Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मेरे सपनों को बड़ी बेदर्दी से तोड़ दिया गयाः नरसिंह यादव

नरसिंह का सपना ओलंपिक में पदक हासिल कर देश का सम्मान बढ़ाने का था।

मेरे सपनों को बड़ी बेदर्दी से तोड़ दिया गयाः नरसिंह यादव
रियो डि जिनेरियो. रियो डि जिनेरियो में हो रहे खेलो से भारतीय पहलवान नरसिंह यादव को झटका लगा है। रियो ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व करने का उनका सपना सीएएस के एक फैसले के बाद टूट गया है। कोर्ट फॉर अर्बिट्रेशन फॉर स्पोर्ट (सीएएस) ने चार घंटे लंबी बहस के बाद फैसला सुनाते हुए कहा कि नरसिंह यादव पर डोपिंग की वजह से चार साल का प्रतिबंध लगाया जा रहा है। उन्‍हें रियो ओलंपिक में खेलने की इजाजत नहीं मिलेगी। नरसिंह यादव ने आज कहा कि वह अपनी बेगुनाही साबित करने के लिए सब कुछ करने को तैयार हैं।
भारतीय पहलवान नरसिंह का कहना है कि उनका सपना ओलंपिक पदक हासिल कर देश का सम्मान बढ़ाने का था, जिसे छीन लिया गया है। बैन के चलते रियो ओलंपिक में खेलने का सपना टूटने पर नरसिंह यादव ने कहा, 'सीएएस को अपना फैसला कुछ नरम रखना चाहिए था। पिछले दो महीनों में मुझे काफी समय मैट से बहार ही रहना पड़ा, लेकिन देश के सम्मान के लिए खेलने का सपना मेरे मन में था।'
नरसिंह को एक प्रतिबंधित एनाबोलिक स्टेरॉयड के लिए सकारात्मक परीक्षण के बावजूद राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) और भारतीय ओलंपिक संघ (आइओए) से मंजूरी मिली थी। नाडा और आइओए के तर्क है कि वह जानबूझकर प्रतिबंधित पदार्थ नहीं लिया था।
इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, नरसिंह ने इस फैसले पर दुख जताते हुए कहा, 'बीते दो महीनों में मैंने बहुत कुछ सहा है। लेकिन इस दौरान मेरे मन में सिर्फ एक बात थी कि देश के सम्मान के लिए लड़ना है। रियो ओलंपिक में देश के लिए मैडल जितने का मेरा सपना टूट गया। मेरे पहले मुकाबले से 12 घंटे पहले ही क्रूरता से मेरा यह सपना छीन लिया गया। लेकिन, मैं खुद को निर्दोष साबित करने के लिए सब कुछ करूंगा। अब मैं इसके लिए लड़ाई लडूंगा।'
नरसिंह यादव की प्रायोगिक कंपनी जेएसडब्ल्यू स्पोर्ट्स ने कहा है कि हम इस फैसले से बेहद नाखुश हैं। वाडा की अपील पर जिस तरह से नरसिंह यादव पर 4 साल का बैन लगाया गया, वह दुखद है। जेएसडब्ल्यू स्पोर्ट्स नरसिंह की बेगुनाही में विश्वास करता है और नरसिंह को न्याय दिलाने के लिए सब कुछ करने के लिए तैयार है। नरसिंह यादव देश के ऐसे पहले एथलीट हैं, जिसे हम सपोर्ट कर रहे हैं और लगातार करते रहेंगे। यदि नरसिंह के खाने में छेड़-छाड़ और साजिश के सबूत मिल जाते हैं तो हम इस फैसले की समीक्षा के लिए दबाव बनाएंगे।
आपको बता दें, नाडा के निर्णय के बाद विश्व डोपिंग रोधी एजेंसी (वाडा) के द्वारा नरसिंह को दिए गए क्लिन चिट के फैसले को चैलेंज देते हुए उसके खिलाफ सीएएस में अपील की। वाडा ने अपनी अपील में नरसिंह को राष्ट्रीय डोपिंग निरोधी एजेंसी (नाडा) द्वारा क्लीन चिट दिए जाने को गलत करार दिया था और उन पर प्रतिबंधित दवाओं के सेवन को लेकर चार साल का प्रतिबंध लगाने की मांग की थी। अब जबकि सीएएस ने वाडा की अपील स्वीकार कर ली है, नरसिंह का भविष्य अंधकारमय नजर आ रहा है। वह अब रियो ओलंपिक में हिस्सा नहीं ले पाएंगे।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top