Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Ind vs Eng: सॉफ्ट सिग्नल को लेकर मचा हल्ला, कप्तान कोहली ने कही अहम बात

भारत और इंग्लैंड के बीच हुए चौथे मैच में सूर्यकुमार यादव (Surykumar Yadav) के आउट होने के बाद से बवाल मच गया है। दरअसल सूर्यकुमार को सॉफ्ट सिग्नल के तहत आउट दिया गया था। जिसके बाद से ही हल्ला मचा हुआ है

भारत ने इंग्लैंड को 8 रनों से हराया
X

सॉफ्ट सिग्नल को लेकर मचा हल्ला

खेल। अहमदाबाद (Ahmedabad) के नरेंद्र मोदी स्टेडियम (Narendra Modi Stadium) में गुरुवार को भारत और इंग्लैंड (Ind vs Eng) के बीच चौथा मुकाबला खेला गया। जिसे भारत ने 8 रनों जीतकर सीरीज 2-2 से बराबर कर ली। हालांकि, इस मैच में सूर्यकुमार यादव (Surykumar Yadav) के आउट होने के बाद से बवाल मच गया है। दरअसल सूर्यकुमार को सॉफ्ट सिग्नल के तहत आउट दिया गया था। जिसके बाद से ही हल्ला मचा हुआ है।

क्या होता है सॉफ्ट सिग्नल?

दरअसल टॉस हारने के बाद पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम की पारी के दौरान सूर्यकुमार यादव 57 रनों पर बैटिंग कर रहे थे जिसके बाद उन्होंने तेज गेंदबाज सैम कर्रन की गेंद पर स्कूप शॉट खेला। वहीं गेंद डीप फाइन लेग पर खड़े डेविड मलान की तरफ गई जिसके बाद उन्होंने कैच होने का दावा किया। हालांकि डेविन मलान ने क्लीन कैच नहीं पकड़ा था। इसलिए मैदान अंपायर ने तीसरे अंपायर की मदद मांगी गई। लेकिन नियम के तहत मैदानी अंपायर को अपना फैसला भी बताना होता है, जिसे सॉफ्ट सिग्नल कहा जाता है। इसी सॉफ्ट सिग्नल के तहत मैदानी अंपायर ने सूर्यकुमार को आउट करार दिया था।

वहीं बाद में जब तीसरे अंपायर ने कई बार टीवी रिप्ले देखा, जिसके बाद कैच पकड़े जाने का किसी तरह का सबूत नहीं मिला। इसके बाद तीसरे अंपायर ने फैसला अंपायर के सॉफ्ट सिग्नल के हिसाब से दिया और सूर्यकुमार को पवेलियन लौटना पड़ा। हालांकि, टीवी रिप्ले में साफ दिख रहा था की गेंद जमीन को छू गई थी। इसके साथ ही अगर मैदानी अंपायर सूर्यकुमार को सॉफ्ट सिग्नल में नॉट आउट देता, तो तीसरा अंपायर भी अपना फैसला नॉट आउट ही देता। इसी कारण क्रिकेट जगत में सॉफ्ट सिग्नल को लेकर बवाल मच गया है।

विराट कोहली ने रखी अपनी बात

इस पूरे मामले पर भारतीय कप्तान विराट कोहली ने सॉफ्ट सिग्नल को लेकर अपनी बात रखी है। उन्होंने कहा है कि, "टेस्ट सीरीज में भी कुछ इसी तरह से हुआ था, जब मैं अजिंक्य रहाणे के बगल में खड़ा था उसने कैच पकड़ा था। उसने कैच पकड़ा था, लेकिन इसको लेकर वह आश्वस्त नहीं था। जिसके बाद फैसला तीसरे अंपायर के पास गया। अगर फील्डर को इसमें शक होता है तो स्क्वायर लेग पर खड़ा अंपायर कैसे इसे साफ तरीके से देख सकता है?" कोहली ने आगे कहा कि, "सॉफ्ट सिग्नल काफी अहम हो गया है और यह काफी ट्रिकी भी है। मुझे समझ नहीं आता कि अंपायर के पास मुझे नहीं पता का ऑप्शन क्यों नहीं हो सकता है। इस तरह का फैसला मैच का नतीजा पलट सकता है। कल को यह कोई और टीम भी हो सकती है।"

Next Story