Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

दक्षिण अफ्रीकी टीम में नहीं होंगे पांच से ज्यादा ''गोरे'' खिलाड़ी

दक्षिण अफ्रीका की क्रिकेट टीम में लागू हुआ आरक्षण

दक्षिण अफ्रीकी टीम में नहीं होंगे पांच से ज्यादा
जोहान्सबर्ग. दक्षिण अफ्रीका की क्रिकेट टीम में आरक्षण लागू कर दिया गया है। आरक्षण सिर्फ हमारे समाज में ही मौजूद नहीं है अब यह खेल में अपनी जगह बना चुका है। हालांकि यह पहला मौका नहीं है जब किसी खेल में रंगभेद का कोटा लागू हुआ हो। इससे पहले जिम्बाव्बे क्रिकेट टीम में यह देखने को मिल चुका है।
दक्षिण अफ्रीका की क्रिकेट टीम में आरक्षण लागू होने के बाद अब राष्‍ट्रीय टीम में गोरे खिलाड़ि‍यों की संख्‍या पांच से अधिक नहीं होगी।
स्‍काई न्‍यूज नामक वेबसाइट पर प्रकाशित खबर के मुताबिक, नस्लीय भेदभाव को खत्म करने के लिए दक्षिण अफ्रीकी टीम में कोटे की शुरुआत की गई है। नए कोटा सिस्‍टम के तहत अब टीम में ग्यारह खिलाड़ियों में कम से कम छह अश्वेत खिलाड़ी होंगे। यह व्‍यवस्‍था क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट-टेस्ट, वन-डे और टी-20 में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लागू होगी। गौरतलब है कि नस्लीय कोटा कई सालों तक प्रांतीय स्तर पर लागू रहा है लेकिन यह पहला मौका है जब इसे राष्ट्रीय स्तर पर लागू किया गया है।
गौरतलब है कि हाल में न्यूजीलैंड के खिलाफ हुए दूसरे टेस्ट में अश्वेत खिलाड़ियों की संख्या 6 पहुंच गई थी जिनमें दो अश्वेत अफ्रीकन थे। इन दो अश्वेत अफ्रीकन खिलाड़ियों में टेंबा बावुमा और कैगिसो रबादा थे और चार अन्य गैर-गोरों में हाशिम अमला, जेपी डुमिनी, वेरन फिलैंडर और डेने पीड थे। उपसमितियों में हुई चर्चा के बाद जोहान्सबर्ग में ‘क्रिकेट साउथ अफ्रीका’ (सीएसए) की सालाना बैठक में इस कोटा की पुष्टि की गई। सीएसए प्रेसिडेंट क्रिस नेंजानी ने कहा कि न्यूजीलैंड के खिलाफ हुए शृंखला में शु हुए परीक्षण में छह अश्वेत समेत दो अश्वेत अफ्रीकन खिलाड़ी थे।
दक्षिण अफ्रीका का अगला वनडे मुकाबला 25 सितंबर को आयरलैंड से है। चूंकि क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका अपनी राष्ट्रीय टीम में अधिक अश्वेत खिलाड़ियों को रखने के लक्ष्य को हासिल करना चाहता है और इसलिए आयरलैंड के खिलाफ चार अश्वेत खिलाड़ियों को रखा जा सकता है। बावुमा और पेलुकावायो के अलावा तेज गेंदबाज कैगिसो रबादा और बायें हाथ के स्पिनर आरोन फैंगिसो के बेनोनी मैच में खेलने की संभावना है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top