Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Asian Games 2018: किसान के बेटे सौरभ चौधरी ने जीता गोल्ड, कभी गांव के मेले में गुब्बारों पर लगाते थे निशाना

सोलह बरस के सौरभ चौधरी 10 मीटर एयर पिस्टल में विश्व और ओलंपिक चैम्पियनों को पछाड़ते हुए पीला तमगा जीतने के साथ ही एशियाई खेलों के इतिहास में स्वर्ण जीतने वाले भारत के पांचवें निशानेबाज बन गए।

Asian Games 2018: किसान के बेटे सौरभ चौधरी ने जीता गोल्ड, कभी गांव के मेले में गुब्बारों पर लगाते थे निशाना
X

सोलह बरस के सौरभ चौधरी 10 मीटर एयर पिस्टल में विश्व और ओलंपिक चैम्पियनों को पछाड़ते हुए पीला तमगा जीतने के साथ ही एशियाई खेलों के इतिहास में स्वर्ण जीतने वाले भारत के पांचवें निशानेबाज बन गए।

पहली बार सीनियर स्तर पर खेल रहे चौधरी ने बेहद परिपक्वता और संयम का परिचय देते हुए 2010 के विश्व चैम्पियन तोमोयुकी मत्सुदा को 24 शाट के फाइनल में हराया। मेरठ के कलिना गांव में एक किसान के बेटे चौधरी ने 240.7 का स्कोर किया।

इसे भी पढ़ें: बचपन में पिता की हत्या और ओलंपिक में लगी गंभीर चोट, जानें विनेश फोगाट के गोल्ड तक की दर्दभरी कहानी

चौधरी ने कुछ महीने पहले जर्मनी में जूनियर विश्व कप में रिकॉर्ड के साथ स्वर्ण पदक जीता था। एशियाई खेलों में उनसे पहले जसपाल राणा, रणधीर सिंह, जीतू राय और रंजन सोढी स्वर्ण जीत चुके हैं।

उनके बड़े भाई नितिन ने बताया कि सौरभ को बचपन से ही निशाने लगाने का शौक था। वह गांव और आसपास में लगने वाले मेलों में जाकर वहां गुब्बारों पर निशाना लगाता था और इनाम जीतता था।

11वीं के छात्र चौधरी ने बागपत के पास बेनोली में अमित शेरोन अकादमी में निशानेबाजी के गुर सीखे। घर पर वह अपने पिता की खेती बाड़ी में मदद करते हें। उन्होंने कहा- मुझे खेती पसंद है। हमें अभ्यास से ज्यादा छुट्टी नहीं मिलती लेकिन जब भी मैं गांव जाता हूं तो अपने पिता की मदद करता हूं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story