Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Birthday Special: जानें वीरु क्यों कहलाए 'मुल्तान के सुल्तान', आज भी कायम हैं कई Records

अपने करियर के दौरान सहवाग ने अपनी बल्लेबाजी का ऐसा जादू बिखेरा कि वे क्रिकेट प्रेमियों के दिलों पर राज करने लगे। आज भी लोग उनकी आतिशी बल्लेबाजी के दिवाने हैं।

Birthday Special: जानें वीरु क्यों कहलाए मुल्तान के सुल्तान, आज भी कायम हैं कई Records
X

खेल। भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket team) के पूर्व तूफानी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) 20 अक्टूबर को अपना 43वां जन्मदिन मना रहे हैं। अपने करियर के दौरान सहवाग ने अपनी बल्लेबाजी का ऐसा जादू बिखेरा कि वे क्रिकेट प्रेमियों के दिलों पर राज करने लगे। आज भी लोग उनकी आतिशी बल्लेबाजी के दिवाने हैं।

सहवाग ने अपने क्रिकेट करियर में कई बेमिसाल रिकॉर्ड बनाएं हैं। आज भी उनके बनाए हुए रिकॉर्ड तोड़ना तो दूर कोई भी बल्लेबाज उनकी बराबरी तक नहीं कर सकता। बहुत कम लोग ही जानते होंगे की सहवाग एकलौते ऐसे कप्तान हैं जिन्होंने बतौर कप्तान वनडे मुकाबले में दोहरा शतक लगाया है। वहीं आज तक कोई दूसरा क्रिकेट खिलाड़ी नहीं हुआ पूरी दुनिया में जिसने उनके इस रिकॉर्ड को छुआ होगा। और तो और सहवाग टेस्ट क्रिकेट में तीहरा शतक लगाने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज भी हैं।

8 दिसंबर 2011 का दिन भारतीय क्रिकेट इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में दर्ज है। दरअसल इस दिन सहवाग ने वेस्टइंडीज के खिलाफ इंदौर के होल्कर स्टेडियम में अपने करियर का पहला दोहरा शतक जड़ा था। वह वनडे इंटरनेशनल में ये कारनामा करने वाले दूसरे बल्लेबाज थे। उनके पहले ये कारनामा सचिन तेंदुलकर हैं। वहीं होल्कर स्टेडियम में उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ 149 गेंदों पर 219 रनों की बेहतरीन पारी खेली थी। इस दौरान उन्होंने 25 चौके और 7 छक्के जड़े। इस मुकाबले में भारत ने वेस्टइंडीज को मात दी थी।

'मुल्तान के सुल्तान' का मिला नाम

इसके साथ ही सहवाग ने टेस्ट क्रिकेट में पहला तिहरा शतक जड़ने का कारनामा भी बनाया। उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ 2004 में 309 रनों की शानदार पारी खेली। इस दौरान उन्होंने इतिहास रच दिया। उन्होंने 364 गेंदों में 309 रनों की पारी खेली। और साथ ही ये मुकाबला भी भारत ने पाकिस्तान से जीत लिया। ये कारनामा भारत की तरह से अबतक सिर्फ सहवाग के नाम दर्ज है। उनसे पहले भारत की ओर से किसी भी बल्लेबाज ने ऐसा कीर्तिमान नहीं रचा था। यही वो मुकाबला था जिसके बाद वीरेंद्र सहवाग को 'मुल्तान के सुल्तान' कहा जाने लगा।

Next Story