Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Neeraj Chopra का अगला टारगेट 90 मीटर थ्रो, पत्रकारों को बताया अमेरिका में कैसी चल रही ट्रेनिंग

टोक्यो ओलंपिक में भारत को एकमात्र गोल्ड दिलाने वाले नीरज चोपड़ा इन दिनों अमेरिका में ट्रेनिंग कर रहे हैं।

Neeraj Chopra का अगला टारगेट 90 मीटर थ्रो, पत्रकारों को बताया अमेरिका में कैसी चल रही ट्रेनिंग
X

खेल। भारत के लिए टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में एकमात्र गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रचने वाले नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) इन दिनों अमेरिका में ट्रेनिंग कर रहे हैं। वहीं नीरज का अब अगला टारगेट वर्ल्ड चैंपियनशिप (World Championship), डायमंड लीग (Diamond League), एशियाई खेल (Asian games) और कॉमनवेल्थ गेम्स (Commonwealth Games) में मेडल जीतने का है। इस दौरान उन्होंने अमेरिका में प्रेस कॉन्फ्रेंस की और पत्रकारों के कई सवालों के जवाब दिए।

बच्चे जैवलिन खेलने के लिए आ रहे

वहीं इस दौरान पत्रकारों ने नीरज से पूछा कि साल 2021 आपके लिए कैसा रहा? तो इसका जवाब देते हुए नीरज ने कहा कि ये वर्ष मेरे लिए काफी अहम रहा क्योंकि ओलंपिक में गोल्ड जीतने से बड़ा कुछ नहीं है। इसके साथ ही उनसे पूछा गया कि गोल्ड मेडल जीतने के बाद जिंदगी कितनी बदल गई तो गोल्डन बॉय कहते हैं कि जिंदगी काफी बदली है। मुझे देखकर बहुत सारे बच्चे जैवलिन खेलने के लिए आ रहे हैं, जो कि बहुत अच्छी बात है।

90 मीटर का आंकड़ा टारगेट

वहीं नीरज यहीं नहीं रुकते वो आगे कहते हैं कि 2022 में वर्ल्ड चैंपियनशिप, डायमंड लीग, एशियाई खेल और साथ ही कॉमनवेल्थ गेम्स में बेहतर प्रदर्शन करना है। साथ ही गोल्डन बॉय ने बताया कि जब उन्होंने ट्रेनिंग शुरु की थी तो फिटनेस थोड़ा कम था हालांकि धीरे-धीरे फिटनेस वापस आ रही है। नीरज ने कहा कि कोच कहते हैं कि तकनीक पर और ज्यादा ध्यान देंगे तो 90 मीटर का आंकड़ा क्रॉस कर सकते हैं।

जब गोल्ड मेडलिस्ट से पूछा गया कि कोविड बढ़ रहा है तो क्या आप मार्च में नेशनल चैंपियनशिप में खेलने के लिए आएंगे? तो वो कहते हैं कि ये कोच तय करेंगे. अभी तो ट्रेनिंग शुरु की है। 3 साल बाद भी ओलंपिक है लेकिन उससे पहले कई सारे इवेंट्स हैं, जिसमें शानदार प्रदर्शन करना है। उन्होंने आगे कहा कि मेरा टारगेट वहीं है, 90 मीटर का आंकड़ा छूना मेरे लिए बहुत अहम है।

अमेरिकी रूटीन के बारे में उन्होंने बताया कि सुबह 7.30 बजे ब्रेकफास्ट, फिर प्रैक्टिस और लंच के बाद थोड़ा रेस्ट करना है। दिन में दो बार प्रैक्टिस जरूरी है, मुझे ट्रेनिंग में मजा आ रहा है। वहीं उन्होंने बताया कि टोक्यो ओलंपिक के बाद उन्होंने 12-13 किलो वजन बढ़ा लिया था लेकिन अब फिर से 5-6 किलो कम भी कर लिया है। ओलंपिक के बाद उन्होंने अपने आप को कुछ भी खाने से नहीं रोका।

Next Story