Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

साक्षी के पीछे था ये बंदा, तब जाकर मिला ओलिंपिक मेडल

साक्षी मलिक के कांस्य पदक के गवाह करोड़ो लोग बनें लेकिन एक शख्स के लिए ये पदक हमेशा यादगार रहेगा

साक्षी के पीछे था ये बंदा, तब जाकर मिला ओलिंपिक मेडल
नई दिल्ली. रियो ओलंपिक में अपना परचम लहराने वाले खिलाड़ी और देश को एक नई पहचान दिलवाने वाले खिलाड़ियों को तो हर कोई पूछ रहा है। लेकिन क्या आप जानते हैं इन खिलाड़ी के पीछे खड़े इनके गुरू के बारे में कौन नहीं जानना चाहता है। रियो ओलंपिक में सिल्वर मेडल जीतने वाली पीवी सिंधू के कोच पुलेला गोपीचंद और वही दूसरी तरफ ब्रॉन्ज मेडल जीतने वाली महिला पहलवान साक्षी मलिक के कोच कुलदीप मलिक के प्रयासों की सराहना पूरा देश कर रहा है। वो एक गुमनाम हीरो है लेकिन इससे उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता।
देश में महिला पहलवानों के प्रमुख कोच ध्यान चंद मलिक कहते हैं कि साक्षी मलिक ने सबसे बड़ा सम्मान जीता है जिससे देश भर में 100 करोड़ से ज्यादा लोग उस पर गर्व किया है। साक्षी को इसके लिए बधाई, पुरस्कार और नकद पुरस्कार भी दिए गए हैं और तो और कुलदीप के लिए भी मुश्किल से ही किसी इनाम की घोषणा की है लेकिन भारतीय कुश्ती संघ के लिए कुछ भी नहीं है हालांकि, हरियाणा सरकार ने उसके लिए 10 लाख रुपये का नकद इनाम की घोषणा की है।
पूर्व भीम पुरस्कार विजेता विनेश फोगट कोचिंग कर रहे थे। चैंपियन पहलवान जो कि चोट के चलते बाहर हो गए और मेडल की उम्मीद खो बैठे थे। लेकिन कुलदीप का विश्वास है कि फोगट जल्द ही वापस आएंगे और 2020 में टोक्यो ओलंपिक में अपना परचम लहराएंगे। कोच कुलदीप मलिक का कहना है कि वो राज्य में महिला पहलवानों के लिए फ्री अकेडमी खोलेंगे।
कुलदीन ने आगे कहा कि रियो में सफल होने के बाद साक्षी अपना फोक्स नहीं खोएंगी। उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित कर लें कि वो इस जीत में दिए गए उपहार, पुरस्कार और पॉपलरिटी से भी नहीं भटकेंगी क्योंकि साक्षी एक चैम्पियन पहलवान हैं। गोहाना के नजदीकी गांव खानपुर निवासी कुलदीप मलिक ने बताया कि 2011 में वे महिला कुश्ती टीम के कोच बने तो सबसे पहले महिला पहलवानों को मानसिक तौर पर तैयार किया। इंटरनेशनल स्तर पर खेल रही महिला पहलवानों की कुश्ती की वीडियो रिकार्डिंग दिखाई।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top