Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
toggle-bar

Tokyo Olympics: कम उम्र में बड़े इरादों के साथ ओलंपिक में गोल्ड पर निशाना लगाएगी मनु भाकर

मनु की जितनी उम्र है उससे कई ज्यादा तो वह मेडल जीत चुकी है। इसके साथ ही उन्हें ओलंपिक में कम से कम दो पदक जीतने की उम्मीद है।

Tokyo Olympics: कम उम्र में बड़े इरादों के साथ ओलंपिक में गोल्ड पर निशाना लगाएगी मनु भाकर
X

मनु भाकर

खेल। टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में भारत की स्टार निशानेबाज मनु भाकर (Manu Bhaker) पदक की मजबूत दावेदार हैं। बचपन से ही खेलों में दिलचस्पी रखने वाली मनु ने काफी कम उम्र में ही शूटिंग (Shooting) कर दी थी। स्कूल में शूटिंग रेंज देखा, तो इससे इतनी प्रभावित हुईं कि इसी में करियर बनाने की सोच ली। साथ ही वह ओलंपिक में हिस्सा लेने वाली सबसे युवा खिलाड़ियों में से एक हैं। बॉक्सिंग, एथलेटिक्स, स्केटिंग, जूडो और कराटे में भी वह निपुर्ण हैं, इसलिए उन्हें स्कूल में उनके साथी 'ऑलराउंडरट' कह कर बुलाते थे।


हरियाणा (Haryana) के झज्जर जिले के गोरिया गांव में 18 फरवरी 2002 को जन्मी मनु की जितनी उम्र है उससे कई ज्यादा तो वह मेडल जीत चुकी हैं। इसके साथ ही उन्हें ओलंपिक में कम से कम दो पदक जीतने की उम्मीद है, एयर पिस्टल के दो वर्ग की प्रतिस्पर्धा के अलावा एक मिश्रित मुकाबले में भी हिस्सा लेंगी।

पिता ने छोड़ी सरकारी नौकरी


मनु की सफलता में उनके परिजनों का अहम योगदान रहा, उनके पिता राम किशन भाकर ने तो उनके सपने के लिए अपनी सरकारी नौकरी तक छोड़ और अपनी लाइसेंसी पिस्टल से बेटी को प्रशिक्षण देना शुरू कराया। हालांकि उससे पहले मनु भाकर को 2012 ओलंपिक के बाद गठित हुए राष्ट्रीय राइफल एसोसिएशन और भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) से मदद मिलना शुरू हो गई थी। यहां से ही भारत के जाने माने प्रतिष्ठित निशानेबाज जसपाल राणा से उन्हें प्रशिक्षण मिला। अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में कई पदक हासिल करने वाली सबसे कम उम्र की निशानेबाज मनु भाकर को पिछले साल अर्जुन पुरस्कार से भी नवाजा गया है।

कम उम्र की निशानेबाज


अंतरराष्ट्रीय निशानेबाज का दर्जा मनु भाकर ने महज 16 साल की उम्र में ही हासिल कर लिया था, जब वह 2018 के आईएसएसएफ जूनियर विश्व कप में एयर पिस्टल दो स्वर्ण पदक जीतकर भारत की सबसे कम उम्र की महिला निशानेबाज बनीं। इसी साल राष्ट्रमंडल खेलों में एयर पिस्टल स्पर्धा में दो स्वर्ण पदक जीतकर उन्होंने सनसनी फैला मचा दी। इससे पहले वर्ष 2017 में मनु ने केरल में नेशनल चैंपियनशिप में नौ स्वर्ण पदक जीतकर नया राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाकर सुर्खियां बटोरी। जबकि इसी वर्ष एशियाई जूनियर चैंपियनशिप में मनु ने रजत पदक हासिल किया।

मनु ने कई निशानेबाजी स्पर्धाओं में डेढ़ दर्जन स्वर्ण पदकों समेत दो दर्जन से भी ज्यादा पदक अपने नाम किए। वहीं बता दें कि टोक्यो ओलंपिक की स्पर्धा में मनु महिलाओं की 10 मीटर एयर पिस्टल के अलावा 25 मीटर पिस्टल की मिश्रित स्पर्धा में भी हिस्सा लेंगी। उनके साथ जोड़ी में युवा निशानेबाज सौरभ चौधरी हिस्सा लेंगे, इसलिए उन्हें ओलंपिक से कम से कम दो पदक भारत लाने की उम्मीद है। मई 2019 में मनु भाकर ने म्यूनिख आईएसएसएफ विश्व कप में चौथे स्थान पर रहने के बाद 10 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई कर लिया था।


मनु भाकर की उपलब्धियां

-2021 में 10 मीटर एयर पिस्टल मिश्रित टीम में स्वर्ण व रजत पदक

-2021 में 10 मीटर एयर पिस्टल मिश्रित रजत पदक

-2019 में आइएसएसएफ विश्व कप में दो स्वर्ण

-2019 में देश विदेश में मिश्रित पांच स्वर्ण पदक

-2019 में दोहा एशियाई चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक

-2019 में दोहा एशियाई चैंपियनशिप में मिश्रित स्वर्ण पदक

-2019 में एशियाई एयरगन चैंपियनशिप में दो स्वर्ण पदक

-2018- गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेल में स्वर्ण पदक

-2018 में यूथ ओलंपिक गेम्स में स्वर्ण पदक

-2018 में यूथ ओलंपिक गेम्स में मिश्रित रजत पदक

-2018 में आइएसएसएफ जूनियर विश्व कप में तीन स्वर्ण और रजत

और पढ़ें
Next Story