Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

श्रीलंकाई खिलाड़ी की गलती से मैक्सवेल ने बनाए कई वर्ल्ड रिकॉर्ड

ऑस्ट्रेलिया ने पहले 10 ओवर में एक विकेट पर 110 रन बना लिए थे।

श्रीलंकाई खिलाड़ी की गलती से मैक्सवेल ने बनाए कई वर्ल्ड रिकॉर्ड
नई दिल्ली. ऑस्ट्रेलिया और श्रीलंका के बीच मंगलवार को खेले गए ऐतिहासिक टी-20 मैच में दोनों टीमों के बीच ग्लेन मैक्सवेल की 65 गेंदों में 145 रन की पारी एक बड़ा अंतर साबित हुई। इस पारी के साथ ही मैक्सवेल इंटरनेशनल टी-20 के इतिहास में सबसे बड़ी पारी खेलने वाले दूसरे बल्लेबाज भी बन गए। श्रीलंका के चमारा कपुगेदरा ने मैक्सवेल का कैच तो पकड़ लिया था लेकिन उनका पैर बाउंड्री पर होने के कारण मैक्सवेल को जीवनदान मिल गया जो श्रीलंकाई टीम को भारी पड़ा।
ऐसा नहीं है कि मैक्सवेल ने श्रीलंका को उन्हें आउट करने का कोई मौका नहीं दिया, श्रीलंका के पास उन्हें आउट करने के मौके आए, लेकिन वह उन्हें भुना नहीं पाए थे। एक बार तो श्रीलंका की टीम को ऐसा मौका मिला जो जरा-सी चूक से हाथ से निकल गया। इस मैच में कई रिकॉर्ड भी बन गए।
पहले बैटिंग कर रही ऑस्ट्रेलिया टीम को पहली बार ओपनिंग करने उतरे ग्लेन मैक्सवेल ने तूफानी शुरुआत दी। ऑस्ट्रेलिया ने पहले 10 ओवर में एक विकेट पर 110 रन बना लिए थे। फिर 13वें ओवर में श्रीलंका के हाथ एक बड़ा मौका आया। मैक्सवेल उस समय 39 गेंदों में 76 रन पर खेल रहे थे और उन्होंने तब तक 8 चौके और 4 छक्के उड़ा दिए थे। उस समय तिसारा परेरा गेंदबाजी कर रहे थे। उनकी पहली गेंद पर मैक्सवेल ने 2 रन लिए और फिर धीमी फेंकी गई दूसरी गेंद को पांचवें छक्के के लिए डीप मिडविकेट की ओर उछाल दिया।
श्रीलंका के चमारा कपुगेदरा ने कैच पकड़ने के लिए खुद को पोजिशन किया और बाउंड्री के बिल्कुल नजदीक गेंद पकड़ लिया, लेकिन इस बीच उनके एक पैर के जूते का पिछला भाग बाउंड्री रोप से टकरा गया, इसका अहसास उन्हें कुछ ही सेंकेंड में हुआ और उन्होंने गेंद बाउंड्री के भीतर की ओर धकेल दी, लेकिन थर्ड अंपायर ने छक्का दे दिया। इस प्रकार श्रीलंकाई टीम के हाथ से मैक्सवेल को आउट करने का चांस चला गया और मैक्सवेल वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाकर ही मैदान से लौटे।
मैक्सवेल की धुंआधार बल्लेबाजी से ऑस्ट्रेलिया ने अंतिम के 10 ओवरों में 153 रन बना लिए और पारी में 263 रन बनाकर, सर्वोच्च स्कोर का वर्ल्ड रिकार्ड रच दिया। अंतिम के 7 ओवरों में मैक्सवेल निजी स्कोर में 69 रन और जोड़कर इंटरनेशनल टी-20 में सबसे बड़ी पारी खेलने वाले दूसरे बल्लेबाज बन गए।
ऑस्ट्रेलिया ने टी20 क्रिकेट में सबसे बड़े स्कोर का वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है। संयोग से यह रिकॉर्ड श्रीलंका के ही नाम था। श्रीलंका ने 9 साल पहले केन्या के खिलाफ 6 विकेट पर 260 रन बनाए थे. अब ऑस्ट्रेलिया ने 3 विकेट पर 263 रन बनाकर इस ख़िताब को अपने नाम कर लिया है।
फिंच के बाद मैक्सवेल
मैक्सवेल ने 65 गेंदों में 145 रन (14 चौके, 9 छक्के) की पारी खेलकर अपने ही देश के ऑलराउंडर शेन वाटसन (71 गेंद, 124 रन) को पीछे छोड़ते हुए दूसरा स्थान हासिल कर लिया. हालांकि पहले स्थान पर भी ऑस्ट्रेलिया के ही उनके साथी बल्लेबाज एरोन फिंच हैं, जिन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ 63 गेंदों में 156 रन बनाए थे. अब पहले तीन स्थानों पर ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज काबिज हैं।
हार के मामले में श्रीलंका पाकिस्तान के बराबर
मंगलवार के टी-20 में हार के साथ ही श्रीलंका ने साल में सबसे अधिक हार के मामले में पाकिस्तान की बराबरी कर ली। श्रीलंका ने इस साल 15 मैच खेले हैं, जिनमें से उसे 12 में हार मिली है। इससे पहले पाकिस्तान टीम 2010 में इतने ही मैच हार चुकी है।
श्रीलंका के नाम था तीनों फॉर्मेट में सर्वोच्च स्कोर का रिकॉर्ड
एक सप्ताह पहले तक श्रीलंकाई टीम के नाम ही वनडे, टी-20 और टेस्ट तीनों फॉर्मेट में सबसे बड़े स्कोर का वर्ल्ड रिकॉर्ड था। गौरतलब है कि 30 अगस्त को इंग्लैंड ने पाकिस्तान के खिलाफ वनडे में 444 रन बनाकर श्रीलंका का 443 रनों का वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ा था। अब मंगलवार को ऑस्ट्रेलिया ने टी-20 में उसका 260 रनों का रिकॉर्ड ध्वस्त कर दिया है. हालांकि टेस्ट मैच में 952/6 रन का वर्ल्ड रिकॉर्ड अब भी श्रीलंका के ही नाम है।
किसी बल्लेबाज का ओपनर के रूप में पहले ही मैच में पहली बार शतक
इस मैच से पहले 34 टी-20 खेल चुके ऑलराउंडर मैक्सवेल हमेशा मध्यक्रम में उतरते थे। उन्होंने अपने 35वें मैच में पहली बार ओपनिंग की और शतक जड़ दिया। इसके साथ ही वह बतौर ओपनर पहले ही टी-20 में शतक लगाने वाले पहले बल्लेबाज बन गए हैं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top