Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Sunday Special: देश के लिए बनाए ढेरों रन लेकिन विदाई मैच से ये क्रिकेटर रह गए वंचित

ऐसे कई मौके आए हैं, जब दुनिया के दिग्गज खिलाड़ी इस सम्मान से मरहूम रह गए हैं। हालांकि किसी खिलाड़ी की अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट (International cricket) से विदाई के लिए कोई खास मानक नहीं बने हैं।

देश के लिए बेहतरीन पारियां खेलने के बाद फैंस के दिलों में जगह बनाते हैं।
X
Sunday Special: देश के लिए बनाए ढेरों रन लेकिन विदाई मैच से क्रिकेटर रह गए वंचित

Sunday Special: एक सफल क्रिकेटर (Cricketer) बनने के लिए एक खिलाड़ी क्या कुछ नहीं करता। बड़े जतन और संघर्ष (Struggle) के साथ वह राष्ट्रीय टीम (National team) में अपनी जगह बनाता है। इसके साथ ही लंबे समय तक अपने देश के लिए बेहतरीन पारियां खेलने के बाद फैंस के दिलों में जगह बनाते हैं। प्रशंसकों का भी यह सपना होता है कि वो अपने पसंदीदा खिलाड़ी को आखिरी बार मैदान पर खेलते देखें और उसे शानदार विदाई (Reteirment) दे सकें। लेकिन ऐसे कई मौके आए हैं, जब दुनिया के दिग्गज खिलाड़ी इस सम्मान से मरहूम रह गए हैं। हालांकि किसी खिलाड़ी की अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट (International cricket) से विदाई के लिए कोई खास मानक नहीं बने हैं। लेकिन उनके फैंस की दिली इच्छा होती है कि आखिरी बार अपने चहेते क्रिकेटर को मैदान पर खेलते देखना चाहते हैं।

आज संडे स्पेशल में हम दुनिया के ऐसे ही कुछ दिग्गज खिलाड़ियों के बारे में आपको रुबरू करवाएंगे, जिन्होंने अपने देश के लिए कई बेहतरीन पारियां तो खेली लेकिन उन्हें विदाई मैच नसीब तक नहीं हुआ।


1- एबी डिविलियर्स: पूरे क्रिकेट जगत में 'मिस्टर 360' के नाम से मशहूर साउथ अफ्रीका के मशहूर क्रिकेटर एबी डिविलियर्स ने 2018 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से सन्यास की घोषणा थी। जिसके बाद उनके संन्यास की घोषणा से पूरा क्रिकेट जगत हैरत में पड़ गया था। वहीं पिछले दिनों डिविलियर्स की वापसी को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म था। लेकिन क्रिकेट साउथ अफ्रीका (CSA) ने मंगलवार को ऐलान किया था कि डिविलियर्स इंटरनेशनल क्रिकेट में वापसी नहीं करने जा रहे हैं। वहीं डिविलियर्स के नाम वनडे इंटरनेशनल में सबसे तेज अर्धशतक (16 गेंदों में ) और शतक (31 गेंदों) का रिकॉर्ड है। डिविलियर्स ने साउथ अफ्रीका के लिए 114 टेस्ट मैचों में 50.66 की औसत से 8765 रन बनाए। जिसमें 22 शतक और 46 अर्धशतक शामिल रहे। उन्होंने 228 वनडे इंटरनेशनल मैचों में 53.50 की औसत से 9,577 रन बनाए। वनडे में उनके नाम 25 शतक और 53 अर्धशतक शामिल हैं. डिविलियर्स ने 78 टी20 इंटरनेशनल मैचों में भी अपनी टीम का प्रतिनिधित्व किया। टी20 इंटरनेशनल में उन्होंने 26.12 की 1672 रन बनाए। इस दौरान उनके बल्ले से 10 अर्धशतक निकले।


2- एमएस धोनी: भारतीय टीम के पूर्व कप्तान 'कैप्टन कूल' के नाम से मशहूर महेंद्र सिंह धोनी भारत के सर्वश्रेष्ठ कप्तानों में से एक हैं। धोनी ने अपनी कप्तानी में भारत को तीन आईसीसी खिताब दिलवाए। उन्होंने दिसंबर 2014 में टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह दिया था। लेकिन वह वनडे और टी20 में भारतीय क्रिकेट टीम का हिस्सा बने रहे। उन्होंने अपना आखिरी अंतरराष्ट्रीय मैच वर्ल्ड कप 2019 के दौरान खेला था। 15 अगस्त 2020 को महेंद्र सिंह धोनी ने सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से रिटायरमेंट का ऐलान किया था। महेंद्र सिंह धोनी ने 350 वनडे, 98 टी20 इंटरनेशनल और 90 टेस्ट मैच खेलकर 17266 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने 108 अर्धशतक और 16 शतक लगाए। धोनी सबसे सफल भारतीय विकेटकीपर भी हैं। उन्होंने टेस्ट में 294, वनडे में 444 और टी-20 में 91 शिकार अपने नाम किए हैं।


3. युवराज सिंह: युवराज सिंह भारतीय क्रिकेट के बेहतरीन ऑलराउंडरों में से एक रहे हैं। युवराज भारत की दो वर्ल्ड चैम्पियन (2007 में वर्ल्ड टी20 और 2011 में वर्ल्ड कप) टीमों का अहम हिस्सा रहे। बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने दोनों टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन कर खिताबी जीत में अहम योगदान दिया था। युवराज सिंह ने 304 वनडे खेले, जिनमें उन्होंने 8701 रन बनाए हैं। युवराज के नाम वनडे इंटरनेशनल में कुल 14 शतक और 52 अर्धशतक दर्ज हैं। युवराज ने 40 टेस्ट मैचों में कुल 1900 रन बनाए, जिसमें 3 शतक और 11 अर्धशतक शामिल रहे। युवराज ने 58 टी20 इंटरनेशनल में 1177 रन बनाए, जिसमें आठ अर्धशतक शामिल रहे।


4. वीरेंद्र सहवाग: वीरेंद्र सहवाग के विस्फोटक अंदाज का हर कोई मुरीद था। विपक्षी गेंदबाजों की लेंथ और लाइन को बिगाड़ने में सहवाग का जवाब नहीं था। सहवाग टेस्ट मैचों में दो तिहरा शतक लगाने वाले इकलौते भारतीय बल्लेबाज हैं। इसके बावजूद उन्हें विदाई मैच नसीब नहीं हुआ। उन्होंने 2013 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना आखिरी इंटरनेशनल मैच खेला था। 2015 में अपने जन्मदिन के मौके पर सहवाग ने इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कह दिया। वीरेंद्र सहवाग ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 104 टेस्ट मैच और 251 वनडे मैच खेले। टेस्ट क्रिकेट में उन्होंने 23 शतक और 32 अर्धशतक की बदौलत 8586 रन बनाए। वनडे इंटरनेशनल में सहवाग के नाम 8273 रन दर्ज हैं, जिसमे 15 शतक और 38 अर्धशतक शामिल रहे।


5. केविन पीटरसन: केविन पीटरसन ने इंग्लैंड के लिए 104 टेस्ट, 136 वनडे और 37 टी-20 इंटरनेशनल मैच खेले थे। पीटरसन ने टेस्ट मैचों में 8,181 रन बनाए। वहीं, वनडे में 4,440 और टी-20 इंटरनेशनल में 1,176 रन बनाए। दाएं हाथ के बल्लेबाज पीटरसन टेस्ट में इंग्लैंड के लिए छठे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी हैं। पीटरसन ने 2010-11 में ऑस्ट्रेलिया और 2012-13 में भारत की धरती पर सीरीज जीत में बड़ी भूमिका निभाई थी। 2013-14 में इंग्लैंड को ऑस्ट्रेलिया के हाथों एशेज सीरीज में 5-0 से का सामना करना पड़ा था। यह बड़ी हार टीम के निराशा का सबब बन गई। 5 टेस्ट मैचों में 294 रन बनाने के बावजूद पीटरसन चयनकर्ताओं के निशाने पर आ गए। पीटरसन को उस सीरीज के बाद कभी भी अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने का मौका नहीं मिला। उन्होंने अंततः मार्च 2018 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया।


6. मैथ्यू हेडन: मैथ्यू हेडन ऑस्ट्रेलिया के सफलतम ओपनिंग बल्लेबाज रहे हैं। हेडन ने 2003 और 2007 में ऑस्ट्रेलिया की वनडे विश्व कप जीत के दौरान बड़ी भूमिका निभाई थी। मैथ्यू हेडन ने 103 टेस्ट मैचों मे 50.73 की औसत से 8625 रन बनाए। इस दौरान उनके बल्ले से 30 शतक और 29 अर्धशतक निकले। हेडन ने 161 वनडे में 43.80 की औसत से 6133 रन बनाए, जिसमें 10 शतक और 36 अर्धशतक शामिल रहे। खराब फॉर्म के चलते जनवरी 2009 में हेडन ने इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कह दिया था।

Next Story