Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

यूपी: आजमगढ़ के इस डीएम ने चीन में लहराया तिरंगा

जिलाधिकारी सुहास एलवाई अपने बेहतर कामों की वजह से जाने जाते हैं।

यूपी: आजमगढ़ के इस डीएम ने चीन में लहराया तिरंगा
आजमगढ़. प्रशासनिक कामों के लिए दक्ष माने जाने वाले देश देश के आइएएस अधिकारी अब खेल के मैदान पर भी अपना परचम लहरा रहे हैं। एक बेहतर अधिकारी के जिले में खासे चर्चित सुहास एलवाई के नाम एक और नई उपलब्धि जुड़ी है। जिलाधिकारी सुहास एलवाई अपने बेहतर कामों की वजह से जाने जाते हैं। आजमगढ़ के डीएम सुहास एलवाई ने बैंडमिंटन की दुनिया में एक पैर ना होने के बावजूद भी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मेडल जीतकर इतिहास रच दिया है। सॉफ्टवेयर इंजीनियर से आइएस बनने वाले सुहास एलवाई ने बैडमिंटन में इतिहास रच दिया।
चीन की राजधानी बीजिंग में चल रहे एशियन पैरा बैडमिंटन चैंपियनशिप का स्वर्ण पदक भारत के सुहास एलवाई ने जीत लिया है। फाइनल में उन्होंने इंडोनेशिया के हरे सुशांतो को 21-2, 21-11 से हराकर गोल्ड मेडल पर कब्जा किया। सेमीफाइनल में कोरिया के क्योन ह्वान सान को हराया था।
बीते रविवार को खेले गए फाइनल मैच में उन्होंने इंडोनेशिया के हेरी सुशांतो को एकतरफा मुकाबले में पराजित कर गोल्ड मेडल पर कब्जा जमाया। वह सिंगल वर्ग में शुरू से ही दबदबा बनाते हुए फाइनल में पहुंचे थे। सुहास एलवाई आजमगढ़ के जिलाधिकारी हैं। उनकी इस सफलता पर खेलप्रेमियों में खुशी की लहर है।
बता दें कि बीजिंग में इस समय एशियन पैरा बैडमिंटन चैंपियनशिप खेली जा रही है। जिसमें आजमगढ़ के जिलाधिकारी सुहास एलवाई सहित देश के 26 खिलाड़ी भारत का प्रतिनिधित्‍व कर रहे है। इसमें यूपी से मात्र दो खिलाड़ी शामिल हैं। सुहास एलवाई के अलावा लखनऊ के अबु हुबैदा को इस प्रतियोगिता में शामिल होने का मौका मिला है। गुरूवार को खेले गए युगल के पहले मुकाबले में जिलाधिकारी सुहास एलवाई और उमेश विक्रम ने मैच जीत क्‍वाटर फाइनल में जगह बनाई थी।
एक पैर खराब
एक पैर खराब होने के चलते बचपन से चलने फिरने में दिक्कत झेलने वाले सुहास के लिए इस मुकाम तक पहुंचना आसान नहीं रहा। 2007 बैच के IAS सुहास एलवाई का नाम यूपी के अच्छे अफसरों में शुमार है। वे मुलायम सिंह यादव के संसदीय क्षेत्र आजमगढ़ में डीएम के पद पर तैनात हैं। उनके एशियन पैरा बैडमिंटन टूर्नामेंट में गोल्ड मेडल जीतने की खबर मिलते ही रविवार को आजमगढ़ में खुशी की लहर दौड़ गई। सोशल मीडिया पर भी उनको बधाइयां मिलने लगीं।
इस टूर्नामेंट में पहले हार गए थे सुहास
फाइनल मैच जीतकर सुहास देश के ऐसे पहले अफसर बन गए है, जिन्‍होंने बैडमिंटन के इंटरनेशनल मुकाबले में जगह बनाने के साथ गोल्ड मेडल जीता है। सुहास कुछ साल पहले इसी टूर्नामेंट के क्वार्टर फाइनल तक पहुंचकर हार गए थे। सुहास की पत्नी रितु ने बताया कि सुहास इस टूर्नामेंट के लिए पिछले डेढ़ महीने से तैयारी कर रहे थे। अब लगातार 6 मुकाबले जीतकर वे गोल्ड मेडल तक पहुंचे।
सीएम अखिलेश ने ट्विटर पर दी बधाई
डीएम सुहास की इस शानदार जीत के बाद सीएम अखिलेश ने ट्विटर पर उनको बधाई दी और कहा कि उन्होंने प्रदेश का मान बढ़ाया है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top