Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अश्विन ने आईसीसी से खतरनाक बॉल फेंकने की मांगी छूट, सकलैन मुश्ताक-शोएब मलिक की तारीफ की

रविचंद्रन अश्विन ने कहा कि पाकिस्तान के पूर्व स्पिनर सकलैन मुश्ताक ही एकमात्र गेंदबाज थे जो 'दूसरा' गेंद को खूबसूरती से फेंकते थे। सकलैन के अलावा अश्विन ने शोएब मलिक की भी तारीफ की।

शोएब मलिक हैं जिन्होंने अपनी बल्लेबाजी पर ज्यादा ध्यान लगाना शुरू कर दिया।
X

अश्विन चाहते हैं कि आईसीसी को 'दूसरा' गेंद डालने के लिए कोहनी मोड़ने की मौजूदा 15 डिग्री की सीमा को बढ़ाना चाहिए। 

खेल। भारत के स्टार स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) को लगता है कि सकलैन मुश्ताक (Saqlain Mushtaq ) एकमात्र स्पिनर थे जो अपने करियर के दौरान 'वैध दूसरा' गेंद डालते थे। वहीं अश्विन चाहते हैं कि आईसीसी (ICC) को 'दूसरा' गेंद डालने के लिए कोहनी मोड़ने की मौजूदा 15 डिग्री की सीमा को बढ़ाना चाहिए। दरअसल अश्विन ने दक्षिण अफ्रीका के पूर्व 'परफोरमेंस' विश्लेषक प्रसन्ना अगोराम से चर्चा के दौरान ऑफ स्पिनरों की इस खतरनाक गेंद के बारे में विस्तार से बात की। उन्होंने कहा कि सकलैन ने 'दूसरा' फेंकने की शुरुआत की थी। मुथैया मुरलीधरन, हरभजन सिंह और सईद अजमल भी इस गेंद से बल्लेबाजों को चौंका देते थे।

बता दें कि अश्विन ने अपने तमिल यूट्यूब चैनल शो 'द लीजेंड ऑफ द दूसरा' में अगोराम के साथ चर्चा में कहा, ''मेरे हिसाब से, हमें इसे (दूसरा को) खत्म नहीं करना चाहिए। बल्कि स्पिनरों को कोहनी के उचित मोड़ के साथ जिम्मेदारी से दूसरा गेंद फेंकने के लिये सक्षम करना चाहिए। '' साथ ही उन्होंने कहा, ''इसमें किसी भी तरह का उल्लघंन नहीं होना चाहिए, हर किसी को माइनस 15 डिग्री या 20-22 डिग्री तक मोड़ के साथ गेंदबाजी की अनुमति देनी चाहिए।''

गेंदबाजों को भी मिले आजादी

अगोराम ने कहा, ''मैं बल्ले और गेंद में बराबर संतुलन चाहता हूं. गेंदबाजों को भी बल्लेबाजों की तरह आजादी की जरूरत है। इसी से प्रतिस्पर्धा बेहतर हो सकती है। मैं गेंदबाजों को टी20 क्रिकेट में 125 रन के स्कोर का बचाव करते हुए देखना चाहता हूं ।'' अगोराम ने कहा, ''लेकिन कुछ मामलों में जब अंपायरों का एक्शन सिर्फ दूसरा के लिये होता है तो मैं चाहता हूं कि आईसीसी इस कोहनी के मुड़ाव को 18.6 डिग्री तक कर दे। अगर गेंदबाजों को दूसरा गेंदबाजी की अनुमति मिल जाती है तो प्रतिस्पर्धा (बल्लेबाजों और गेंदबाजों के बीच) पर विचार किया जाना चाहिए। ''

सकलैन-शोएब की तारीफ की

वहीं अश्विन ने भी कहा कि पाकिस्तान के पूर्व स्पिनर सकलैन मुश्ताक ही एकमात्र गेंदबाज थे जो 'दूसरा' गेंद को खूबसूरती से वैध रूप से फेंकते थे। उनके अनुसार वैध दूसरा फेंकने वाले एक अन्य स्पिनर शोएब मलिक हैं जिन्होंने अपनी बल्लेबाजी पर ज्यादा ध्यान लगाना शुरू कर दिया।

Next Story