । दस साल पहले टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण करने वाले ईशांत 79 टेस्ट खेलकर 226 विकेट ले चुके हैं।

इसे भी पढ़े: मुकेश अंबानी के बेटे इस बड़े क्रिकेटर की बेटी को दे बैठे दिल, नाम जानकर हैरान रह जाएंगे!

पूरी प्रतिभा का इस्तेमाल करे ईशांत

प्रसाद ने कहा- ईशांत एक दशक से खेल रहा है और अब उसे आक्रमण की अगुवाई करनी चाहिए । पता नहीं क्या मसला है । उसके पास कद, रफ्तार और आक्रामकता है लेकिन वह अपनी प्रतिभा पूरी तरह से नहीं दिखा सका है।

उसे वह भूमिका निभानी चाहिए जो जवागल श्रीनाथ, जहीर खान या कपिल देव ने अपने दौर में निभाई थी।’

भारतीय गेंदबाजों में है विविधता

दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए चुने गए भारतीय तेज गेंदबाजों के बारे में पूछने पर प्रसाद ने कहा कि विविधता की कमी नहीं है लेकिन देखना यह है कि वे हालात के अनुकूल खुद को कैसे ढालते हैं ।

उन्होंने कहा, सभी एक दूसरे से अलग है । अब इतना अधिक क्रिकेट हो रहा है कि दक्षिण अफ्रीका की पिचें वैसी नहीं रह गई है जो 10-15 साल पहले हुआ करती थी।

इसे भी पढ़े: बॉलीवुड एक्ट्रेस सोनाली बेंद्रे को किडनैप कराना चाहते थे शोएब अख्तर, पढ़िए पूरा मामला

हालात के अनुसार ढलना होगा गेंदबाजों को

अतिरिक्त उछाल का हालांकि तेज गेंदबाजों को फायदा मिलेगा लेकिन देखना यह है कि भारतीय गेंदबाज हालात के अनुकूल खुद को कैसे ढालते हैं।

वनडे और टी20 क्रिकेट में लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे बुमरा को पहली बार टेस्ट टीम में शामिल किया गया है ।

प्रसाद ने कहा- उसने अच्छा प्रदर्शन किया और इसी वजह से उसे चुना गया है। देखते हैं कि वह कैसा प्रदर्शन करता है ।

रबाडा से रहना होगा सावधान

टेस्ट क्रिकेट में गेंदबाजी सीमित ओवरों में गेंदबाजी से अलग है । दक्षिण अफ्रीका के पास डेल स्टेन, मोर्नी मोर्कल, वेर्नोन फिलैंडर और कागिसो रबाडा जैसे गेंदबाज हैं ।

प्रसाद का मानना है कि चोट के बाद वापसी कर रहे स्टेल और मोर्कल भारत के लिए उतना बड़ा खतरा नहीं होंगे लेकिन रबाडा से सावधान रहने की जरूरत है ।

पिच पर होगी असमान उछाल

प्रसाद ने कहा- मुझे नहीं लगता कि स्टेन या मोर्कल से बड़ा खतरा है । भारत को रबाडा से बचकर रहना होगा । वह युवा है और उसके पास रफ्तार है जिससे बल्लेबाज को असमान उछाल का सामना करना पड़ता है ।’

Share it
Top