Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अंडर 19 विश्व कप: मुंबई से माउंड माउंगानुइ तक बेजोड़ रहा वर्ल्ड कप विजेता पृथ्वी शॉ का सफर

भारतीय टीम ने पृथ्वी शॉ की कप्तानी में इतिहास रचते हुए चौथी बार अंडर19 विश्व कप का खिताब जीता।

अंडर 19 विश्व कप: मुंबई से माउंड माउंगानुइ तक बेजोड़ रहा वर्ल्ड कप विजेता पृथ्वी शॉ का सफर

भारतीय टीम ने पृथ्वी शॉ की कप्तानी में इतिहास रचते हुए चौथी बार अंडर 19 विश्व कप का खिताब जीता। पृथ्वी शॉ के पहले कोच संतोष पिंगुलकर ने महज तीन बरस की उम्र में उसकी प्रतिभा पहचान ली थी। पृथ्वी के क्रिकेट सफर का आगाज विरार से हुआ और उम्र के साथ साथ उसके लिए नए आयाम खुलते गए।

मुंबई के 18 वर्षीय क्रिकेटर पृथ्वी शॉ ने कई कीर्तिमान स्थापित किए हैं। पृथ्वी कम उम्र में बिना इंटरनेशनल मैच खेले क्रिकेट में कई ऐसे रिकॉर्ड बना रहे हैं, जिसे बहुत कम क्रिकेटर ही ऐसा कारनामा कर पाते हैं।

इसे भी पढ़े: IND vs SA: कुलदीप और चहल ने तोड़ी अफ्रीका की कमर, 118 पर सिमटी साउथ अफ्रीका

आइये जानते हैं पृथ्वी शॉ से जुड़ी कुछ रोचक बातें

1 पृथ्वी शॉ की कहानी मुंबई के मैदानों से शुरू होती है। तमाम मुश्किलों के बावजूद अपनी प्रतिभा और जुनून के दम पर वह आज यहां तक पहुंचे हैं। छोटी सी उम्र में मां का साया उनके सिर से उठ गया।

2 अंडर-19 विश्व कप में पृथ्वी शॉ ने 6 मैचों में 261 रन बनाए।18 वर्षीय इस युवा क्रिकेटर के लिए यह कामयाबी की एक और सीढ़ी की तरह है।

3 अप्रैल 2012 में शॉ को इंग्लैंड के मैनचेस्टर स्थित चीडल हल्म स्कूल में खेलने के लिए बुलाया गया। दो महीने के इस टूर में उन्होंने 1146 रन बनाए। इसके बाद अपने खेल को निखारने के लिए शॉ कुछ और बार इंग्लैंड गए।

4 हैरिस शील्ड मैच में विश्व रिकॉर्ड बनाते हुए पृथ्वी शॉ ने 330 गेंदों पर 546 रनों की पारी खेली। उन्होंने सचिन तेंडुलकर का सबसे कम उम्र में क्रिकेट क्लब ऑफ इंडिया की ओर से खेलने का रिकॉर्ड भी तोड़ा।

5 कुल सात प्रथम श्रेणी मैचों में अब तक पृथ्वी शॉ 5 शतक लगा चुके हैं। उन्होंने 18 साल की उम्र में कुल 5 सेंचुरी लगाई है, जोकि सचिन के रिकॉर्ड की बराबरी करने से सिर्फ 2 कदम पीछे हैं। सचिन तेंदुलकर ने 18 साल की उम्र में प्रथम श्रेणी में कुल 7 सेंचुरी जड़ी थी। हालांकि पृथ्वी शॉ ने रणजी मैच में कुल 4 शतक लगाए हैं।

Share it
Top