Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

हनुमा विहारी को भारतीय टेस्ट टीम में क्यों मिली जगह, रिकॉर्ड है बेमिसाल

भारत और इंग्लैंड के बीच खेले जा रहे पांच टेस्ट मैचों की सीरीज के आखिरी दो टेस्ट मैचों के लिए हनुमा विहारी को टीम इंडिया में शामिल किया गया है।

हनुमा विहारी को भारतीय टेस्ट टीम में क्यों मिली जगह, रिकॉर्ड है बेमिसाल

भारत और इंग्लैंड के बीच खेले जा रहे पांच टेस्ट मैचों की सीरीज के आखिरी दो टेस्ट मैचों के लिए हनुमा विहारी को टीम इंडिया में शामिल किया गया है।24 वर्षीय हनुमा 2016-17 घरेलू सत्र से अपनी घरेलू टीम आंध्र में जाने से पहले हैदराबाद के साथ अपना करियर शुरू किया।

वह हैदराबाद और आंध्र दोनों टीमों की अगुवाई करने का एक बेहतरीन रिकॉर्ड रखता है। दक्षिण अफ्रीका ए के खिलाफ विहारी का 148 रनों का हालिया प्रदर्शन इंग्लैंड में अंतिम दो टेस्ट मैचों में भारतीय टीम में शामिल होने का मुख्य आधार बना।

इसे भी पढ़ें: Asian Games 2018: गोल्ड मेडलिस्ट विनेश फोगाट ने चुना अपना जीवनसाथी, पहले इस खिलाड़ी से उड़ी थी अफेयर की खबर

हनुमा विहारी को भारतीय टीम में कैसे जगह मिली आंकड़ों में जानिए

1 प्रथम श्रेणी क्रिकेट में विहारी ने पांच दोहरा शतक 2013/14 सीज़न की शुरुआत के बाद से लगाया है। इस अवधि में केवल विराट कोहली (6) का प्रथम श्रेणी क्रिकेट में विहारी की तुलना में अधिक दोहरा शतक है। चेतेश्वर पुजारा और पारस डोगरा ने भी इस अवधि में पांच दोहरा शतक बनाए हैं।

2 प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 59.79 का उनका बल्लेबाजी औसत इस प्रारूप में किसी भी खिलाड़ी के लिए 8वां सबसे ज्यादा बल्लेबाजी औसत है, जिसने न्यूनतम 5000 रन बनाए हो। सक्रिय क्रिकेटरों में इसके बाद स्टीव स्मिथ का औसत 57.27 सबसे ज्यादा है।

3 हनुमा ने उड़ीसा के खिलाफ 2017/18 सत्र में नाबाद 302 रन बनाए थे. 2017/18 रणजी सीज़न में आंध्र की अगुआई करते हुए विहारी ने छः मैचों में 752 रन बनाए।

4 वह 5वां सबसे ज्यादा रन-स्कोरर था और उन्होंने 94 के औसत से रन बनाया। टूर्नामेंट के 2013/14 सत्र में उन्होंने हैदराबाद के लिए खेलते हुए 841 रन बनाए जो आज तक उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है।

इसे भी पढ़ें: Asian Games 2018: छठे दिन भारतीय खिलाड़ियों का यादगार प्रदर्शन, भारत की झोली में गोल्ड समेत चार मेडल

5 4269 रन विहारी ने 2013/14 सीज़न की शुरुआत से भारत में प्रथम श्रेणी के मैचों में स्कोर किया है। जबकि चेतेश्वर पुजारा ने आठ मैच ज्यादा खेलते हुए 4523 रन बनाए हैं।

6 रणजी ट्रॉफी में हनुमा विहारी के 4430 रन 2010-11 सत्र में अपनी शुरुआत के बाद से किसी भी खिलाड़ी के लिए सबसे ज्यादा हैं। उन्होंने साथ 60.69 के औसत से 54 मैचों में 12 शतक लगाए हैं।

7 हनुमा ने 2012/13 रणजी सीज़न की शुरुआत से 47 मैचों में 65.59 के औसत से 4198 रन बनाए हैं। पिछले छह रणजी ट्रॉफी सत्रों में वह 4000 रन बनाने वाले एकमात्र खिलाड़ी हैं।

Share it
Top