Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

एशियन बॉक्सिंग चैंपियनशिप: महिलाओं ने जीते सबसे ज्यादा मेडल, भारत का 15 मेडल के साथ टूर्नामेंट में अब तक का शानदार प्रदर्शन

सबसे ज्यादा 10 मेडल महिला बॉक्सरों ने जीते हैं । इनमें 1 गोल्ड, 3 सिल्वर और 6 ब्रॉन्ज मेडल शामिल हैं। वहीं पुरुषों को 5 मेडल मिले, जिनमें एक गोल्ड, 2 सिल्वर और 1 ब्रॉन्ज मेडल शामिल है।

एशियन बॉक्सिंग चैंपियनशिप: महिलाओं ने जीते सबसे ज्यादा मेडल, भारत का 15 मेडल के साथ टूर्नामेंट में अब तक का शानदार प्रदर्शन
X

खेल।एशियन बॉक्सिंग चैंपियनशिप (Asian Boxing Championship) में भारत ने 15 मेडल जीते हैं। इस टूर्नामेंट में 91 किलो वेट में संजीत (Sanjeet) ने शानदार प्रदर्शन करते हुए गोल्ड मेडल (Gold medal) जीता। वहीं यह इस टूर्नामेंट का भारत का दूसरा गोल्ड मेडल है। इससे पहले लड़कियों में पूजा रानी ने 75 किलो वेट में अपना खिताब बचाते हुए गोल्ड मेडल जीता था। वहीं अमित पंघल (Amit Panghal) और शिव थापा (Shiv Thapa) को सिल्वर मेडल (Silver medal) से संतोष करना पड़ा। बता दें कि इससे पहले 2019 में बैंकॉक में एशियन चैंपियनशिप में भारत ने 13 मेडल जीते थे।

महिलाओं के नाम सबसे ज्यादा मेडल

इसके साथ ही भारत को 2 गोल्ड, 5 सिल्वर और 8 ब्रॉन्ज मेडल मिले हैं। इनमें सबसे ज्यादा 10 मेडल महिला बॉक्सरों ने जीते हैं । जिसमें 1 गोल्ड, 3 सिल्वर और 6 ब्रॉन्ज मेडल शामिल हैं। वहीं पुरुषों को 5 मेडल मिले, जिनमें एक गोल्ड, 2 सिल्वर और 1 ब्रॉन्ज मेडल शामिल है।

संजीत ने रियो ओलिंपिक के मेडलिस्ट को हराया


वहीं फाइनल में संजीत ने फाइनल में रियो ओलिंपिक के सिल्वर मेडलिस्ट कजाखिस्तान के वासिली लेविट को 4-1 से हराया। लेविट इस टूर्नामेंट में अपने चौथे गोल्ड मेडल के लिए रिंग पर उतरे थे।

अमित और शिव थापा हारे

52 किलो वेट में टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वॉलिफाई कर चुके अमित पंघल को रियो ओलिंपिक के गोल्ड मेडलिस्ट और मौजूदा वर्ल्ड चैंपियन उज्बेकिस्तान के जोइरोव शाखोबिदीन से हार का सामना करना पड़ा। शाखोबिदीन ने पंघल को 3-2 से हराया। वहीं भारतीय मुक्केबाजी महासंघ ने अमित और शाखोबिदीन के बीच हुए मुकाबले के दूसरे राउंड को लेकर आपत्ति दर्ज कराई, लेकिन ज्यूरी कमिशन ने उसे नकार दिया। पंघल का टूर्नामेंट में तीसरा मेडल है। इससे पहले वह 2019 और 2017 में मेडल जीत चुके हैं। 2019 बैंकाक में हुए एशियन चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल, जबकि 2017 में ताशकंद में हुए एशियन चैंपियनशिप में ब्रॉन्ज मेडल जीता था।

इसके साथ ही 64 किलो वेट में शिव थापा को फाइनल में हार का सामना करना पड़ा। उन्हें एशियन गेम्स के सिल्वर मेडलिस्ट मंगोलिया के बातरसुख चिनजोरिग ने 3-2 से हराया। थापा का एशियाई चैम्पियनशिप में लगातार पांचवां मेडल है। थापा ने 2013 में गोल्ड जीता था। इसके बाद 2015 में बैंकाक में वह ब्रॉन्ज मेडल जीतने में सफल रहे थे। इसी तरह 2015 में थापा ने सिल्वर मेडल और 2019 में बैंकाक में ब्रॉन्ज मेडल जीता था।

पुरस्कार राशि में बढ़ोतरी

इस साल की खास बात यह है कि चैंपियनशिप की पुरस्कार राशि में भारी इजाफा किया गया है। बता दें कि इंटरनेशनल बॉक्सिंग एसोसिएशन (AIBA) ने इस चैंपियनशिप के लिए 4,00,000 अमेरिकी डॉलर की पुरस्कार राशि आवंटित की है। पुरुषों और महिलाओं की श्रेणियों के गोल्ड मेडल विजेताओं को 10,000 अमेरिकी डॉलर से सम्मानित किया जा रहा है, जबकि सिल्वर और ब्रॉन्ज मेडल विजेताओं को क्रमशः 5,000 अमेरिकी डॉलर और 2,500 अमेरिकी डॉलर का पुरस्कार दिया जा रहा है।

भारत के अलावा 17 देश ले रहे हैं भाग

दुबई में हो रहे एशियन बॉक्सिंग चैंपियनशिप में भारत, उज्बेकिस्तान, मंगोलिया, फिलीपींस और कजाखिस्तान सहित 17 देशों के 150 बॉक्सरों ने हिस्सा लिया।

Next Story