Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ICC World Cup 2019 Time Table: आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 का टाइम-टेबल, इंग्लैंड-साउथ अफ्रीका के मैच से होगा वर्ल्ड कप 2019 का आगाज

आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019 (ICC Cricket World Cup 2019) की शुरुआत 30 मई से इंग्लैंड (England) में होगी। वर्ल्ड कप 2019 का पहला मैच 30 मई को ओवल में इंग्लैंड और साउथ अफ्रीका के बीच खेला जाएगा। जानें वर्ल्ड कप 2019 का पूरा टाइम-टेबल (World Cup 2019 Time Table)

ICC World Cup 2019 Time Table: आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 का टाइम-टेबल, इंग्लैंड-साउथ अफ्रीका के मैच से होगा वर्ल्ड कप 2019 का आगाज

ICC World Cup 2019 Time Table:

आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 (ICC World Cup 2019) की शुरुआत 30 मई से इंग्लैंड (England) में होगी। आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 के टाइम टेबल (ICC World Cup 2019 Time Table) की बात करें तो इस वर्ल्ड कप में 46 दिन में 48 मैच खेले जाएंगे। जिसमें कुल 10 टीमें भाग लेंगी। इस बार वर्ल्ड क्रिकेट में तेजी से उभरती टीम अफगानिस्तान भी शामिल है। वर्ल्ड कप 2019 का पहला मैच 30 मई को ओवल में इंग्लैंड और साउथ अफ्रीका के बीच खेला जाएगा। अगर बात भारतीय टीम की करें तो उनका पहला मुकाबला 5 जून को साउथ अफ्रीका से होगा। बता दें कि टीम इंडिया 1983 और 2011 में वर्ल्ड कप अपने नाम कर चुकी है। जिस मैच पर दुनिया भर के क्रिकेट प्रेमियों की नजरें रहती हैं, यानि भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाला हाई-वोल्टेज मुकाबला। तो यह मैच मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड मैदान पर 16 जून को खेला जाएगा।

जानिए कौन हैं RCB के ये दो युवा करोड़पति, अब इतनी मजबूत हुई विराट एंड कंपनी

वर्ल्ड कप में भारत का मैच

भारतीय टीम वर्ल्ड कप 2019 में अपना पहला मैच 5 जून को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेलेगी, 9 जून को ऑस्ट्रेलिया, 13 जून को न्यूजीलैंड, 16 जून को पाकिस्तान, 22 जून को अफगानिस्तान, 27 जून को वेस्टइंडीज, 30 जून को इंग्लैंड, 2 जुलाई को बांग्लादेश और 6 जुलाई को श्रीलंका के खिलाफ खेलेगी। बताते चलें कि अभी तक 1975 से लेकर 2015 तक कुल 11 वर्ल्ड कप खेले जा चुके हैं। जिसमें ऑस्ट्रेलिया ने पांच बार, भारत ने दो बार, वेस्टइंडीज ने दो बार और एक-एक बार श्रीलंका, पाकिस्तान ने जीता है।

वर्ल्ड कप का इतिहास

वर्ल्ड कप 1975

साल 1975 में क्रिकेट का पहला वर्ल्ड कप इंग्लैंड में खेला गया था। इस दौरान हर मैच 60 ओवरों का खेला जाता था। इस वर्ल्ड कप में ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, भारत, न्यूजीलैंड, पाकिस्तान, वेस्टइंडीज, श्रीलंका और पूर्वी अफ्रीका की टीमें शामिल थीं। इन टीमों को चार-चार के दो ग्रुपों में बांटा गया था।

पहला मैच भारत और इंग्लैंड के बीच हुआ था और इस मैच को इंग्लैंड ने जीता था। इस मैच में भारत के महान बल्लेबाज सुनील गावस्कर ने 174 गेंदों में नाबाद रहते हुए सिर्फ 36 रन बनाकर रिकॉर्ड बनाया था। इस पारी के दौरान उन्होंने सिर्फ एक चौका लगाया था।

फाइनल मैच लॉर्ड्स के ऐतिहासिक मैदान पर वेस्टइंडीज़ और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला गया था। क्लाइव लॉयड की अगुआई वाली वेस्टइंडीज़ ने ऑस्ट्रेलिया को 17 रनों से हराकर पहला वर्ल्ड कप का खिताब अपने नाम किया था।

क्लाइव लॉयड के शतक (102) और रोहन कन्हाई के 55 रनों की बदौलत वेस्टइंडीज ने 60 ओवर में आठ विकेट के नुकसान पर 291 रन बनाए थे। जिसके जवाब में ऑस्ट्रेलिया की टीम 58.4 ओवर में 274 रनों पर सिमट गई थी।

वर्ल्ड कप 2019 को लेकर स्टीव स्मिथ कर रहे हैं ये बड़ी तैयारी, भारत से हो सकता है सीधा मुकाबला

वर्ल्ड कप 1983

1983 में इंग्लैंड में खेले गए वर्ल्ड को जीतकर भारत ने इतिहास रचा था। उस समय की कमजोर मानी जाने वाली भारतीय टीम ने दो बार के वर्ल्ड कप विजेता वेस्टइंडीज को हराकर सबको हैरान कर दिया था। उस समय की भारतीय टीम में सुनील गावस्कर, दिलीप वेंगसरकर और क्रिस श्रींकात जैसे बल्लेबाज़ थे।

जबकि गेंदबाजों में कप्तान कपिल देव और गेंदबाज़ी की कमान मुख्य तौर पर कप्तान कपिल देव और बलविंदर सिंह संधू थे। इस वर्ल्ड कप में टीम इंडिया वेस्टइंडीज, ऑस्ट्रेलिया और ज़िम्बाब्वे की टीमों के साथ ग्रुप 'बी' में शामिल थी।

ग्रुप बी में भारत ने विश्व चैम्पियन वेस्टइंडीज को 34 रनों से हराकर शानदार शुरुआत की। इसके अलावा उन्होंने ऑस्ट्रेलिया और जिम्बाब्वे को भी नहीं छोड़ा। भारत ने छह में से चार मैच जीतकर सेमीफाइनल में प्रवेश किया।

फाइनल में भारत का मुकाबला वेस्टइंडीज से हुआ था। पहले बल्लेबाजी करते हुए भारतीय टीम महज 183 रनों पर सिमट गई। लगातार दो बार की विश्‍व चैंपियन के लिए इस लक्ष्य को पाना कोई कठिन काम नहीं था।

लेकिन इस दिन तो भारत को इतिहास रचना था। ठीक वैसा ही हुआ वेस्‍टइंडीज की टीम महज 140 रनों पर ही सिमट गई और भारत ने वर्ल्ड कप जीतकर इतिहास रच दिया।

वर्ल्ड कप 2011

साल 2011 में भारत ने श्रीलंका को हराकर दूसरी बार क्रिकेट वर्ल्ड कप का खिताब अपने नाम किया। 2 अप्रैल 2011 को मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में भारत और श्रीलंका के बीच फाइनल मुकाबला खेला गया था।

क्रिकेट के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ था जब उप-महाद्वीप की दो टीमें फाइनल में थीं। महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम ने फाइनल में कुमार संगकारा के नेतृत्व वाली श्रीलंका को 6 विकेट से हराकर दूसरी बार क्रिकेट विश्व कप का खिताब जीता।

श्रीलंका ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया और बल्लेबाजों के शानदार प्रदर्शन की बदौलत श्रीलंका ने 50 ओवर में 6 विकेट के नुकसान पर 274 रन बनाए।

इसके जवाब में टीम इंडिया ने 10 बॉल शेष रहते 4 विकेट के नुकसान पर 277 रन बनाकर इस मैच को जीत लिया। भारत की ओर से कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने 92 रन और गौतम गंभीर ने शानदार 97 रन की पारी खेलकर भारत को जीत दिलाई थी।

भारत के सिक्सर किंग के नाम से मशहूर युवराज सिंह ने इस वर्ल्ड कप के नौ मैचों में 362 रन बनाए थे जिसमें एक शतक और चार अर्धशतक शामिल थे। इतना ही नहीं उन्होंने 15 विकेट भी लिए थे।

Latest

View All

वायरल

View All

गैलरी

View All
Share it
Top