Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

SRH के कप्तान वॉर्नर ने किया खुलासा, ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों से कुछ दूर गिरा था चीन का अनियंत्रित रॉकेट

रविवार को चीन का अनियंत्रित रॉकेट हिंद महासागर में मालदीव के पास गिरा था। रॉकेट जहां गिरा, वहीं से कुछ दूरी पर ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी और स्टॉफ मौजूद थे। जिन्होंने रॉकेट के गिरने की आवाज सुनी थी।

ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों और स्टाफ के कुछ दूर ही गिरा था चीनी रॉकेट
X

 डेविड वॉर्नर ने सुनाई चीनी अनियंत्रित रॉकेट गिरने की आपबीती

खेल। इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) टलने के बाद ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ियों (Australian Players) ने मालदीव (Maldives) का रुख किया। ऑस्ट्रेलिया की सरकार (Government of Australia) ने भारत से आने-जाने वाली फ्लाइट्स (ban Indian Flights) पर रोक लगा रखी है। भारत में कोरोना (Corona) के कहर के कारण ऑस्ट्रेलिया ने ये फैसला लिया है।

वहीं, फ्लाइट बैन के कारण डेविड वॉर्नर (David Warner) समेत कई ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी (Australian Players) मालदीव में ही हैं और इस दौरान उनके साथ बड़ा हादसा होने से बच गया। दरअसल, हाल ही में चीन का अनियंत्रित रॉकेट हिंद महासागर (Indian Ocean) में मालदीव के पास गिरा था। इस बेकाबू रॉकेट को देखकर ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ी घबरा गए थे।

बता दें कि, रॉकेट जहां गिरा, वहीं से कुछ दूरी पर ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी और स्टॉफ मौजूद थे। डेविड वॉर्नर सहित कई खिलाड़ियों ने उस रॉकेट के गिरने की आवाज सुनी थी और उन्हें ऐसा लगा था, जैसे कि कोई भयंकर धमाका हुआ हो।

दरअसल, डेविड वॉर्नर ने 'द ऑस्ट्रेलियन' को बताया कि जैसे ही रॉकेट मालदीव के तट के पास गिरा तो सुबह 5:30 बजे के करीब सबकी आंखें खुल गई थीं। वॉर्नर ने कहा, 'हमने उस धमाके को सुबह के 5:30 बजे के करीब सुना। एक्सपर्ट का कहना है कि वो असल में रॉकेट गिरने की आवाज नहीं थी। वो वातावरण में रॉकेट की वजह से जो क्रैक हुआ है उसकी आवाज थी।'

गौरतलब है कि, चीन ने तियानहे स्पेस स्टेशन को बनाने के लिए अपना सबसे बड़ा रॉकेट 28 मार्च को छोड़ा था। यह रॉकेट करीब 100 फीट लंबा है। इसका वजन करीब 21 टन है। चीन के इस रॉकेट का नाम लॉन्ग मार्च 5बी वाई2 है।

बता दें कि कोरोना के कहर के कारण आईपीएल को टाल दिया गया है। आईपीएल के टलने से ऑस्ट्रेलिया समेत कई देशों के खिलाड़ी भारत में फंस गए थे। ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेटर्स ने अपनी सरकार से वापसी का इंतजाम करने की गुहार लगाई थी लेकिन वह नहीं सुनी गई। आखिर में ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों को मालदीव का रुख करना पड़ा और यहीं से वे ऑस्ट्रेलिया की उड़ान पकड़ेंगे।

और पढ़ें
Next Story