Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

IPL 2018 Final: वॉटसन का धुआंधार शतक, चेन्नई तीसरी बार बना आईपीएल चैंपियन

वाटसन ने 11वीं गेंद पर खाता खोला लेकिन इसके बाद उन्होंने आक्रामक बल्लेबाजी का जबर्दस्त नमूना पेश करके 57 गेंदों पर नाबाद 117 रन बनाए।

IPL 2018 Final: वॉटसन का धुआंधार शतक, चेन्नई तीसरी बार बना आईपीएल चैंपियन
X

सलामी बल्लेबाज शेन वाटसन की धुआंधार शतकीय पारी से चेन्नई सुपरकिंग्स ने आज यहां सनराइजर्स हैदराबाद को आठ विकेट से करारी शिकस्त देकर तीसरी बार आईपीएल चैंपियन बनने का गौरव हासिल किया।

वाटसन ने 11वीं गेंद पर खाता खोला लेकिन इसके बाद उन्होंने आक्रामक बल्लेबाजी का जबर्दस्त नमूना पेश करके 57 गेंदों पर 11 चौकों और आठ छक्कों की मदद से नाबाद 117 रन बनाये जिससे चेन्नई ने धीमी शुरुआत से उबरकर केवल 18.3 ओवर में दो विकेट पर 181 रन बनाकर 2011 के बाद पहली बार खिताब जीता।

वाटसन के अलावा सुरेश रैना ने 25 गेंदों पर 32 रन और अंबाती रायुडु ने 19 गेंदों पर नाबाद 17 रन बनाये। सनराइजर्स ने पहले बल्लेबाजी का न्यौता मिलने पर छह विकेट पर 178 रन बनाये।

उसकी तरफ से कप्तान केन विलिमयसन ने 36 गेंदों पर 47 रन बनाये जबकि यूसुफ पठान ने 25 गेंदों पर 45 रन की नाबाद पारी खेली। शिख्रर धवन ने 25 गेंदों पर 26, शाकिब उल हसन ने 15 गेंदों पर 23 रन और कार्लोस ब्रेथवेट ने 11 गेंदों पर 21 रन का योगदान दिया।

यह तीसरा अवसर है जबकि चेन्नई ने आईपीएल खिताब जीता है। इससे पहले उसने 2010 और 2011 में चैंपियनशिप जीती थी लेकिन 2012, 2013 और 2015 में उसे फाइनल में हार का सामना करना पड़ा था।

प्रतिबंध लगने के कारण उसकी टीम पिछले दो सत्र में नहीं खेली थी। सनराइजर्स की टीम दूसरी बार फाइनल खेल रहे थी। वह 2016 में चैंपियन बनी थी। सनराइजर्स और चेन्नई दोनों की शुरुआत धीमी रही।

अगर चेन्नई के गेंदबाजों ने पहले चार ओवर में 17 देकर एक विकेट लिया तो हैदराबाद ने पहले पांच ओवर में केवल 20 रन दिये और पिछले मैच के नायक फाफ डुप्लेसिस (दस) को पवेलियन भेजा।

भुवनेश्वर कुमार का पहला ओवर मेडन था। उनके दूसरे ओवर में पांच रन बने लेकिन तब आवेरथ्रो से गेंद सीमा रेखा पार चली गयी थी। वाटसन ने चौथे ओवर में 11वीं गेंद का सामना करके चौका लगाकर अपना खाता खोला। संदीप शर्मा ने इस ओवर में डुप्लेसिस को अपनी गेंद पर कैच कर दिया जो लाफ्टेड ड्राइव करना चाहते थे।

वाटसन हालांकि इसके बाद अपने असली रंग में दिखे। उन्होंने संदीप के अगले ओवर में लगातार गेंदों पर छक्का और चौका लगाया जिससे चेन्नई पावरप्ले के बाद 35 रन तक पहुंच पाया।

उन्होंने सिद्धार्थ कौल का स्वागत छक्के से किया और फिर इस गेंदबाज अगले ओवर में भी निशाने पर रखा जिससे चेन्नई खराब शुरुआत से उबरने में सफल रहा। कौल ने अपने पहले दो ओवर में 32 रन दिये। राशिद खान (चार ओवर में 25 रन) ने प्रभाव छोड़ा लेकिन दूसरे छोर से कोई गेंदबाज नहीं चल रहा था।

शाकिब भी अपने पहले ओवर में 15 रन लुटा गये। संदीप शर्मा जब दूसरा स्पैल करने के लिये आये तो वाटसन ने उनके एक ओवर में लगातार तीन छक्कों और दो चौकों की मदद से 27 रन बटोरे।

पहले दो ओवरों में दस रन देने वाले संदीप ने चार आवेर में 52 रन लुटाये। वाटसन ने राशिद पर एक रन लेकर 51 गेंदों पर अपना शतक पूरा किया। यह आईपीएल में उनका चौथा और करियर का पांचवां शतक है। वह ऋद्धिमान साहा (2014) के बाद आईपीएल फाइनल में शतक जड़ने वाले दूसरे बल्लेबाज बने।

रायुडु ने विजयी चौका लगाया। इससे पहले दीपक चाहर (चार ओवर में 25 रन) और लुंगी एनगिडी (चार ओवर में 26 रन देकर एक विकेट) ने शुरू में सनराइजर्स के बल्लेबाजों को कोई मौका नहीं दिया जिससे पहले चार ओवर में केवल 17 रन बने, एक बार गेंद सीमा रेखा के बाहर गयी और श्रीवत्स गोस्वामी (पांच) रन आउट होकर पवेलियन लौटे।

विलियमसन और धवन ने अगले दो ओवरों में एक . एक छक्का लगाया जिससे सनराइजर्स पावरप्ले समाप्त होने तक 42 रन तक पहुंच पाया। इस बीच विलियमसन ने आईपीएल 2018 में 700 रन भी पूरे किये। सनराइजर्स ने जल्द ही धवन का विकेट गंवा दिया जो रन बनाने के लिये जूझ रहे थे।

धवन की जगह लेने के लिये उतरे शाकिब ने हालांकि जडेजा के अगले ओवर में छक्का और चौका जड़कर अच्छी शुरुआत की। कर्ण शर्मा ने विलियमसन को अर्धशतक पूरा नहीं करने दिया।

हरभजन सिंह की जगह अंतिम एकादश में जगह बनाने वाले इस लेग स्पिनर ने सनइराजर्स के कप्तान को आगे बढ़ने के लिये ललचाया और महेंद्र सिंह धोनी ने बाकी काम पूरा करने में देर नहीं लगायी।

विलिमयसन ने अपनी पारी में पांच चौके और दो छक्के लगाये। पठान रंग में दिख रहे थे। कर्ण और एनगिडी पर लगाये छक्कों से उन्होंने अपनी बाजुओं के दम पर अच्छा नमूना पेश किया।

शाकिब रणनीतिक बल्लेबाजी कर रहे थे लेकिन ड्वेन ब्रावो की गेंद पर वह सही टाइमिंग से शाट नहीं लगा पाये और कवर पर खड़े सुरेश रैना को कैच दे बैठे। दीपक हुड्डा (तीन) आते ही पवेलियन लौट गये।

चेन्नई के खिलाफ पिछले मैच में नाबाद 43 रन की पारी खेलने वाले ब्रेथवेट ने पारी की अंतिम गेंद पर कैच थमाने से पहले तीन छक्के लगाये लेकिन वह और पठान आखिरी दो ओवरों में अपेक्षित रन नहीं जुटा पाये। एनगिडी और शार्दुल ठाकुर के इन दो ओवरों में केवल 18 रन बने।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story