Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

IPL से Vivo की विदाई तय, दावेदारों में भारतीय कंपनी

  • चीनी मोबाइल कम्पनी वीवो का कहना है कि भारत और चीन के राजनीतिक संबंधों में तनाव के कारण वो अपने टाइटल स्पॉन्सर राइट्स को ट्रांसफर करेगा।
  • Vivo अपने टाइटल स्पॉन्सर राइट्स को ट्रांसफर करेगा
  • पिछले एडिशन में ड्रीम-11 था IPL का टाइटल प्रायोजक
  • ड्रीम 11 और अनअकैडमी दौड़ में आगे

Vivo अपने टाइटल स्पॉन्सर राइट्स को ट्रांसफर करेगा
X

ड्रीम-11 पिछले एडिशन में टाइटल प्रायोजक था

खेल। चीनी मोबाइल निर्माता कंपनी वीवो (VIVO) प्रतिष्ठित टी20 टूर्नमेंट इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) में अपने टाइटल स्पॉन्सर राइट्स (IPL Title Sponsor Rights) ट्रांसफर कर सकता है। जिसमें ड्रीम 11 और अनअकैडमी दौड़ में आगे मानी जा रही हैं। ड्रीम 11 आईपीएल 2020 का टाइटल प्रायोजक था जिसने 220 करोड़ रुपये में अधिकार खरीदे थे।


दरअसल वीवो ने पांच साल के करार के लिए 440 करोड़ रुपये सालाना का करार किया था। वहीं भारत और चीन के राजनीतिक संबंधों में तनाव के मद्देनजर वीवो का मानना है कि यह साझेदारी जारी रखना समझदारी भरा फैसला नहीं होगा।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के एक सूत्र ने बताया, 'यह लगभग तय है कि वीवो का आईपीएल टाइटल प्रायोजन करार आपसी सहमति से खत्म होने जा रहा है। इसे 2020 में निलंबित किया गया था। इसके एक प्रावधान है कि वह अपना बकाया दायित्व नए प्रायोजक को दे सकता है। बोर्ड सैद्धांतिक रूप से तैयार हो जाए तो यह संभव है।'

आईपीएल-2022 में 9 या 10 टीमें होंगी और माना जा रहा है कि नए बोली लगाने वाले को कम से कम तीन साल के टाइटल स्पॉन्सर राइट्स मिलेंगे। कहा जा रहा है कि, 'ड्रीम 11 और अनअकैडमी वीवो के सामने प्रस्ताव रखेंगे। अनअकैडमी सहायक प्रायोजक है और वीवो से अधिकार लेने के लिए बड़ी रकम चुकाने को तैयार है।'



Next Story