Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Tokyo Olympics में 'Anti Sex' बेड की क्या है सच्चाई? आयरिश जिमनास्ट ने उठाया सच से पर्दा

आयरिश जिमनास्ट रिस मैकलेगन (Rhys McClenghan) ने, जिन्होंने बेड के ऊपर झलांग लगाकर इस बात को साबित किया कि बेड कमजोर होने की खबर महज अफवाह है।

Tokyo Olympics में Anti Sex बेड की क्या है सच्चाई? आयरिश जिमनास्ट ने उठाया सच से पर्दा
X

खेल। खेलों का महाकुंभ टोक्यो ओलंपिक के लिए आयोजन अधिकारियों ने खेल गांव में खिलाड़ियों के लिए कई तरह की सुविधाओं का इंतजाम किया है। इसके साथ ही खेल गांव के बेड काफी मजबूत बनाए गए हैं, इसकी पुष्टि आयोजकों ने सोमवार को की। दरअसल इससे पहले एक रिपोर्ट आई थी कि ये बेड सेक्स के लिए मजबूत नहीं हैं, जिसे साबित किया आयरिश जिमनास्ट रिस मैकलेगन (Rhys McClenghan) ने, जिन्होंने बेड के ऊपर झलांग लगाकर इस बात को साबित किया। वहीं न्यूयॉर्क टाइम्स में छपी खबर में दावा किया गया था कि खेल गांव के बेड जान बूझकर कमजोर बनाए गए हैं। ताकि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन सही तरीके से किया जा सके।

वहीं मैकलेगन ने ट्वीट करते हुए अपने वीडियो में कहा, "ये पलंग एंटी-सेक्स कहे जा रहे थे, यह कार्डबोर्ड से बनाए गए हैं। हां, ये खास तरह के मूवमेंट रोकने के लिए हैं यह फेक, फेक न्यूज है।"

इसके बाद ओलंपिक के आधिकारिक ट्विटर हैंडल ने भी इस झूठी खबर से पर्दा हटान के लिए मैकलेगन का शुक्रिया किया साथ ही उन्होंने कहा कि पलंग टिकाऊ और मजबूत हैं।

हालांकि, ये पहली बार नहीं है जब सिर्फ एक व्यक्ति के वजन को झेलने वाले पंलग चर्चा में हैं, जनवरी में निर्माता एयरवीव ने कहा था कि उनका पलंग 200 किलो तक का वजन आसानी से झेल सकता है, लेकिन उस पर सिर्फ दो ही व्यक्ति हों।

Next Story