Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गैरमान्यता प्राप्त टी20 लीग के लिए लगी बोली पर हुआ विवाद, नहीं मिली थी BCCI की मंजूरी

बिहार क्रिकेट संघ (Bihar cricket Board) एक बार फिर विवादों में घिर गया है। दरअसल बीसीए (BCA) ने बीसीसीआई (BCCI) से मंजूरी मिलने से पहले ही गैरमान्यता प्राप्त बिहार क्रिकेट टी 20 लीग (Bihar Cricket T20 league) के लिए नीलामी (Auction) आयोजित कर दी। जिसके बाद इस पर नया विवाद खड़ा हो गया है।

BCCI की मंजूरी मिलने से पहले BCA ने गैर मान्यता प्राप्त T20 लीग की नीलामी की
X

BCA ने गैर मान्यता प्राप्त T20 लीग की लगाई बोली

खेल। बिहार क्रिकेट संघ (Bihar cricket Board) एक बार फिर विवादों में घिर गया है। दरअसल बीसीए (BCA) ने बीसीसीआई (BCCI) से मंजूरी मिलने से पहले ही गैरमान्यता प्राप्त बिहार क्रिकेट टी 20 लीग (Bihar Cricket T20 league) के लिए नीलामी (Auction) आयोजित कर दी। जिसके बाद इस पर नया विवाद खड़ा हो गया है। (ACU) और बीसीए ने पूर्व में मंजूरी लिये बिना ही शनिवार को खिलाड़ियों की नीलामी आयोजित कर दी। वहीं बीसीसीआई की भ्रष्टाचार निरोधक इकाई (ACU) पहले ही सिफारिश कर चुकी है कि किसी राज्य टी20 लीग को हरी झंडी देने से पहले बीसीसीआई को कड़े दिशा-निर्देश देने चाहिए। लेकिन बीसीए ने पूर्व में मंजूरी लिये बिना ही शनिवार को खिलाड़ियों की नीलामी आयोजित कर दी थी।

बता दें कि यह टूर्नामेंट 21 से 27 मार्च के बीच पटना में होना है, जिसमें पांच फ्रेंचाइजी टीमें अंगिका एवेंजर्स (Angika Avengers), भागलपुर बुल्स ( BHAGALPUR BULLS), दरभंगा डायमंड्स (Darbhanga Diamonds), गया ग्लैडिएटर्स ( Gaya Gladiators) और पटना पायलट्स (patna Pilot) भाग ले रही हैं। जिसके बाद बोली प्रति खिलाड़ी 50,000 रुपये रखी गई थी। दरअसल बीसीसीआई (BCCI) के राज्यस्तरीय लीग को मंजूरी देने से जुड़े एक वरिष्ठ अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर पीटीआई से कहा कि, "जहां तक मैं जानता हूं बिहार क्रिकेट संघ (BCA) को 28 फरवरी की शाम तक किसी टी20 लीग के आयोजन को लेकर कोई मंजूरी नहीं दी गई है।" साथ ही बीसीए के अध्यक्ष राकेश तिवारी (Rakesh tiwari) से जब इस बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने उसे बहुत टालने का प्रयास किया। उन्होंने कहा कि, "हमने बीसीसीआई (BCCI) से अनुमति मांगी थी, लेकिन अभी तक हमें कोई जवाब नहीं मिला है।' जिसके बाद बीसीए अनुमति मिलने का इंतजार नहीं कर पाया क्योंकि कर्नाटक (Karnataka) और तमिलनाडु प्रीमियर लीग (Tamil Nadu Premier League) से जुड़े विवादों के बाद बीसीसीआई ने इसमें एक महीने से भी ज्यादा का समय लगा दिया है।"

फिलहाल टूर्नामेंट के आयोजन में बीसीए की मदद करने वाले एलीट स्पोर्ट्स (ELITE SPORTS) के निशांत दयाल (Nishant Dayal) ने कहा कि उन्हें बताया गया कि राज्य संघ ने बीसीसीआई से 22 जनवरी को मंजूरी देने के लिए कहा था। उन्होंने कहा, 'बीसीसीआई के नियमों के अनुसार बिहार क्रिकेट संघ ने 22 जनवरी को पत्र भेज दिया था। हमने बीसीसीआई एसीयू को टूर्नामेंट के सहज आयोजन में मदद करने के लिए भी पत्र लिखा था।' कर्नाटक और भारत ए के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज सीएम गौतम और पूर्व आईपीएल खिलाड़ी अबरार काजी को कर्नाटक प्रीमियर लीग में फिक्सिंग में लिप्त होने के लिए गिरफ्तार किया गया था, जिसके बाद राज्यस्तरीय लीग पर विशेष निगरानी रखी जा रही है। शनिवार को नीलामी में पूर्व भारतीय खिलाड़ी मदन लाल और सबा करीम ने भी हिस्सा लिया था। करीम हाल तक बीसीसीआई के क्रिकेट संचालन महानिदेशक भी थे।

Next Story